लंपी स्किन डिसीज:वायरस से बचाव के लिए आयुर्वेद दवाइयों का भी उपयोग करें, राज्यमंत्री ने विधायक कोष से दवाइयों के लिए दिए 10 लाख रुपए

भरतपुर16 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

जिले में फैल रहे लंपी वायरस को देखते हुए तकनीकी शिक्षा एवं आयुर्वेद राज्यमंत्री डॉ. सुभाष गर्ग ने रविवार को जिला कलेक्ट्रेट में संबंधित अधिकारियों की मीटिंग ली। इस दौरान उन्होंने कहा कि लंपी पीडित गोवंश को बचाने के लिए टीकाकरण के साथ ही आयुर्वेद और होम्योपैथी दवाइयों का भी उपयोग करें। इससे बेहतर परिणाम मिल सकते हैं। इन दवाइयों के लिए उन्होंने विधायक निधि से 10 लाख और उपलब्ध कराने का भरोसा दिलाया।

डॉ. गर्ग ने पशुपालन विभाग के अधिकारियों से कहा कि यदि टीकों की कमी हो तो राज्य सरकार को तत्काल इनकी मांग भिजवाएं। आयुर्वेद औषधियों की किट बनाकर पशुपालकों को मुहैया कराएं। साथ ही होम्योपैथी दवाईयां भी उपलब्ध कराई जाएं। उन्होंने लंपी से मृत गौवंशों को दफनाने के लिए प्रशासन और ग्राम पंचायतों का सहयोग लेने को कहा। इस दौरान जिला कलक्टर आलोक रंजन ने बताया कि जिले में 60 हजार गौवंशों का टीकाकरण कराया जा चुका है। मृत पशुओं के शव निस्तारण के लिए सभी तहसीलों में नोडल अधिकारी बनाए गए हैं। गौशालाओं में रहने वाले गौवंशों पर भी नजर रखी जा रही है। लंपी पीडित पशुओं के आइसोलेंशन के लिए ग्राम पंचायत एवं नगर पालिका क्षेत्रों में अलग से बाडे बनाए जा रहे हैं।

खबरें और भी हैं...