पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

हादसा:बाबू महाराज के दर्शन करने जा रहे मां-बेटे को गलत दिशा से आए ट्रैक्टर ने कुचला, मौत

भरतपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
पोस्टमार्टम हाउस पर मौजूद परिजन।
  • एनएच 3 पर डंडोली के पास की घटना, भतीजों ने पीछा किया तो ट्रैक्टर छोड़ भागा चालक

राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या तीन पर डंडोली मोड़ के पास गलत साइड से आ रहे एक ट्रैक्टर ने सड़क किनारे खड़ी बाइक एवं उसके पास खड़े मां-बेटा को टक्कर मार दी जिससे मां-बेटे गंभीर रूप से घायल हो गए। इस दुर्घटना की सूचना मिलने पर मौके पर पहुंची 108 एंबुलेंस की मदद से दोनों घायलों को जिला अस्पताल के ट्रॉमा सेंटर में भर्ती कराया।

जहां चिकित्सकों ने स्वास्थ्य परीक्षण कर मां-बेटे को मृत घोषित कर दिया। पुलिस ने घटना से मृतक के परिजनों को अवगत कराया। मां-बेटे की मौत की खबर सुनकर परिजनों में कोहराम मच गया। पुलिस ने मां-बेटे के शव कब्जे में लेकर जिला अस्पताल की मोर्चरी में रखवाया जहां सोमवार को सुबह दोनों के शवों का पोस्टर्माटम कराकर परिजनों को सौंप दिया। इस मामले में मृतका के पति शिवजी ने पुलिस में रिपोर्ट दर्ज कराई है।

शिवजी पुत्र ईश्वरलाल निवासी कैलाशपुरा थाना मनियां ने पुलिस में दर्ज कराई रिपोर्ट में बताया कि वह रविवार को अपनी पत्नी एवं बेटे को लेकर गांव से बाइक पर बदरैठा खेरली बाबू महाराज के दर्शनों के लिए जा रहे थे। उनके साथ दूसरी बाइक पर उनका भतीजा भरत और सोनू भी साथ था।

शिवजी ने बताया कि जब वे हाइवे संख्या तीन पर स्थित गांव डंडोली के पास पहुंचे तो उन्होंने अपनी बाइक सड़क किनारे रोक दी और लघुशंका के लिए चले गए। इस दौरान उनकी पत्नी मीरा और बेटा श्रीधर वहीं बाइक के पास खड़े हो गए।

इस बीच वहां पहुंचे उनके भतीजे भरत और सोनू ने उनकी बाइक खड़ी देख थोड़ी दूर पर ही अपनी बाइक भी रोक ली। शिविजी ने बताया कि जब वे लघुशंका से वापस आ रहे थे तो उसी दौरान बिना नंबर का एक ट्रैक्टर को चालक तेज गति व लापरवाही से चलाते हुए आया और उसने उनकी बाइक समेत पत्नी मीरा व बेटे श्रीधर को कुचल दिया।

दुर्घटना में दोनों जने गंभीर रूप से घायल हो गए। घटना के बाद ट्रैक्टर चालक वाहन को तेज गति से चलाते हुए मौके से भाग निकला। इधर, जब भरत और सोनू ने ट्रैक्टर का पीछा करना शुरू कर दिया। जब चालक ने देखा कि कोई उसका पीछा कर रहा है तो वह गांव भानपुर में अपने ट्रैक्टर को एक जगह खड़ा कर भाग निकला। इस बीच वहां पहुंचे भरत और सोनू ने जब ग्रामीणाें से ट्रैक्टर और उसके चालक के बारे में जानकारी ली तो ग्रामीणों ने बताया कि ट्रैक्टर भवानी सिंह पुत्र जसमंत सिंह निवासी भानपुर का है।

शॉर्ट कट के लिए ग्रामीणों ने हाइवे के डिवाइडरों पर लगाए कट भी दुघर्टना का कारण
एनएचएआई की ओर से हाइवे पर बने डिवाडर पर धौलपुर से बरैठा तक स्थानीय लोगों ने अपनी सुविधा के हिसाब से जगह-जगह कट लगा रखे हैं। वे गांव में जाने के लिए इन कट से होकर दुपहिया वाहन चालक निकलते रहते है। वहीं हाइवे पर चालक अपने वाहनों को तेज गति से चलाते हैं, जिसके चलते हमेशा दुर्घटना की आशंका बनी रहती है।

जिसमें लाडमपुर मोड एवं पुलिस उपाधीक्षक कार्यालय के सामने सहित कई जगहों पर डिवाडर पर कट हो रहे है। ऐसे में दुपहिया वाहन चालक अचानक उन कटों से होकर हाईवे पर निकलते है ऐसे में जेत गति से आने वाले वाहन चालक वाहन को कंट्रोल नही कर पाते है जिससे दुर्घटनाएं होती रहती हैं। ऐसी ही घटना पूर्व में सीओ कार्यालय के सामने भी हो चुकी है जिसमें दो लोगों को मौत हुई थी।

हाइवे पर गलत दिशा से आने वाले वाहनों को राेकने की नहीं है व्यवस्था
नेशनल हाइवे तीन के आसपास स्थित गांवों में जाने के लिए स्थानीय लोग अकसर अपने वाहनों को गलत दिशा में चलाकर लाते हैं। इसके चलते हाइवे पर कई बार दुर्घटनाएं हो चुकी हैं। इसके बावजूद भी न तो एनएचएआई प्रशासन की ओर से इन्हें रोकने की कोई व्यवस्था की गई और न ही कोई ऐसा तरीका निकालने का प्रयास किया गया, जिससे इन हादसों पर रोक लगाई जा सके। यही नहीं रांग साइड से चलने वाले वाहनों पर पुलिस और परिवहन विभाग द्वारा भी कोई कार्रवाई नहीं की जाती है।

हाइवे पर आवारा घूमने वाले मवेशियों से भी हो चुके हैं हादसे
नेशनल हाइवे तीन पर घूमने वाले मवेशी भी कई बार बड़े हादसों का सबब बन चुके हैं। इसके बावजूद भी अब तक इन पर नियंत्रण के लिए एनएचएआई प्रशासन द्वारा न तो कोई योजना बनाई गई और न ही इन्हें हाइवे पर आने से रोकने के लिए कोई उपाय किए गए। गर्मी और बरसात के मौसम में ये मवेशी हाइवे पर झुंड बनाकर बैठे रहते हैं, जिस वजह से दुर्घटनाएं होती हैं।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- परिस्थिति तथा समय में तालमेल बिठाकर कार्य करने में सक्षम रहेंगे। माता-पिता तथा बुजुर्गों के प्रति मन में सेवा भाव बना रहेगा। विद्यार्थी तथा युवा अपने अध्ययन तथा कैरियर के प्रति पूरी तरह फोकस ...

और पढ़ें