सीकरी / जिस मामले में रिश्वत मांगी, उसकी जांच सीकरी एसएचओ खुद कर रहे थे, अब शक के दायरे में

X

  • टेप रिकॉर्डर और रिश्वत की रकम और छीन भागने वाले सिपाही का नहीं लगा सुराग

दैनिक भास्कर

Jul 01, 2020, 04:00 AM IST

भरतपुर. एसीबी कार्रवाई के दौरान सोमवार शाम भागे कांस्टेबल दुलीचंद का मंगलवार को भी पता नहीं लग सका। पुलिसकर्मी जिस व्यक्ति से रिश्वत ले रहा था, उससे संबंधित मुकदमे की जांच थाना प्रभारी के पास है। इसलिए इसमें एसएचओ की भूमिका भी संदेह में है। इधर, मंगलवार को सीकरी थाने में सन्नाटा पसरा रहा। वहीं, दूसरी ओर एसीबी की ओर से दर्ज कराए गए मुकदमे की जांच अब नगर एसएचओ को सौंपी गई है।

पुलिस अधिकारियों के अनुसार परिवादी रफीक और उसके परिजनों के खिलाफ सीकरी थाने में घर में घुसकर छेड़छाड़ और मारपीट करने का मामला दर्ज है। इसकी जांच एसएचओ हरिमन मीणा कर रहे हैं। इसमें राहत देने के लिए कांस्टेबल दुलीचंद के जरिए रफीक से रिश्वत मांगी गई थी। रफीक ने जयपुर एसीबी में शिकायत कर दी। इसके सत्यापन की जिम्मेदारी एएसपी हिमांशु वर्मा को सौंपी गई थी।

एडिशनल एसपी ने रफीक के भाई सद्दाम के साथ कांस्टेबल प्रदीप को सत्यापन के लिए सीकरी भेजा। लेकिन, सत्यापन के दौरान दुलीचंद को शक हो गया। उसने सद्दाम को थाने लाकर तलाशी ली। सद्दाम के पास 34 हजार रुपए, मोबाइल और एसीबी का टेप रिकॉर्डर मिला। जिन्हें छीनकर वह भाग गया था। एसीबी एएसपी हिमांशु वर्मा ने बताया कि एसीबी को सीकरी थाने में कांस्टेबल के माध्यम से रिश्वत मांगने की शिकायत मिली थी। जिसकी सत्यापन कार्यवाही के दौरान यह घटना हो गई।

मैंने न तो रिश्वत मांगी और न ही किसी को कहा 

रफीक से संबंधित मुकदमे का अनुसंधान मेरे पास ही है। लेकिन, कांस्टेबल दुलीचंद ने किस मामले में रिश्वत मांगी यह तो वही बता सकता है। मैंने ना तो रिश्वत मांगी और ना ही किसी अन्य पुलिसकर्मी को ऐसा करने के लिए कहा था।
- हरिमन मीणा, एसएचओ, सीकरी थाना

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना