मौसमी बीमारियों की रोकथाम के लिए जिला प्रशासन की तैयारी:हेल्थ वैलनेस सेंटरों पर होगी इलाज की व्यवस्था, ट्रेनिंग के बाद 203 नए सीएचओ को लगाए जाएंगे

भरतपुर7 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
14 मई को प्रकाशित खबर। - Dainik Bhaskar
14 मई को प्रकाशित खबर।

मौसमी बीमारियाें के बढ़ते प्रकाेप काे देखते हुए हेल्थ वैलनेस सेंटराें पर लाेगाें के इलाज की व्यवस्था की गई है, जिससे उन्हें शहर की ओर न भागना पड़े। इसके लिए जिले में पदस्थापित 203 सामुदायिक स्वास्थ्य अधिकारियों (सीएचओ) को 17 मई से प्रशिक्षण का प्रोग्राम बनाया है, जिसके तहत 20 मई तक हर दिन अलग ब्लाक वाइज बैच बनाकर प्रशिक्षण दिया जाएगा।

डिप्टी सीएमएचओ हेल्थ डा. असित श्रीवास्तव ने बताया कि सभी ब्लाक मुख्य चिकित्सा अधिकारियों को निर्देश दिए गए हैं कि वर्तमान में मौसमी बीमारियों का प्रकोप बढ़ रहा है। उल्टी, दस्त, बुखार के मरीज बढ़ रहे हैं और डेंगू के रोगियों की संख्या बढ़ने से रोकने के लिए उनके अधीन नवीन पदस्थापित सीएचओ को एक दिवसीय प्रशिक्षण स्वास्थ्य भवन के मीटिंग हॉल में सुबह 10 से शाम 5 बजे तक आयोजित किया जाएगा।

एक दिवसीय एनसीडी, आईडीएसपी, मौसमी बीमारियों के प्रशिक्षण के लिए कार्यक्रमानुसार सीएचओ को भेजने के निर्देश दिए गए हैं। इसके लिए यहां प्रशिक्षक भी नियुक्त किए गए हैं। 17 मई को ब्लाक सेवर के 24 सीएचओ, नदबई के 26 सीएचओ को वीबीडी कंसलटेंट संजय प्रभाकर, 22 मई को डीग के 22, नगर के 25 सीएचओ को एनसीडी प्रभारी पीयूष कुमार, 18 मई को कामां के 10, भुसावर के 21, रूपवास के 19 सीएचओ को डाटा मैनेजर महेंद्र कुमार, 20 मई को कुम्हेर के 23 सीएचओ, बयाना के 23 सीएचओ, सीएमएचओ के अधीन 10 सीएचओ को डीईओ संतोष महावर प्रशिक्षण देंगे।

खबरें और भी हैं...