आरबीएम व जनाना में मेन पावर का ठेका बदला:नए ठेकेदार के अनुमोदन के बाद मिलेगा अस्थाई कर्मचारियों को वेतन, नए ट्रॉली पुलरो को पहनाई जाएगी वर्दी

भरतपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

आरबीएम व जनाना अस्पताल में मेन पॉवर का ठेका बदला गया है, अब नए ठेकेदार के अनुमोदन के बाद ही अस्थाई लगे हुए कर्मचारियों को वेतन मिलेगा। आरबीएम अस्पताल व जनाना अस्पताल में ट्रॉलीपुलर, कम्प्यूअर ऑपरेटर, डीडीसी हेल्पर, फार्मासिस्ट, वाहन चालक आदि करीब 150 ठेके के अस्थाई संविदा कर्मचारी लगे हैं। अभी तक ये सभी संविदा कर्मचारी मैसर्स आरएस एंटरप्राइजेज जयपुर के लगाए हुए हैं।

अब इसके ठेके की अवधि 30 नवंबर को समाप्त हो गई और नया ठेका मैसर्स शर्मा डिटेक्टिव एवं सिक्योरिटी सर्विसेज भरतपुर का शुरू हुआ है। ठेके के इन सभी संविदा कर्मचारियों को भुगतान अस्पताल की ओर से ठेका कम्पनी के जरिए दिया जाता है। आरबीएम अस्पताल की अधीक्षक जिज्ञासा साहनी ने बताया कि अस्पताल में कार्यरत सभी संविदा कर्मचारियों को सेवा निरंतरता के लिए नए ठेके की फर्म से अनुमाेदन होने पर ही वेतन का भुगतान दिया जाएगा।

नए ठेकेदार के पास कर्मचारियाें को अपने दस्तावेज देने होंगे, जिससे उनका रिकॉर्ड ठेका कम्पनी अपने यहां दर्ज या पंजीकृत कर उनका वेतन क्लेम कर सके। जिन कर्मचारियों का वेतन क्लेम नहीं होगा, उनका भुगतान अस्पताल प्रशासन नहीं देगा।

नए ठेकेदार कृष्ण कुमार शर्मा ने बताया कि नए ठेके के ट्राली पुलर कर्मचारियों को वर्दी यानि जाकिट पहननी होगी, जिससे पहचाना जा सके कि वह अस्पताल का ट्रालीपुलर है या आमजन है। इसके अलावा उसे आईडी कार्ड भी दिया जाएगा। ये सभी नया ठेकेदार को उपलब्ध कराना होगा।

खबरें और भी हैं...