पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

कोरोना की तीसरी लहर से निपटने की तैयारी:जनाना अस्पताल के एनआईसीयू और पीआईसीयू में 2-2 नए वेंटिलेटर लगाए

भरतपुर7 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
एनआईसीयू वार्ड में स्टॉल किया गया नया वेंटिलेटर। - Dainik Bhaskar
एनआईसीयू वार्ड में स्टॉल किया गया नया वेंटिलेटर।

कोरोना की संभावित तीसरी लहर से निपटने के प्रयासों के तहत राजकीय जनाना अस्पताल के एनआईसीयू और पीआईसीयू वार्डों में 2-2 वेंटिलेटर और लगाए गए हैं। हालांकि एनआईसीयू में 2 वेंटिलेटर पहले से ही लगे हुए हैं। अब इस वार्ड में इनकी संख्या बढ़कर 4 हो गई है। इससे गंभीर नवजात शिशुओं को बचाने में मदद मिलेगी।

शिशु रोग विभागाध्यक्ष डॉ. हिमांशु गोयल ने बताया कि अभी इन वार्डों में सामान्य रोगियों का इलाज चल रहा है। अगर तीसरी लहर आई और जरूरत पड़ी तो उस समय इलाज के लिए इन वार्डों का उपयोग किया जा सकता है। इसीलिए शिशु रोग विभाग में सुविधाओं का विस्तार किया गया है। इन वार्डों में 3 सी-पैप मशीन और 24 वार्मर भी हैं। इसी तरह 6 बेड के पीआईसीयू में अब वेंटिलेटर की सुविधा भी हो गई है।

इसलिए गंभीर बीमार बच्चों को अब जयपुर अथवा आगरा रेफर नहीं करना पड़ेगा। एनआईसीयू में रोजाना औसतन 7 नवजात बच्चे भर्ती होते हैं। यहां 28 दिन तक के बच्चों का इलाज होता है। बड़े बच्चों को पीआईसीयू में रखा जाता है।

खबरें और भी हैं...