पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

मौत की वजह वैक्सीन ?:शुगर, बीपी और अस्थमा पीड़ित एएनएम की वैक्सीन लगवाने के 20 घंटे बाद मौत

भरतपुर3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • राजस्थान में अब तक 3.25 लाख लोगों को लग चुकी है वैक्सीन, अब तक मौत की पुष्टि नहीं
  • मौत हार्ट अटैक से हुई, पोस्टमार्टम रिपोर्ट से साफ हो जाएगा, विसरा जयपुर भेजा- सीएमएचओ
  • वे बीमार थीं, इसलिए उन्हें नहीं लगनी चाहिए थी वैक्सीन, टीके से ही हुई मौत- केशव वशिष्ठ,भतीजा

राजकीय जनाना अस्पताल में कार्यरत एएनएम ज्ञानवती वशिष्ठ की शनिवार सुबह तबीयत बिगड़ने से मौत हो गई। डायबिटीज, अस्थमा और बीपी से पीड़ित ज्ञानवती ने एक दिन पहले ही कोरोना वैक्सीन लगवाई थी। उनके भतीजे केशव वशिष्ठ का आरोप है कि वैक्सीनेशन के बाद यानि शुक्रवार रात से ही उनकी तबीयत खराब थी।

सुबह जब वे उन्हें जनाना अस्पताल लेकर आए तो कुछ देर बाद ही उनकी मौत हो गई। इसलिए आशंका है कि उनकी मृत्यु इस वैक्सीन के कारण ही हुई, क्योंकि उन्हें हाइपर टेंशन, डायबिटीज और अस्थमा जैसी बीमारियां थीं। उन्हें वैक्सीन लगना ही नहीं चाहिए।

इसकी उच्च स्तरीय जांच के लिए उन्होंने मथुरा गेट थाना प्रभारी को लिखित शिकायत भी दी है। उल्लेखनीय है कि राजस्थान में अब तक करीब 3.25 लाख हेल्थ वर्करों को कोविशील्ड वैक्सीन लग चुकी है। लेकिन, अभी तक इससे किसी की मौत होने की आधिकारिक तौर पर पुष्टि नहीं हुई है। सीएमएचओ डॉ. कप्तान सिंह ने बताया कि 57 वर्षीय एएनएम ज्ञानवती वशिष्ठ लंबे समय से शुगर, बीपी, हृदय रोग और अस्थमा पीड़ित थीं। 29 जनवरी को सुबह 10.59 बजे तय प्रोटोकॉल के मुताबिक वैक्सीन लगाया गया था।

अब तक 7223 को लग चुका है वैक्सीन, कोई साइड इफेक्ट नहीं

भरतपुर जिले में अब तक 7 हजार 223 हेल्थ वर्करों को कोविशील्ड वैक्सीन लगाई जा चुकी है। 16 जनवरी से शुरू हुए इस देश व्यापी अभियान के दौरान जिले में अभी तक एक भी ऐसा केस रिपोर्ट नहीं हुआ है, जिसमें कोरोना वैक्सीन को कोई गंभीर साइड इफेक्ट दिखे हों। आरसीएचओ के मुताबिक जिले में 31 जनवरी तक 13050 हेल्थ वर्करों को वैक्सीन लगाने का लक्ष्य है। इनमें से 12373 का वैक्सीनेशन कार्यक्रम जारी हो चुका है। लेकिन, कम संख्या में हेल्थ वर्कर आने से अभी 7223 को ही वैक्सीन लग पाई है।
रात को बिगड़ी तबियत : केशव
केशव वशिष्ठ ने बताया कि उनकी ताईजी जनाना अस्पताल में एएनएम थीं। 29 जनवरी को सुबह 11-11.30 बजे कोरोना वैक्सीन लगवाई। कुछ देर बाद वे घर आ गईं। लेकिन, रात में उनकी तबीयत खराब होने लगी। सुबह करीब 8 बजे जब ज्यादा तबीयत बिगड़ी तो अस्पताल लेकर आए। जहां कुछ देर बाद ही उनकी मृत्यु हो गई। जयपुर से आने के बाद जब हमने उनका मोबाइल चैक किया तो उसमें भी वैक्सीन टीका लगाए जाने का मैसेज था। उनकी मौत वैक्सीनेशन के कारण ही हुई है।
एक्सपर्ट व्यू

वैक्सीन से मौत संभव नहीं, हार्ट अटैक की आशंका : डाॅ. गुप्ता

  • कोरोना वैक्सीन से मौत संभव नहीं है। इसके बाद वैक्सीन एंटी बॉडी बनाना शुरू कर देती है। इससे इम्युनिटी बढ़ने लगती है। चूंकि मृतक एएनएम डायबिटीज, बीपी और अस्थमा की रोगी थी। इसलिए आशंका यही है कि उसकी मौत हार्ट अटैक से हुई हो। सर्दी में साइलेंट अटैक के चांस कई गुना बढ़ जाते हैं। पोस्टमार्टम रिपोर्ट से ही वास्तविक स्थिति पता चलेगी। - डाॅ. मुकेश गुप्ता, विभागाध्यक्ष, मेडिकल कालेज भरतपुर
खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- कुछ रचनात्मक तथा सामाजिक कार्यों में आपका अधिकतर समय व्यतीत होगा। मीडिया तथा संपर्क सूत्रों संबंधी गतिविधियों में अपना विशेष ध्यान केंद्रित रखें, आपको कोई महत्वपूर्ण सूचना मिल सकती हैं। अनुभव...

    और पढ़ें