• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Bharatpur
  • There Is A Difference Of About Rs 10 In Uttar Pradesh And Haryana Compared To Rajasthan, Many Petrol Pumps Are Closed And Many Are On The Verge Of Closure, All Loss making Petrol Pumps

बंद हो रहे पेट्रोल पंप:यूपी-हरियाणा में 10 रुपए सस्ता मिल रहा पेट्रोल-डीजल, राजस्थान बॉर्डर पर 36 में से 7 पंप बंद; सिर्फ भरतपुर में ही 33 करोड़ का व्यापार चौपट

भरतपुर3 महीने पहलेलेखक: गौरव माथुर

पेट्रोल-डीजल की दरें बढ़ने के साथ ही यूपी, हरियाणा और गुजरात बॉर्डर से सटे इलाकों के पेट्रोल पंपों की स्थिति बिगड़ने लगी है। यूपी और हरियाणा में तो राजस्थान से करीब 10 रुपए प्रति लीटर सस्ता पेट्रोल-डीजल मिल रहा है। इसकी वजह से बॉर्डर के आसपास के इलाकों के लोग यूपी और हरियाणा में जाकर पेट्रोल-डीजल खरीद रहे हैं। इसका असर यहां के पंपों पर पड़ा है। इन राज्यों के बॉर्डर पर स्थित पेट्रोल पंपों की बिक्री 70-80 फीसदी तक गिर गई है। भरतपुर पेट्रोलियम डीलर्स एसोसिएशन के अध्यक्ष सत्येंद्र कुमार की मानें तो करीब 33 करोड़ रुपए डीजल और 33 करोड़ रुपए पेट्रोल का व्यापार ख़त्म हो गया है। पहले रोज 20-25 हजार लीटर डीजल और 1500 लीटर पेट्रोल बेचते थे। अब रोज मात्र 500-1000 लीटर डीजल और 500 लीटर पेट्रोल की बिक्री हो रही है। भरतपुर जिले से सटे यूपी और हरियाणा बॉर्डर के 36 पेट्रोल पंप में से 7 तो बंद भी हो चुके हैं। अब जो चल रह हैं, वह इसलिए कि पुश्तैनी काम है। इसके अलावा कोई विकल्प भी नहीं है।

आगरा बॉर्डर पर भरतपुर से 10 किलोमीटर दूर पेट्रोल पंप पर लगा बोर्ड।
आगरा बॉर्डर पर भरतपुर से 10 किलोमीटर दूर पेट्रोल पंप पर लगा बोर्ड।

भास्कर ने जानी हकीकत
भरतपुर जिले के 7 ऐसे इलाके हैं जो उत्तर प्रदेश और हरियाणा राज्यों से लगते हैं। 7 इलाकों में भरतपुर जिले के 36 पेट्रोल पंप आते हैं। इनमें आगरा बॉर्डर (यूपी)- 5 पंप, मथुरा बॉर्डर (यूपी)- 7, गोवर्धन बॉर्डर (यूपी)- 6, कोसी, कामां बॉर्डर (यूपी) 2, पहाड़ी बॉर्डर (हरियाणा) 4, रूपवास बॉर्डर (यूपी) 4 और अछनेरा बॉर्डर (यूपी)- 8 पेट्रोल-डीजल पंप में हैं। इनमें से अधिकांश पंपों पर राजस्थान के ग्राहक आकर तेल भरवा रहे हैं। भास्कर टीम जब इन पेट्रोल पंपों पर पहुंची तो चौंकाने वाली जानकारी सामने आई।

आगरा बॉर्डर
आगरा बॉर्डर पर एक पेट्रोल पंप के कर्मचारी ने बताया कि जब उत्तर प्रदेश और राजस्थान की पेट्रोल और डीजल की दरें एक जैसी थीं तो वह एक दिन में 60 हजार लीटर डीजल और 25 हजार लीटर पेट्रोल बेचता था। जब से उत्तर प्रदेश और राजस्थान में पेट्रोल डीजल की दरों में 10 रुपए का अंतर आया है, तब से वह प्रतिदिन सिर्फ 125 लीटर पेट्रोल और 250 लीटर तक डीजल बेच पा रहा है। पास के एक दूसरे पंप पर तो ताला लग गया है। मशीनें पैक कर दी गई हैं। कुछ ऐसे पंप बचे हैं, जहां मात्र एक ही कर्मचारी है। वजह, जब बिक्री नहीं है तो ज्यादा कर्मचारी रखने से क्या फायदा।

