• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Bharatpur
  • The Contract For Cleaning 40 Wards Will Be Given To A Private Company, The Agenda Was Passed Through Voting, The Councilors Exposed Each Other In The Meeting

हाईटेक मशीनों से होगी भरतपुर की सफाई:प्राइवेट कंपनी को दिया जाएगा 40 वार्डों की सफाई का ठेका, वोटिंग के जरिए पास हुआ एजेंडा, बैठक में पार्षदों ने एक दूसरे की खोली पोल

भरतपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
सफाई के एजेंडे को लेकर पार्षद  पार्षद आपस में बहस करते हुए। - Dainik Bhaskar
सफाई के एजेंडे को लेकर पार्षद पार्षद आपस में बहस करते हुए।

भरतपुर नगर निगम में बुधवार को साधारण सभा की बैठक आयोजित की गई। बैठक में 7 एजेंडे पर चर्चा हुई। 7 में से 6 एजेंडे सर्वसम्मति से पास कर दिए गए, लेकिन शहर की सफाई को लेकर प्राइवेट कंपनी को दिए जाने वाले ठेके के एजेंडे पर जमकर बहस हुई जिसको पास करवाने के लिए मेयर अभिजीत को वोटिंग तक करवानी पड़ी। नगर निगम के बाहर भारी संख्या में पुलिस जाब्ता तैनात रहा।

पुलिस को देख सभी पार्षद मेयर अभिजीत पर सवाल उठाने लगे लेकिन मेयर ने उन्हें भरोसा दिलाया की पुलिस सिर्फ सदन की गरिमा को बनाए रखने के लिए है। जिसके बाद साधारण सभा कि बैठक शुरू की गई।

भरतपुर शहर में बढ़ते बंदरों का आतंक और भरतपुर की सफाई व्यवस्था को लेकर पार्षदों में काफी बहस हुई। इस दौरान पार्षदों ने एक दूसरे की निगम के ठेकों को लेकर पोल खोली। इतना ही नहीं पार्षदों ने एक दूसरे को चोर तक कह दिया। इस बीच पार्षदों ने मेयर अभिजीत को नहीं छोड़ा। मेयर अभिजीत पर भी प्राइवेट कंपनी को सफाई का ठेका देने को लेकर कई आरोप लगाए गए।

सबसे आखिर में मुख्य और काफी दिनों से घमासान का मुद्दा बने एजेंडे पर चर्चा की गई। भरतपुर के मेयर और उनके साथ पार्षदों का एक गुट चाहता है की भरतपुर की सफाई का ठेका एक प्राइवेट कंपनी को दिया जाए। कंपनी हाईटेक तकनीक से भरतपुर के वार्डों की सफाई करेगी वहीं पार्षदों का दूसरा गट चाहता था की जो अब सफाई व्यवस्था चल रही है उसे जारी रखा जाए।

प्राइवेट कंपनी को ठेका दिए जाने के ऊपर कई बार पार्षद मेयर पर भ्रष्टाचार का आरोप तक लगा चुके हैं। आज जब सफाई के एजेंडे को पास करने का दिन आया तो दूसरा पार्षदों का गुट इसका विरोध करने लगा। दोनों पार्षदों के गुट में जमकर बहस हुई। जिस पर मेयर ने एजेंडे को पास करवाने के लिए वोटिंग करवाई प्राइवेट कंपनी को सफाई का ठेका देने के पक्ष में 31 वोट पड़े तो ठेका नहीं देने के पक्ष में 18 वोट पड़े इस वोटिंग के दौरान 15 पार्षद अनुपस्थित रहे। जिसके बाद एजेंडे को पास कर दिया गया। अब भरतपुर के 40 वार्डों की सफाई प्राइवेट कंपनी करेगी और बाकी के 25 वार्डों के सफाई निगम के कर्मचारियों से करवाई जाएगी।

खबरें और भी हैं...