पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

नकली दवाइयों की बिक्री:उपभोक्ता भंडार के अफसरों ने खरीद लीं नकली दवाइयां, सप्लायर को भुगतान में दिखाई जल्दबाजी, आज तक नहीं कराई एफआईआर

भरतपुर17 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
भरतपुर. जिला सहकारी उपभोक्ता भंडार लि. कार्यालय। - Dainik Bhaskar
भरतपुर. जिला सहकारी उपभोक्ता भंडार लि. कार्यालय।
  • मामले को दबाने में ड्रग कंट्रोलर और उपभोक्ता भंडार के अफसरों की मिलीभगत की आशंका, 6 में से 2 दवाएं जांच में हो गई फेल

भरतपुर जिला सहकारी उपभोक्ता भंडार लिमिटेड और ड्रग कंट्रोल विभाग के अफसरों की मिलीभगत से भरतपुर में नकली दवाइयां बिक रही हैं। इसकी पुष्टि के लिए इतना ही काफी है कि डेढ़ साल पहले खरीदी गई दवाइयां जांच में पूरी तरह नकली साबित हुई। इनमें साल्ट की मात्रा 0 प्रतिशत भी नहीं थी।

इसके बावजूद आज तक सप्लायर और निर्माता कंपनी के खिलाफ एफआईआर तक नहीं कराई गई। बल्कि सप्लायर को भुगतान करने में भी बहुत जल्दबाजी दिखाई गई। ये तो केवल उन 2 दवाओं का मामला है, जिनकी ड्रग कंट्रोलर ने जांच करवा ली। सभी दवाइयों की तो जांच कराया जाना भी संभव नहीं है।

उल्लेखनीय है कि ड्रग कंट्रोल विभाग ने 12 दिसंबर, 2019 को उपभोक्ता भंडार पर छापा मारकर 6 दवाओं के सैंपल लिए थे। इनमें से 2 दवाओं के सैंपल फेल पाए गए। इनमें जालरा-50 एमजी और स्टावैल-50 एमजी थी। ये नकली दवाएं भरतपुर की होलसेल फर्म ओम शिव एजेंसी राजेंद्र नगर से अलग-अलग तारीखों में खरीदी गईं थी।

इस फर्म ने ये दवाएं महावीर ट्रेडर्स जयपुर से 31 मार्च 2019 को खरीदी थीं। ड्रग विभाग के जिला औषधि निरीक्षक लेखराज अग्रवाल बताते हैं कि जयपुर की ये फर्म दिसंबर 2019 से बंद है और दुकानदार फरार है। उसके खिलाफ पंजाब पुलिस ने नशीली दवाओं के संबंध में एफआईआर दर्ज करवा रखी है।

10 महीने से एफआईआर की मंजूरी ही नहीं मिलीः जाटव

यह सही है कि उपभोक्ता भंडार से 6 दवाओं के सैंपल लिए थे। इनमें जालरा 50एमजी और स्टावैल-50एमजी के सैंपल फेल हुए हैं। दोषियों के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराई जाएगी। इसकी स्वीकृति के लिए औषधि नियंत्रक जयपुर को 1 सितंबर 2020 को ही पत्र लिखा जा चुका है। इसका अभी हमें जबाव तक नहीं मिला है। सीपी जाटव, सहायक औषधि नियंत्रक अधिकारी, भरतपुर

सप्लायर को ब्लैक लिस्ट कर दिया हैः जितेंद्र

^यह मामला मेरे कार्यकाल से पहले का है। लेकिन, नकली दवाइयों के मामले में सप्लायर फर्म ओम शिव मेडिकल स्टोर को ब्लैक लिस्ट कर दिया है। जितेंद्र मीना, जीएम, भरतपुर जिला सहकारी उपभोक्ता भंडार लि.

खबरें और भी हैं...