फिरौती लेने आए किडनैपर्स को बनाया बंधक:3 लोगों की फिरौती लेने आए थे, ग्रामीणों ने 18 घंटे बाद पुलिस के हवाले किया

भरतपुरएक वर्ष पहले
फिरौती लेने आये किडनैपर जिन्हें ग्रामीणों ने बंधक बना लिया।

भरतपुर जिले के कामां थाना इलाके के तीन लोगों को किडनैपर्स ने किडनैप कर लिया। तीनों को छोड़ने के लिए उनके परिजनों से फिरौती मांगी तो वे फिरौती देने के लिए तैयार हो गए। किडनैपर्स जब फिरौती लेने के लिए पीड़ित व्यक्तियों के गांव पहुंचे तो पीड़ित व्यक्तियों के परिजनों ने ग्रामीणों की मदद से किडनैपर्स को बंधक बना लिया। ग्रामीणों ने किडनैपर्स को एक कमरे में शुक्रवार शाम करीब सात बजे से बंद कर रखा था। इस घटना की सूचना जब पुलिस को मिली तो पुलिस किडनैपर्स को हिरासत में लेने और पूरे मामले की जानकारी लेने के लिए गांव पहुंची लेकिन ग्रामीणों ने किडनैपर्स को पुलिस के हवाले नहीं किया। काफी समझाने पर ग्रामीण शनिवार दोपहर दो बजे किडनैपर्स को लेकर थाने पहुंचे।

हरियाणा का नकली ASI बन की किडनैपिंग

मामला 25 नवंबर का है। कामां थाना इलाके में पालड़ी गांव के रहने वाले शब्बीर उसका बेटा मुनसेद और शब्बीर का दामाद रिश्तेदारी में हरियाणा जा रहे थे। रास्ते में उन्हें कुछ लोग मिले जिसमें से एक ने खुद को हरियाणा पुलिस का ASI बताया और तीनों को डरा धमका कर गाड़ी में बैठा कर हरियाणा के होडल इलाके में ले गए। जहां तीनों को बंधक बना कर उनकी पिटाई की गई। किडनैपर्स ने तीनों का पता पूछा और घर का नंबर लेकर उनके घर फोन किया। किडनैपर्स ने फोन पर पीड़ितों के परिजनों से तीनों लोगों को छोड़ने के एवज में 6 लाख रुपये फिरौती मांगी।

परिजनों ने किडनैपर्स को किडनैप करने का बनाया प्लान

पीड़ितों के परिजन किडनैपर्स को पैसे देने के लिए राजी हो गए। किडनैपर्स ने शब्बीर की पत्नी रुखसाना को 6 लाख रुपये लेकर कामां थाना इलाके के गांव सतवास में बुलाया। रुखसाना ने यह बात ग्रामीणों को बताई जिस पर ग्रामीणों ने प्लान बनाया की जब किडनैपर्स पैसे लेने आएंगे को उन्हें किडनैप कर अपने लोगों को छुड़वा लेंगे।

प्लान के मुताबिक किडनैपर्स रुखसाना से पैसे लेने के लिए कामां थाना इलाके के सतवास गांव पहुंचे। रुखसाना ने एक बैग में पैसों की जगह कागज के टुकड़े भरे और किडनैपर्स को देने के लिए पहुंच गई। प्लान के मुताबिक ग्रामीण भी किडनैपर्स पर घात लगाए बैठे थे। कुछ देर बात सतवास गांव पर किडनैपर्स फिरौती की रकम लेने के लिए पहुंचे। वे रुखसाना के हाथ में बैग देख रुक गए। इतने में ग्रामीणों ने किडनैपर्स को पकड़ लिया और उन्हें एक कमरे में बंद कर दिया।

किडनैपर्स को ही किया किडनैप

फिरौती की रकम लेने आए दो किडनैपर्स को ग्रामीणों ने किडनैप कर लिया। ग्रामीणों ने जब किडनैपर्स से अपने तीनों लोगों के बारे में पूछा तो उन्होंने बताया की हरियाणा के होडल इलाके में तीनों लोगों को एक दुकान के अंदर बंद कर रखा है। ग्रामीणों ने किडनैपर्स से कहा की अगर वह उनके लोगों को छोड़ेंगे तभी वह दोनों किडनैपर्स को छोड़ेंगे लेकिन कल से अब तक तीनों पीड़ितों का कुछ पता नहीं है।

पुलिस को भी लौटना पड़ा गांव से बेरंग

जब कामां पुलिस को घटना का पता लगा तो पुलिस गांव पहुंची। पुलिस ने ग्रामीणों से कहा की वह किडनैपर्स को उनके हवाले कर दें जिससे वह तीनों पीड़ितों का पता लगाकर उन्हें छुड़वा सकें, लेकिन ग्रामीणों ने किडनैपर्स को पुलिस के हवाले नहीं किया।

शुक्रवार शाम पुलिस को गांव से खाली हाथ लौटना पड़ा। शनिवार सुबह पुलिस दोबारा पालड़ी गांव पहुंची जहां किडनैपर्स को ग्रामीणों ने बंधक बना रखा था। आज सुबह भी ग्रामीणों ने किडनैपर्स को नहीं छोड़ा। काफी समझाने के बाद 18 घंटे बाद ग्रामीण दोनों किडनैपर्स को खुद थाने लेकर पहुंचे और मामला दर्ज करवाया। दोनों किडनैपर्स के नाम आमिर और मुस्ताक हैं।