पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

धर्म:मन बन गए मंदिर, घर मथुरा-वृंदावन

भरतपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • कारी अंधियारी रात में भयो लड्डू-गोपाल, आधी रात मथुरा और भरतपुर में हुई तेज बारिश ने धोए चरण

(प्रमोद कल्याण /किशन चतुर्वेदी) भादों की अष्टमी। काली अंधियारी रात। कड़कड़ाती बिजलियां और घनघोर बारिश। करीब 5000 साल पहले कुछ ऐसा ही माहौल था, जब कंस के कारागार में योगेश्वर श्रीकृष्ण ने अवतार लिया। रात्रि में ही जब वासुदेव जी उन्हें गोकुल लेकर गए तो भगवान के चरण धोने के लिए यमुना जी इस कदर व्याकुल थीं कि लहरें वासुदेव जी के मुंह से भी ऊपर पहुंच रही थीं। बुधवार को जन्माष्टमी की रात भी मथुरा और भरतपुर में कुछ ऐसा ही माहौल था। इस बार यमुना जी में भले ही बाढ नहीं थी। लेकिन, इंद्रदेव पूरी तरह मेहरबान थे।

अंधियारी रात। घनघोर घटाएं और तेज बारिश के बीच आधी रात को मथुरा के कंस कारागार के साथ हर घर में श्रीकृष्ण ने जन्म लिया। भले ही यमुना जी ने नहीं पखारे (धोए) हों। लेकिन, बारिश ने उनके पैर धोए। मथुरा श्रीकृष्ण जन्म भूमि, द्वारकाधीश, वृंदावन और भरतपुर के किला स्थित बांकेबिहारी जी, राधारमण जी समेत तमाम मंदिर भले ही कोरोना संक्रमण की वजह से भक्तों के लिए बंद थे। लेकिन, बृजवासियों ने अपने कान्हा का दर्शन करने के लिए मन ही मंदिर और सजावट करके अपने घर मथुरा एवं वृंदावन बना लिए। जन्माष्टमी पर्व का ऐसा उल्लास और माहौल रहा कि कहीं महसूस ही नहीं हुआ कि कोरोना संक्रमण काल का कोई असर भी है। अल सुबह से कान्हा के लिए व्रत रखने के साथ घर में ही बच्चों और महिलाओं ने मंदिरों का सजाना शुरू कर दिया था। भव्य श्रृंगार से ठाकुर जी ऐसी मनोहारी छवि निखर कर आई कि आशंका होती थी कि कहीं नजर न लग जाए। शहर की गलियों और मोहल्लों में बने मंदिरों में उतनी बंदिशें नहीं थी। बुध की हाट, मथुरा गेट, पुराना डाक खाना, वासन गेट समेत तमाम मोहल्लों के छोटे-छोटे मंदिरों में उत्साह और उल्लास था। भले ही संख्या कम हो। लेकिन, ये मंदिर स्थानीय श्रद्धालुओं से आबाद थे।

सोशल मीडिया से भक्तों ने किए दर्शन
ज्योतिषाचार्य पंडित राम भरोसी भारद्वाज ने बताया कि पिछले वर्षों के मुकाबले लोगों ने इस बार घर को ही मंदिर मानकर श्रीकृष्ण जन्मोत्सव ज्यादा उत्साह से मनाया। छोटे मंदिरों में लोगों ने ज्यादा भागीदारी की। क्योंकि जीवन को उल्लास से जीने की बृजवासियों की फितरत है। इसीलिए तो 7 वार 9 त्यौहार की कहावत बनी है। सोशल डिस्टेंस के साथ रात 12 बजे जन्मोत्सव मना। झालर-घंटे की नाद और हाथी-घोड़ा पालकी जय कन्हैया लाल की जयकारों से शहर गूंज उठा। मथुरा के कृष्ण जन्मभूमि और भरतपुर के कुछ मंदिरों से रात को कृष्ण जन्म और आरती का सोशल मीडिया पर लाइव प्रसारण भी किया गया।

रात 12 बजे बिहारी जी का यमुना जल से अभिषेक
किला स्थित बिहारीजी मंदिर में अभिषेक के लिए मथुरा से यमुना जी का जल विशेष तौर पर मंगाया गया। महंत मनोज भारद्वाज के सानिध्य में 5 वेद पाठियों ने वेद मंत्रों का सस्वर उच्चारण कर यमुना जल और पंचामृत से ठाकुरजी का अभिषेक किया। उन्हें मिंगीपाग, मालपुए और पंजीरी का भोग लगाया गया। राधारमण मंदिर में दोपहर को जन्मोत्सव अभिषेक हुआ। कमेटी उपाध्यक्ष मोहनलाल मित्तल ने बताया कि पंडित वीरेंद्र शर्मा एवं प्रेमी शर्मा ने 11 किलो पंचामृत से अभिषेक किया।

20 लाख jqके बिके लड्डू गोपाल और शृंगार सामग्री
भरतपुर| बुधवार को जन्माष्टमी पर अधिकांश लोगों ने घरों में ठाकुर जी को अच्छी तरह से सजाया। इसलिए पोषाक कारोबार में एकाएक तेजी आई। कारोबारी संजय गुप्ता कहते है कि कोरोना के कारण लग रहा था कि इस बार मंदी रहेगी। लेकिन, लोगों के उत्साह ने मंदी को दरकिनार कर दिया। लड्डू गोपाल, हिंडोला, पोशाक, मुकुट, कुंडल, माला, तिलक, अंखियन, मंजीर, बांसुरी, फूल बंगला, घंटी, झालर, पूजा थाली, ठाकुरजी के कूलर, एसी, मच्छरदानी सहित बच्चों की श्रीकृष्ण पोशाक के काराेबार ने आर्थिक सन्नाटे को तोड़ दिया। विक्रेता ओमप्रकाश गुप्ता ने बताया कि दो दिन में करीब 20 लाख से ज्यादा का कारोबार होने का अनुमान है।

0

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- लाभदायक समय है। किसी भी कार्य तथा मेहनत का पूरा-पूरा फल मिलेगा। फोन कॉल के माध्यम से कोई महत्वपूर्ण सूचना मिलने की संभावना है। मार्केटिंग व मीडिया से संबंधित कार्यों पर ही अपना पूरा ध्यान कें...

और पढ़ें