पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

अवैध कब्जा:सीएफसीडी को हड़प रहे माफिया बोले- कलेक्टर और कमिश्नर की सहमति से भरवा रहे हैं मिट्‌टी

भरतपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
बहाव में काम करती जेसीबी और सड़क किनारे खड़ी दबंगों की कार (गोले में)। - Dainik Bhaskar
बहाव में काम करती जेसीबी और सड़क किनारे खड़ी दबंगों की कार (गोले में)।
  • नई मंडी श्मशान के सामने करोड़ों रुपए की जमीन पर फिर कब्जे की कोशिश, अफसरों ने मूंदी आंखें
  • चिकित्सा राज्यमंत्री डॉ. गर्ग ने दिए जमीन खाली कराकर जेसीबी और डंफर जब्त करने के निर्देश

नई मंडी के पास सर्कुलर रोड़ से लगती हुई सिटी फ्लड कंट्रोल ड्रेन (सीएफसीडी) के दायरे में आ रही 50 बाई 410 फुट बेशकीमती जमीन को खातेदारी की बताकर कुछ लोग हथियाने की कोशिश कर रहे हैं। वह भी तब जब इस जमीन का अभी तक मालिकाना हक ही तय नहीं है। तीन-तीन रेफरेंस अलग-अलग कोर्ट में पेंडिंग हैं।

नगर निगम के वकील पुष्पेंद्र सिंह के मुताबिक राजस्थान हाईकोर्ट के आदेश हैं कि पानी के प्राकृतिक बहाव को न रोका जाए। अगर उसमें कोई अतिक्रमण हैं तो उन्हें हटाया जाए। सीएफसीडी क्लियर नहीं होने से भरतपुर शहर में पहले ही बरसाती पानी के जलभराव की समस्या है। इधर, जिम्मेदारों की हालत देखिए कि नगर निगम ने एक दिन तो यहां काम रुकवाया। लेकिन अपनी संपत्ति के बोर्ड आज तक नहीं लगाए।

पिछले 10 दिन से यहां मिट्टी भरने का काम चल रहा है, लेकिन किसी ने जाकर देखा तक नहीं। यहां तक कि जिला कलेक्टर के निर्देश के बावजूद एसडीएम दामोदर सिंह ने मौके पर जाना भी उचित नहीं समझा। इधऱ, बुधवार को शहर में दौरे पर निकले चिकित्सा राज्यमंत्री डॉ. सुभाष गर्ग को जब इस मामले की जानकारी मिली तो उन्होंने जिला कलेक्टर नथमल डिडेल, नगर निगम आयुक्त नीलिमा तक्षक और यूआईटी सचिव डॉ. राजेश गोयल को इस जमीन को तुरंत खाली कराने और जेसीबी जब्त करने के निर्देश दिए।

इधऱ, जमीन पर लेवलिंग करवा रहे दबंग खुलकर जिला कलेक्टर नथमल डिडेल, नगर निगम आयुक्त नीलिमा तक्षक और यूआईटी सचिव डॉ. राजेश गोयल का नाम ले रहे हैं। उनका दावा है कि सीएफसीडी के दायरे की जमीन में मिट्टी भरकर लेवलिंग का काम इन सब लोगों की मौखिक सहमति से ही किया जा रहा है। मौके पर मिले गौरव शर्मा और शशिकांत शर्मा ने तो यहां तक दावा किया कि जिला कलेक्टर नथमल डिडेल ने उन्हें भरोसा दिलाया है कि वे जल्दी ही रेफरेंस खारिज करवा देंगे। तब तक मिट्टी की लेवलिंग कर सकते हैं। जमीन का मालिकाना हक तय नहीं, 3 रेफरेंस भी पेंडिंग, हाईकोर्ट के आदेश हैं कि पानी का बहाव क्षेत्र न रुके, फिर भी कलेक्टर के आदेश पर काम रुकवाने नहीं पहुंचे एसडीएम