पहाड़ी बॉर्डर
पहाड़ी बॉर्डर हरियाणा बॉर्डर को टच करता है। यहां 4 पेट्रोल पंप हैं। पेट्रोल पंप मालिक मनोज ने बताया कि राजस्थान से करीब 9 रुपए सस्ता डीजल और पेट्रोल मिलता हरियाणा में मिल रहा है। ऐसे में राजस्थान के ज्यादातर लोग हरियाणा में ही पेट्रोल-डीजल लेने के लिए जाते हैं। दोनों राज्यों की दरों में अंतर होने की वजह से हरियाणा बॉर्डर के 4 पेट्रोल पंप बंद होने की कगार पर हैं। जब से रेट में अंतर आया है, तब से पेट्रोल पंप घाटे में चल रहे हैं। मनोज ने बताया की पहले वह प्रतिदिन 4 हजार लीटर डीजल और 3 हजार लीटर पेट्रोल बेचते थे, लेकिन अब वह सिर्फ 700 लीटर डीजल और 600 लीटर पेट्रोल बेच पा रहे हैं।

आगरा बॉर्डर पर सूना पड़ा पेट्रोल पंप।
आगरा बॉर्डर पर सूना पड़ा पेट्रोल पंप।

रूपवास बॉर्डर
रूपवास का इलाका भी यूपी बॉर्डर को टच को करता है। इस बॉर्डर पर 4 पेट्रोल पंप हैं। पंप के मालिक त्रिलोक चंद ने बताया कि रूपवास बॉर्डर पर उनके 2 पेट्रोल पंप हैं, लेकिन वह दोनों घाटे में चल रहे हैं। यह काम उनके पिता ने शुरू किया था। इसलिए इस काम को बंद भी नहीं कर सकता। राजस्थान और उत्तर प्रदेश में रेट के अंतर के कारण काफी परेशानी हो रही है। पहले वह 6 से 7 हजार लीटर डीजल प्रतिदिन बेचते थे। अब वह सिर्फ 100 लीटर ही डीजल बेच पाते हैं। 700 लीटर रोज पेट्रोल बेचते थे। अब यह आंकड़ा 300 पर आ गया है।

मथुरा बॉर्डर
मथुरा बॉर्डर पर 7 पेट्रोल पंप हैं। इसमें से एक पेट्रोल पंप मालिक मनोज झालानी ने बताया की मथुरा बॉर्डर पर भरतपुर के पंपों की सेल सिर्फ 10 प्रतिशत तक रह गई है। पहले वह 8 हजार लीटर डीजल रोज बेचते थे। अब बिक्री घट कर सिर्फ 300 लीटर रह गई है। पेट्रोल की बिक्री पर 50 प्रतिशत तक का अंतर आया है।

राजस्थान की गाड़ियों में रखे ड्रम में डीजल भरता यूपी पेट्रोल पंप का कर्मचारी।
राजस्थान की गाड़ियों में रखे ड्रम में डीजल भरता यूपी पेट्रोल पंप का कर्मचारी।

ड्रमों में भरकर जा रहा ईंधन
भरतपुर से ट्रांसपोर्ट वाले और बड़ी-बड़ी फैक्ट्रियों को चलाने वाले लोग पेट्रोल की जमकर तस्करी कर रहे हैं। उत्तर प्रदेश में पेट्रोल-डीजल की दरें कम होने के कारण वह बड़े-बड़े ड्रमों में भरकर पेट्रोल-डीजल यूपी से राजस्थान ले जा रहे हैं। जिन व्यापारियों के ट्रांसपोर्ट का व्यापार है, वह एक बार में ही यूपी से टंकियां फुल करवा लेते हैं।

खबरें और भी हैं...