लड़का कहता था-दादी की आत्मा आती है, तुम गंदे हो:ताऊ ने चाकू से गला काट दिया; फंदे पर लटकाकर बोला-सुसाइड किया

भरतपुरएक महीने पहले

20 साल का लड़का योगेश। जिसके माता-पिता दोनों का निधन हो चुका था। ताऊ और रिश्तेदारों को ही अपना मानता था। उन्हीं ने योगेश को घर में चाकू से बुरी तरह गला रेत कर मार डाला। फिर मर्डर को सुसाइड का रूप देने के लिए उसकी डेडबॉडी को रस्सी से खींचकर फंदे से लटका दिया। कारण इतना था कि मृतक यह कहता था कि मुझ में दादी की आत्मा आती है और वो कहती है तुम गंदे हो। इसी बात को लेकर झगड़ा हुआ और मर्डर कर दिया। मामला भरतपुर के कुम्हेर कस्बे के नाहरगंज मोहल्ले की है। घटना 3 नवंबर रात 1 बजे की है, जिसका कुम्हेर पुलिस ने रविवार शाम खुलासा किया। कुम्हेर थाना इंचार्ज हिमांशु शेखावत ने बताया कि परिवार के लोगों ने योगेश (20) का मर्डर कर दाह संस्कार कर दिया था। मोहल्ले वालों ने पुलिस को सूचना दी। इसके बाद बीट कॉन्स्टेबल नाहर सिंह को भेजा तो परिवारवालों ने बताया कि योगेश ने सुसाइड किया है। गले पर चाकू के कट के बारे में पूछा तो उन्होंने कहा कि वे इस बारे में कुछ नहीं जानते। नाहर सिंह को उन पर शक हो गया।

पुलिस ने दर्ज की एफआईआर

कुम्हेर थाना इंचार्ज हिमांशु शेखावत ने बताया कि नाहर सिंह की रिपोर्ट पर पुलिस ने संज्ञान लिया और मामले की पड़ताल की। पुलिस चाहती थी कि योगेश की मौत को लेकर परिवार के लोग एफआईआर दर्ज कराएं। लेकिन वे एफआईआर दर्ज नहीं कराना चाहते थे। इससे शक बढ़ गया। इसके बाद पुलिस ने संज्ञान लेकर मामले की जांच की। सबूत जुटाए। मोहल्ले वालों और पड़ोसियों से बात की।

अनाथ था योगेश, दादी की मौत के बाद सदमे में था

पता चला कि योगेश की मां का निधन 12 साल पहले हो गया था। 4 साल पहले पिता की भी मौत हो गई। योगेश का कोई करीबी था तो उसकी दादी। लेकिन इसी साल मार्च 2022 में दादी का भी निधन हो गया। योगेश को सदमा लगा। जुलाई-अगस्त से योगेश की हरकतों में एक बदलाव आया। वो अक्सर कहता था कि उसमें दादी की आत्मा आती है। दादी की आत्मा कहती है कि ताऊ और रिश्तेदार गंदे हैं। वे घर में गंदगी फैला रहे हैं। इस बात को लेकर बात इतनी बढ़ी कि ताऊ और चचेरे भाई ने योगेश का चाकू से मर्डर कर दिया। पुलिस ने मर्डर का खुलासा कर एक आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है।

घर में कौन-कौन था
योगेश मजदूरी करता था। उसके माता पिता का निधन हो चुका था। घर में उसके अलावा उसके दो ताऊ का परिवार भी रहता था। कुछ महीने पहले दादी रामरती का निधन हो गया था। रामरती ने ही माता-पिता की मौत के बाद योगेश का लालन-पालन किया था। योगेश घर के आगे के हिस्से में रहता था। बीच के हिस्से में ताऊ ध्रुव सिंह और उसका परिवार रहता था। जबकि पीछे के हिस्से में दूसरा ताऊ अमरचंद और उसका परिवार रहता था। अमरचंद फरीदाबाद में नौकरी करता था। दीपावली पर वह घर आया था और यहीं सेटल हो गया था। अमरचंद की पत्नी कमलेश और योगेश की मां सगी बहनें थीं। इस तरह कमलेश योगेश की ताई भी थी और मौसी भी। दादी के निधन के बाद कमलेश ही योगेश का खाना बनाती थी।

