आरबीएम स्टोर में सीपेज,मशीन और दवाइयां खराब होने की आशंका:अस्पताल प्रशासन ने आपत्ति जताने के बावजूद बेसमेंट में शिफ्ट कर दिया गया स्टोर

भरतपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
भरतपुर. आरबीएम अस्पताल के बेसमेंट में दवा व मशीनों के स्टोर में भरा पानी। - Dainik Bhaskar
भरतपुर. आरबीएम अस्पताल के बेसमेंट में दवा व मशीनों के स्टोर में भरा पानी।

अब आरबीएम अस्पताल के स्टोर में सीपेज हो गया है। छत का बरसाती पानी नालियों के जरिए फर्श के बाहर निकलने लगा है। इसलिए सीलन की वजह से स्टोर में रखी लाखों रुपए की दवाइयां और मशीनें खराब होने की आशंका है। करीब 40 करोड़ रुपए से बनी 6-7 मंजिला यह बिल्डिंग पिछले साल ही आरएसआरडीसी ने अस्पताल प्रशासन को हैंड ओवर की है।

अस्पताल सूत्रों का कहना है कि स्टोर में दवाइयां और मशीनें खराब होने के लिए अस्पताल प्रशासन खुद ही जिम्मेदार है। क्योंकि आपत्ति जताने के बावजूद स्टोर को यहां भी बेसमेंट में ही शिफ्ट कराया गया। जबकि बेसमेंट में सीलन और पानी आने की आशंकाएं ज्यादा रहती हैं। लेकिन, वर्तमान समस्या का कारण निर्माण क्वालिटी घटिया होना भी है।

हाल ये है कि दवाओं के कार्टन और पैक्ड मशीनों के नीचे तक पानी पहुंच गया है। वहीं दूसरी ओर मैन बिल्डिंग के गटर चॉक होने की वजह से गंदा पानी अभी भी सड़क पर बह रहा है। यहां पाइपों को खोलकर पटक दिया है। स्टोर में स्टाफ दिनभर पानी को निकालता रहता है। दवा के कुछ कार्टन और अन्य सामान को शिफ्ट भी किया है।

सीलन से पहले भी खराब हो चुकी हैं 4.15 लाख की दवाइयां
स्टोर स्टाफ के मुताबिक पुरानी बिल्डिंग में भी स्टोर बेसमेंट में ही था। तब जून 1996 में आई बाढ़ का पानी स्टोर में भर गया। इससे करीब 4.15 लाख रुपए का सामान खराब हो गया था। इसका निस्तारण आज तक नहीं हुआ है। वह कबाड़ बेसमेंट में ही पड़ा है। इसके बावजूद नई बिल्डिंग के भी बेसमेंट में स्टोर शिफ्ट कर दिया गया।

आरएसआरडीसी से ही ठीक कराएंगेः डॉ. जिज्ञासा
बेसमेंट स्थित स्टोर में सीपेज के बारे में आरएसआरडीसी के अधिकारियों को बता दिया है। उन्होंने मौका भी देख लिया है। जल्दी ही उनसे इसे ठीक कराएंगे। अस्पताल के सामने स्थित जिला ड्रग वेयर हाउस जल्दी ही नेशनल हाइवे पर शिफ्ट हो जाएगा। इसके बाद बेसमेंट से इस स्टोर को वहां शिफ्ट कर देंगे।
डाॅ. जिज्ञासा साहनी, अधीक्षक

सीपेज को बंद कर देंगे: गुप्ता
बेसमेंट में बने स्टोर में सीपेज के बारे में जानकारी मिली है। इस नाली को कंकरीट से बंद करके पाइप डालकर पानी को स्टोर में रोका जाएगा।
श्याम बिहारी गुप्ता, एक्सईएन, आरएसआरडीसी

खबरें और भी हैं...