टैंपरेचर का टॉर्चर:47 डिग्री पार मानसून 24 दिन पहले आएगा, एक सप्ताह बाद 23 मई से बन रहे आंधी और बारिश के योग

भरतपुर2 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

टैंपरेचर का टॉर्चर जारी है। शनिवार को दिन का तापमान 0.2 डिग्री और बढ़कर 47.2 डिग्री सेल्सियस तक पहुंच गया। यह पिछले 7 साल में सबसे ज्यादा है। वहीं हवा में नमी की मात्रा घटकर 45.9 प्रतिशत ही रह गई है। लेकिन, खुश खबर यह है कि इस बार राहत की बारिश 24 दिन पहले होगी। यानि समय से पहले जून के दूसरे सप्ताह में मानसून भरतपुर में प्रवेश कर जाएगा। मौसम विभाग ने दक्षिण-पश्चिमी मानसून केरल तट पर 27 मई तक आने की संभावना जताई है। यहां से मानसून को भरतपुर पहुंचने 24 दिन लगते हैं। इसलिए 16 से 18 जून के बीच मानसून की एंट्री हो सकती है।

माैसम विशेषज्ञ आरके सिंह बताते हैं कि मई के पहले पखवाड़े में सूरज के तेवर तल्ख हैं। हवा में नमी कम है। यह स्थिति मानसून के लिए अनुकूल है। इस साल सामान्य बारिश 96-104% होने की संभावना है। भरतपुर में औसत बारिश 583 एमएम है। इस साल 640 एमएम को क्रास करने की संभावना है।

प्रदेश का औसत 415 एमएम है। नदबईः भीषण गर्मी की वजह से बाजारों में सुबह 10 बजे से ही सन्नाटा पसरने लगा है। शाम को 6 बजे बाद बाजारों में कुछ रौनक दिखती है। तेज गर्मी की वजह से शीतल पेय और पदार्थों की डिमांड में इजाफा है। कूलर, पंखे, फ्रिज और एसी जैसे इलेक्ट्रॉनिक आयटमों की मांग भी निकल रही है।

घना में नेस्टिंग के लिए आए परिंदे, प्री-मानसून जल्द आने के संकेत
केवलादेव राष्ट्रीय पक्षी घना उद्यान में पेंटेड स्टॉर्क और ओपन बिल जैसे परिंदों की सक्रियता बढ़ गई और वे समूह में दिखने लगे हैं। पक्षी विशेषज्ञ डीडी शर्मा बताते हैं कि ये प्री- मानसून जल्द आने का संकेत है। क्योंकि ये पक्षी ऐसे मौसम में ही नेस्टिंग करते हैं।

भरतपुर में कब-कब आया मानसून...
वर्ष - तारीख
2014 - 26 जून
2015 - 16 जुलाई
2016 - 14 जुलाई
2017 - 23 जुलाई
2018 - 17 जुलाई
2019 - 14 जुलाई
2020 - 20 जुलाई
2021 - 11 जुलाई

ज्याेतिष....23 मई से आंधी और बरसाज का याेग
ज्योतिषी मनु मुदगल के मुताबिक सूर्य 15 मई को सुबह 9.13 बजे मेष से वृष राशि में प्रवेश करेंगे। सूर्य 17 मई को सुबह 9:26 से कुंभ से मीन राशि में और 23 मई को सुबह 10:42 पर मीन से मेष में प्रवेश करेंगे। इन तीनों ग्रहों के राशि परिवर्तन से लू, आंधी और बारिश के योग हैं। सूर्य मंगल और कुंभ से मीन में पहुंचेगा तो बारिश के योग बनेंगे। इसी दौरान 25 मई से नौतपा शुरू होगा।

बयानाः अघोषित कटौती से गहरा रहा पेयजल संकट
बयाना उपखंड क्षेत्र में भी सुबह से ही सूर्य के तेवर तीखे होने लगते हैं। लू के थपेड़े से लोग बेहाल हैं। दोपहर से पहले ही सड़कें सूनी नजर आने लगती हैं। वेदर एक्सपर्ट्स के मुताबिक अगले 48 घंटे भीषण गर्मी से राहत की उम्मीद नहीं है। तेज गर्मी से मौसमी बीमारियां चरम पर हैं। फल-सब्जियां झुलसने लगी हैं। इंसानों के साथ-साथ पशु-पक्षियों का व्यवहार भी बदला हुआ नजर आ रहा है। खपत बढ़ने से अघोषित बिजली कटौती जमकर हो रही है। इससे ग्रामीण क्षेत्रों में पेयजल संकट गहराने लगा है।​​​​​​​

खबरें और भी हैं...