कमरे में सोने की बात पर चचेरे भाइयों से झगड़ा

ध्रुव सिंह और अमर सिंह के बेटे योगेश के कमरे में सोया करते थे। 3 नवंबर की रात दोनों ताऊ के बेटे कमरे में सोने आए तो योगेश ने कहा कि उसे दादी की आत्मा दिखाई देती है। वो कहती है कि तुम लोगों ने यहां गंदगी फैला रखी है। ऐसा कहकर योगेश ने चचेरे भाइयों को कमरे से निकाल दिया। चचेरे भाई घर के सामने चबूतरे पर सो गए। कमरे में सोने की बात पर चचेरे भाइयों से योगेश का झगड़ा हो गया। इस झगड़े में ताऊ अमरचंद भी कूद गया और उसने चाकू से योगेश पर हमला कर दिया। इस हमले में योगेश की मौत हो गई।

मर्डर को दिया सुसाइड का रूप

योगेश की हत्या के बाद परिवार सकते में आ गया। लाश को ठिकाने लगाने की साजिश रची गई। इसके बाद मर्डर को सुसाइड का रंग दे दिया गया। योगेश की लाश को परिवार के लोगों ने ही रस्सी से लटकाकर पंखे पर लटका दिया। 4 नवंबर शनिवार की सुबह 7 बजे के करीब अमरचंद ने मोहल्ले में शोर मचा दिया कि योगेश ने सुसाइड कर लिया है। पड़ोसियों और रिश्तेदारों ने शव को फंदे से उतारा। इस दौरान पड़ोसियों ने योगेश के गले पर घाव देखे तो उन्हें शक हो गया।

पड़ोसियों ने अमरचंद को कहा कि यह मर्डर लग रहा है। पुलिस को सूचना देनी चाहिए। लेकिन अमरचंद ने उनकी बात टालकर आनन-फानन में दाह संस्कार कर दिया। इसके बाद मोहल्ले वालों ने पुलिस को सूचना दी कि योगेश की मौत संदिग्ध थी। क्योंकि योगेश का कोई अपना नहीं था। इसलिए पुलिस में किसी ने शिकायत नहीं दी थी। पुलिस को पता लगने के बाद पुलिस ने खुद मामले की FIR दर्ज की और रविवार को मामले का खुलासा कर दिया। फिलहाल पुलिस ने योगेश के ताऊ अमरचंद को गिरफ्तार कर लिया है। बाकी चार नामजद आरोपियों की तलाश कर रही है।

मौसी ने कमरे से साफ किया खून
योगेश की ताई कमलेश जो उसकी मौसी भी लगती थी, उसने वारदात के बाद कमरे से खून साफ़ किया। जिस चाक़ू से योगेश का मर्डर हुआ उसे भी परिवार वालों ने छुपा दिया। फिलहाल पुलिस जांच में जुटी है और परिवार के सभी लोगों की इस मर्डर में भूमिका की जांच कर रही है।

यह भी पढ़ें

जोधपुर में हैंडीक्राफ्ट व्यवसायी के घर 10 करोड़ की चोरी:4 नेपाली नौकरों ने फ्राइड राइस में दीं नींद की गोलियां, नकदी-ज्वेलरी लेकर फरार

जोधपुर में हैंडीक्राफ्ट व्यवसायी के घर से उनके 4 नौकर 10 करोड़ की चोरी करके फरार हो गए। शनिवार रात नौकरों ने बिजनेसमैन व उसके परिवार को फ्राइड राइस में नींद की गोलियां मिलाकर दीं और चोरी की वारदात को अंजाम दिया। बताया जा रहा है कि नौकरों ने व्यवसायी के हाथ से करीब एक करोड़ की अंगूठी निकाल कर ले गए, इसके अलावा वे कैश और ज्वेलरी भी लेकर भाग गए।गोल्फ कोर्स इलाके में रहने वाले बिजनेसमैन अशोक चोपड़ा की छोटी बेटी अंकिता (20) ने वारदात की सूचना अपने पिता के बिजनेस पार्टनर के के विश्नोई को दी। उन्होंने एयरफोर्स थाना पुलिस को फोन किया, तब मामले का खुलासा हुआ। (पूरी खबर के लिए क्लिक करें)