पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

कोरोना के आंकड़ों पर बड़ा सवाल:अस्पतालों में 30 रोगी भर्ती बताए, एक्टिव केस सिर्फ 19, ये कैसे संभव?

भरतपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग की वेबसाइट पर उपलब्ध बेड की स्थिति। - Dainik Bhaskar
चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग की वेबसाइट पर उपलब्ध बेड की स्थिति।

कोरोना से हुई मौतों और पॉजिटिव रोगियों के आंकड़ों और वैक्सीन वेस्टेज समेत कई आरोपों में घिरे चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग की कार्यशैली नित नए सवाल खड़े कर रही है। चिकित्सा मंत्री डॉ. रघु शर्मा के तमाम प्रयासों के बावजूद विभागीय लापरवाही और कमियां नहीं छिप रही हैं। अब भरतपुर जिले को ही ले लीजिए।

चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग की ओर से रोजाना शाम को जारी होने वाले बुलेटिन के आंकड़ों में भरतपुर में सिर्फ 19 ही एक्टिव केस बताए गए हैं। जबकि प्रदेश के कोविड-19 घोषित अस्पतालों में उपलब्ध बेड का स्टेटस बताने वाली इसी विभाग की वेबसाइट पर रात 8 बजे तक जिले के अस्पतालों में 30 रोगी भर्ती दिखाए गए हैं। जबकि इससे पहले शाम 6 बजे यह आंकड़ा 32 था।

भला ये कैसे संभव है? ऐसा भी नहीं है कि वेबसाइट पर पुराने आंकड़े हों। बल्कि नीचे आखिरी अपडेट की तारीख 17 जून, 2021 लिखी हुई है। सीएमएचओ कार्यालय के मुताबिक एक्टिव केस उन्हें माना जाता है जो कोरोना पॉजिटिव हैं। भले ही वे अस्पताल, कोविड केयर सेंटर में भर्ती हों या होम आइसोलेशन में।

सरकारी बुलेटिन के मुताबिक गुरुवार शाम समाप्त हुए पिछले 24 घंटों के दौरान भरतपुर जिले में कुल 476 कोरोना संदिग्ध रोगियों के सैंपलों की जांच हुई। इनमें 2 संक्रमित रोगी पाए गए। जबकि एक व्यक्ति की मौत भी हुई है। जिले में अब तक 19561 लोग संक्रमित हो चुके हैं। इनमें से 19284 लोग कोरोना से रिकवर कर चुके हैं। 6 लोग गुरुवार को ही नेगेटिव हुए हैं। अब तक जिले में 258 रोगियों की जान जा चुकी है।

कोविड वैक्सीन सर्टिफिकेट में है गलती तो पोर्टल पर खुद भी कर सकते हैं सुधार

कोविड-19 वैक्सीनेशन सर्टिफिकेट में हुई गलती को कोविन पोर्टल पर स्वयं ही ठीक कर सकते हैं। आवेदक को वैक्सीनेशन सर्टिफिकेट में प्रिंट हुए नाम, जन्मतिथि, लिंग और आईडी नम्बर में हुई गलती को सुधारने की सुविधा दी गई है। सीएमएचओ डॉ. कप्तान सिंह ने बताया कि कोविन वैक्सीनेशन सर्टिफिकेट में आपके नाम, जन्मतिथि, लिंग और आईडी नम्बर में कोई गलती हुई है, तो आप उसे स्वयं ठीक कर सकते हैं।

कोविन की वेबसाइट पर जाएं और इस संबंध में अपनी समस्या को दुरुस्त करें। कोविड वैक्सीनेशन सर्टिफिकेट यात्रा के वक्त और कई अन्य परिसरों तक जाने-आने में हमारे काम आते हैं। आप इस लिंक https://selfregistration-cowin-gov-in/ पर जाकर अपना मोबाइल नम्बर एवं ओटीपी से अपना अकाउंट ओपन कर सकते हैं। ओपन होने पर आप नाम, जन्मतिथि, लिंग और आईडी नम्बर में से कोई दो गलतियां सुधार सकते हैं। इसके बाद आप उसमें कोई चेंज नहीं कर पाएंगे। यह सुविधा सरकार द्वारा केवल एक बार दी जाएगी।

ये बोले जिम्मेदार...

ऑनलाइन वेबसाइट पर प्राइवेट अस्पताल भी अपनी रिपोर्ट खुद ही अपलोड करते हैं। यदि कोई कोई अस्पताल अपडेट नहीं कर रहा है तो उसको नोटिस देकर कार्रवाई की जाएगी। -डॉ. कप्तान सिंह, सीएमएचओ

मेरे कार्यालय से कोविड मरीजो और बेड ऑक्यूपेंसी का डाटा अपडेट नहीं होता है। यदि वेबसाइट पर आंकडों में कोई अंतर है तो सीएमएचओ को बात करके इसे दुरस्त कराया जाएगा।-बीना महावर, प्रभारी, कोविड-19 जिला वॉर रूम, भरतपुर

खबरें और भी हैं...