पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

कोरोना का खतरा अब भी बरकरार:झील का बाड़ा कैलादेवी मेला नहीं भरेगा, पैदल यात्राओं की मनाही; 12 से 27 अप्रैल तक होना था लक्खी मेला

भरतपुर/ बयानाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
झील का बाड़ा कैला माता। - Dainik Bhaskar
झील का बाड़ा कैला माता।

कोरोना की दूसरी लहर को देवस्थान विभाग ने गंभीरता से लिया है। इसलिए 18 से 27 अप्रैल तक होने वाले झील का बाड़ा लक्खी मेले का आयोजन नहीं होगा। ऐसा लगातार दूसरी साल हुआ है। देवस्थान विभाग के सहायक आयुक्त (एसी) केके खंडेलवाल ने इसकी पुष्टि की है।

एसी ने बताया कि कैलादेवी करौली का मेला स्थगित हो गया है, इसलिए झील का बाड़ा कैलादेवी मेला भी नहीं भरेगा। इसके साथ ही पैदल यात्राओं पर भी रोक लगा दी गई है। करीब 50 से 60 हजार यात्री पदयात्रा करते हुए आते हैं। लोक मान्यता है कि करौली स्थित कैला माता का मूलस्वरूप झील का बाडा मंदिर में है। माता की प्रतिमाएं प्राकट्य हैं।

अर्थात इनका निर्माण नहीं किया गया, बल्कि पहाड़ों से स्वतः ही पैदा हुई है जिन्हें बाद में मंदिर के रूप में प्रतिष्ठित किया गया, इसलिए झील का बाड़ा कैलादेवी माता की भी पूर्वी राजस्थान सहित उत्तर प्रदेश, मध्यप्रदेश, हरियाणा, गुजरात, दिल्ली में काफी मान्यता है और चैत्र माह में लगने वाले मेले में लाखों श्रद्धालु दर्शन को आते हैं।

मेले में करीब 20 हजार से ज्यादा मुंडन और जात अनुष्ठान होते हैं। सहायक आयुक्त ने बताया कि मेले में 5 लाख से ज्यादा लोग शिरकत करते रहे हैं। कोरोना संक्रमण के दूसरे प्रसार को देखते हुए मेले पर रोक लगाई गई है। मेले में वर्ष 2019 में 316 दुकानें आवंटित की गई थीं।

रिपोर्ट: प्रमोद कल्याण

खबरें और भी हैं...

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- दिन सामान्य ही व्यतीत होगा। कोई भी काम करने से पहले उसके बारे में गहराई से जानकारी अवश्य लें। मुश्किल समय में किसी प्रभावशाली व्यक्ति की सलाह तथा सहयोग भी मिलेगा। समाज सेवी संस्थाओं के प्रति ...

और पढ़ें