पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

अनुमति:अब बिना बैटरी के भी खरीद सकेंगे इलेक्ट्रिक वाहन, करा सकेंगे पंजीकरण

भरतपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • इलेक्ट्रिक वाहनों की बिक्री को बढ़ावा देने के लिए सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय ने दी अनुमति

अब सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय ने इलेक्ट्रिक वाहनों की बिक्री को बढ़ावा देने के बड़ा फैसला लिया है। अब बिना प्री-फिटेड बैटरी के इलेक्ट्रिक वाहन की बिक्री और रजिस्ट्रेशन की अनुमति दी है। जारी आदेश के मुताबिक इलेक्ट्रिक दोपहिया और थ्री-व्हीलर वाहन की बिक्री और रजिस्ट्रेशन बिना बैटरी के भी हो सकेगा। इलेक्ट्रिक वाहन की कुल लागत में बैटरी की कीमत 30 से 40 फीसदी होती है। सरकार के फैसले से इन वाहनों की अपफ्रंट कॉस्ट कम हो जाएगी।

मंत्रालय ने सभी राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों के परिवहन सचिवों को लिखे पत्र में स्पष्ट किया है कि टेस्ट एजेंसी द्वारा जारी किए गए प्रकार अनुमोदन प्रमाण पत्र के आधार पर बिना बैटरी के वाहनों को बेचा और पंजीकृत किया जा सकता है। इसके अलावा रजिस्ट्रेशन के उद्देश्य के लिए मेक/ टाइप या बैटरी के किसी अन्य विवरण को निर्दिष्ट करने की आवश्यकता नहीं है। हालांकि इलेक्ट्रिक व्हीकल के प्रोटोटाइप और बैटरी (नियमित बैटरी या स्वैपेबल बैटरी) को केंद्रीय मोटर वाहन नियम, 1989 के नियम 126 के तहत निर्दिष्ट परीक्षण एजेंसियों द्वारा अनुमोदित किया जाना आवश्यक है।

केंद्रीय मोटर वाहन नियम, 1989 के तहत राज्यों/केंद्रशासित प्रदेशों को संबंधित फॉर्मों को ध्यान में रखने की भी आवश्यकता होगी। इसके लिए नियम 47 के तहत मोटर वाहन पंजीकरण के लिए आवश्यक (मोटर वाहनों के पंजीकरण के लिए आवेदन) फॉर्म-21 (बिक्री प्रमाण पत्र), फॉर्म-22 (निर्माता द्वारा जारी सड़क योग्यता प्रमाण पत्र) और फॉर्म-22-ए (मोटर वाहनों के लिए जारी किया गया सड़क योग्यता प्रमाण पत्र, जहां ढ़ाचे का अलग-अलग निर्माण किया जाता है), में स्पष्ट रूप से इंजन संख्या/मोटर संख्या को इंगित (बैटरी संचालित वाहनों के मामले में) करना आवश्यक हैं।

सरकार देश में विद्युत माध्यम से परिवहन में गति लाने के लिए एक पारिस्थितिकी तंत्र बनाने का प्रयास कर रही है। यही समय है जब हम इस दिशा में एकसाथ कार्य करके व्यापक स्तर पर वाहनों से होने वाले प्रदूषण और तेल आयात को कम करने के राष्ट्रीय एजेंडे के लक्ष्य को हासिल कर सकते हैं। यह न केवल पर्यावरण की सुरक्षा और तेल आयात व्यय को कम करेगा, बल्कि सनराईज़ उद्योग को नए अवसर भी प्रदान करेगा। दो पहिया और तिपहिया विद्युत वाहनों को बढ़ावा देने के लिए, वाहन लागत से बैटरी की लागत (जो कुल लागत का 30-40 प्रतिशत होती है) को हटाने की सिफारिशें मंत्रालय से की गईं। तब वाहनों को बैटरी के बिना भी बाजार में बेचा जा सकता है।

इससे इलेक्ट्रिकल 2 व्हीलर (2डब्ल्यू) और 3 व्हीलर्स (3डब्ल्यू) की मुख्य लागत आईसीई 2 और 3डब्ल्यूसे कम होगी। बैटरी को ओईएम या ऊर्जा सेवा प्रदाता द्वारा अलग से प्रदान किया जा सकता है। इस संबंध में जिला परिवहन अधिकारी सत्यप्रकाश शर्मा ने बताया कि आदेश मिलने के बाद पालना कराई जाएगी।

0

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- समय की गति आपके पक्ष में रहेगी। सामाजिक दायरा बढ़ेगा। पिछले कुछ समय से चल रही किसी समस्या का समाधान मिलने से राहत मिलेगी। कोई बड़ा निवेश करने के लिए समय उत्तम है। नेगेटिव- परंतु दोपहर बाद परिस...

और पढ़ें