निगम को पार्टी बनाए बगैर ही सैनी ने कोर्ट में जताया जमीन पर हक

सूत्रों के मुताबिक नई मंडी श्मशान के सामने सरकूलर रोड पर सीएफसीडी के दायरे में आ रही यह जमीन भरतपुर कस्बे के चक नंबर 3 में खसरा नंबर 336, 337 और 339 की खातेदारी में होने का दावा किया जा रहा है। लेकिन, इससे पहले यह जमीन राजस्व रिकॉर्ड में नगर निगम के नाम दर्ज थी। कुछ साल पहले अमरनाथ सैनी नाम के व्यक्ति ने एसडीएम कोर्ट में निगम को पार्टी बनाए बिना ही इस जमीन पर अपना हक जताते हुए दावा कर दिया। एसडीएम कोर्ट के आदेश पर तत्कालीन तहसीलदार ने रिकॉर्ड में यह जमीन सैनी की खातेदारी में चढ़ा दी।

साथ ही मौका रिपोर्ट बनाते हुए कलेक्टर के सामने रेफरेंस भी पेश कर दिया। इसमें कहा गया कि यह जमीन पानी के प्राकृतिक बहाव की है। इसलिए इसे सरकार के नाम दर्ज किया जाए। इस पर अभी जिला कलेक्टर का निर्णय आना बाकी है। दूसरी तरफ जब नगर निगम को पता चला तो उसने भी इसे अपनी जमीन बताते हुए कोर्ट के आदेश और नामांतरण के खिलाफ अपील कर दी। यह अपील भी अभी राजस्व अपील अधिकारी और संभागीय आयुक्त की कोर्ट में पेडिंग है।

एसडीएम को भेजकर काम रुकवाया; डिडेल

जमीन पर कब्जे में मेरी कोई सहमति नहीं है। कलेक्टर का नाम सब जानते हैं, इसलिए कोई कुछ भी कह सकता है। मैंने एसडीएम को मौके पर भेजकर काम रुकवा दिया है।
- नथमल डिडेल, जिला कलेक्टर

मैंने कोई काम नहीं रुकवायाः एसडीएम
^मैने बुधवार को सीएफसीडी में मिट्टी भरने के किसी काम को नहीं रुकवाया है। ना मुझे कोई सूचना थी, ना मैं पुलिस जाब्ते के साथ मौके पर गया।
- दामोदर सिंह, एसडीएम
सीधी बात; नीलिमा तक्षक, आयुक्त ननि

अतिक्रमियों पर होगी एफआईआर; आय़ुक्त सवालः एक जनवरी को सीएफसीडी में मिट्टी भराई की शिकायत पर निगम ने क्या कार्रवाई की? जवाबः उसी दिन टीम भेज काम रुकवाया था। सवालः लेकिन, वहां तो आज भी काम चल रहा है। मौके पर मौजूद लोगों का कहना है कि वे अपना पक्ष रख चुके हैं। जवाबः किसी ने अपना पक्ष नहीं रखा। मैंने राजस्व निरीक्षक को मौके पर आम सूचना का बोर्ड लगाने के निर्देश दिए थे। सवालः लेकिन, मौके पर तो आज तक किसी तरह का कोई बोर्ड नहीं लगा है? जवाबः अच्छा, लोग सही कहते हैं कि निगमकर्मियों की मिलीभगत से ही अवैध कब्जे होते हैं। मैं आज ही एफआईआर दर्ज कराने का आदेश निकालूंगी।

अवैध कब्जा रोकेंगे : गोयल

^सीएफसीडी की जमीन पर कब्जे की मैनें कोई सहमति नहीं दी। अगर वहां अवैध कब्जा है तो उस पर कार्रवाई करेंगे।
- राजेश गोयल, सचिव, यूआईटी

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आज आर्थिक योजनाओं को फलीभूत करने का उचित समय है। पूरे आत्मविश्वास के साथ अपनी क्षमता अनुसार काम करें। भूमि संबंधी खरीद-फरोख्त का काम संपन्न हो सकता है। विद्यार्थियों की करियर संबंधी किसी समस्...

    और पढ़ें