अपराध कर बच निकलना मुश्किल होगा:अपराधियों पर लगाम कसने के लिए करौली, धौलपुर और भरतपुर के पुलिस अधिकारियों की बैठक; बदमाशों की धरपकड़ के लिए चलेगा अभियान

मासलपुर (करौली)।10 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
बैठक में शामिल हुए कारैली, भरतपुर और धौलपुर जिले के पुलिस अधिकारी। - Dainik Bhaskar
बैठक में शामिल हुए कारैली, भरतपुर और धौलपुर जिले के पुलिस अधिकारी।
  • ,

एक जिले में आपराधिक गतिविधियों के बाद पुलिस से बचने के लिए सरहद से सटे दूसरे जिले में पहुंचकर अपने आपको सुरक्षित समझने वाले अपराधियों की अब खैर नहीं है। इसके लिए अपराधियों पर लगाम कसने के लिए करौली, धौलपुर और भरतपुर जिले के पुलिस अधिकारियों के साथ तीनों जिले की सरहद पर स्थित थाना प्रभारियों की बैठक हुई।

इसमें आपसी समन्वय कायम कर अपराधियों की धरपकड के लिए अभियान चलाने पर चर्चा की गई है। करौली के अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक प्रकाश चंद ने बताया कि करौली जिले के थाना मासलपुर क्षेत्र के एक तरफ धौलपुर व दूसरी ओर भरतपुर जिले की सरहद है।

ऐसे हालात में कई बार अपराधियों के खिलाफ एक जिले में पुलिस का दवाव बढने पर दूसरे जिले में अपराधियों के चले जाने की सूचना मिलती रही है। इस बात को गंभीरता से लेते हुए थाना मासलपुर से सटे थाना गढी बाजना में करौली, भरतपुर व धौलपुर जिले के पुलिस अधिकारियों की बैठक हुई।

इसमें उनके अलावा करौली जिले के थाना मासलपुर के प्रभारी शैलेन्द्र सिंह डागुर, भरतपुर जिले के अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक एडीएफ राजेन्द्र, पुलिस उप अधीक्षक बयाना अजय शर्मा, बयाना थाना प्रभारी मदनलाल, रूपवास थाना प्रभारी भोजराज, रूदावल थाना प्रभारी मनीष, धौलपुर जिला एसपी केसर सिंह, सरमथुरा पुलिस उप अधीक्षक सीताराम, नादनपुरा थाना प्रभारी वीरेन्द्र व बाडी सदर थाना प्रभारी योगेन्द्र शामिल हुए।

करौली के अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक प्रकाश चंद ने बताया कि बैठक में अपराधियों पर नकेल कसने के लिए तीनों जिले की पुलिस द्वारा अपराधियों की धरपकड के लिए संयुक्त अभियान शुरू करने पर चर्चा की गई।

साथ ही तीनों जिले के वांछित अपराधियों को पकड़ने के लिए आपसी सहयोग और समन्वय के साथ प्रयास करने के लिए कार्रवाई पर जोर दिया गया। इसमें अपराधियों की सूची को साझा करने का निर्णय किया गया है। अब एक जिले के अपराधी को दूसरे जिले में भी पुलिस की नजर से बचना मुश्किल होगा।

(रिपोर्ट: बालकिशन वर्मा)

खबरें और भी हैं...