पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

पितृ मोक्ष अमावस्या:भूले-बिसरे पूर्वजों का आज करें तर्पण, पितृ मित्र पौधे लगाएं

भरतपुर2 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • धर्म-ग्रंथों के अनुसार पितृ पक्ष में लगाए पेड़-पौधे सकारात्मक ऊर्जा देते हैं

श्राद्ध पक्ष 17 सितंबर को संपन्न हो जाएंगे। गुरुवार को सर्व मोक्ष अमावस्या है। यानी अंतिम दिन सभी ऐसे भूले-बिसरे और अज्ञात पितरों का तर्पण करें। उनके निमित्त अग्यारी कर भोज निकाल कर पंच बलि दें, जिससे उनकी आत्मा को शांति मिल सके। इसलिए श्राद्ध पक्ष के अंतिम दिन तर्पण के साथ खीर-पूड़ी और उड़द दाल से बने पकवान की पंच बलि निकालने का विधान है। इसलिए इसे सर्व पितृ अमावस्या श्राद्ध कहा गया है।

ज्योतिषाचार्य राम भरोसी भारद्वाज ने बताया कि श्राद्ध पक्ष में पितरों को तर्पण, पिंडदान और ब्राह्मण भोजन के साथ ही पौधे लगाकर संतुष्ट करना चाहिए। क्योंकि पेड़-पौधे सकारात्मक उर्जा देते हैं। इसलिए धर्म-ग्रंथों में बताए गए शुभ पेड़-पौधे पितृ पक्ष में लगाए जाएं तो उनका आशीर्वाद मिलता है।

श्राद्ध पक्ष में पितृ तर्पण से जातक के जीवन में शां‍ति और परिवार को सकारात्मक ऊर्जा मिलती है। इस दिन पीपल का पौधा भी लगाना चाहिए। क्योंकि पीपल को पितृ मित्र वृक्ष कहा गया है। इसमें देवी- देवताओं के साथ पितरों का भी वास होता है। इसके अलावा बरगद, नीम, अशोक, बिल्व पत्र, तुलसी, आंवला और शमी का पेड़ लगाने से पर्यावरण को साफ रखने में तो मदद मिलती ही है। पितरों के साथ देवता भी प्रसन्न होते हैं।

शास्त्रों में भी है पेड़ों का महत्व

बरगद : यह आयु और मोक्ष देने वाला पेड़ माना गया है। बरगद के पेड़ को ही साक्षी मानकर माता सीता ने राजा दशरथ के लिए पिंडदान किया था। बरगद पर जल चढ़ाकर परिक्रमा करने से पितर प्रसन्न होते हैं।
अशोक : इस पेड़ को शुभ माना गया है। इसमें भी भगवान विष्णु का वास होता है। इसे लगाने और इसकी पूजा करने से पितृ देवता संतुष्ट और प्रसन्न होते हैं।
बिल्वपत्र : इस पेड़ में देवी लक्ष्मी और पत्तों में भगवान विष्णु का वास होता है। भगवान विष्णु की पूजा से पितृ प्रसन्न होते हैं। इस पेड़ पर भी दूध में गंगाजल मिलाकर चढ़ाना चाहिए।
तुलसी : यह पौधा लगाने और इसकी पूजा से भगवान विष्णु प्रसन्न होते हैं। भगवान विष्णु के प्रसन्न होने से पितर भी संतुष्ट हो जाते हैं। इसलिए तुलसी का पौधा पितृपक्ष में लगाना चाहिए। तुलसी में रोज जल डालने से भी पितृ प्रसन्न होते हैं।
पीपल : पीपल को पवित्र माना गया है। पुराणों के अनुसार इसमें पितरों का वास होता है। इसलिए पीपल के पेड़ पर दूध में पानी और तिल मिलाकर चढ़ाना चाहिए। इससे पितर संतुष्ट होते हैं।

0

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव - आज उन्नति से संबंधित शुभ समाचार की प्राप्ति होगी। धार्मिक और आध्यात्मिक कार्यों में भी कुछ समय व्यतीत होगा। किसी विशेष समाज सुधारक का सानिध्य आपके अंदर सकारात्मक ऊर्जा उत्पन्न करेगा। बच्चे त...

और पढ़ें