जलभराव की समस्या:जगन्नाथ पुरी में जलभराव, शिकायत के बाद भी यूआईटी ने नहीं की सुनवाई

भरतपुर3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
भरतपुर। जगन्नाथ पुरी में भरा बरसाती पानी। - Dainik Bhaskar
भरतपुर। जगन्नाथ पुरी में भरा बरसाती पानी।

कुम्हेर गेट सब्जी मंडी के निकट जगन्नाथ पुरी कालाेनी पिछले 10 दिन से जलभराव से पीडि़त है। यहां घुटनाें तक पानी भरा है। इस कारण लाेग घराें में बंधक बन कर रह गए हैं। स्थानीय निवासी महेश बंसल ने बताया कि पहली बरसात के बाद ही जलभराव हाे गया।

अन्य कालाेनियाें में ताे नगर निगम और यूआईटी ने पानी निकासी के लिए पंप लगवा दिए, लेकिन जगन्नाथ पुरी में अभी तक पंप नहीं लगवाया है। जबकि कई बार अधिकरियाें काे सूचित किया जा चुका है। कालाेनी वासियाें ने माेटर लगाकर पानी निकासी की, लेकिन आगे नाला जाम हाेने के कारण पानी का फ्लाे नहीं बन रहा है। जलभराव के कारण लोगों के जरुरी काम भी नहीं हो रहे। गंदगी और मच्छरों से लोग परेशान हैं।

सुजान गंगा की समस्या मंत्री काे बताई
भरतपुर। पार्षद अंजना लवानिया के नेतृत्व में गोपालगढ़ एवं किले के लाेगाें ने जघीना गेट पर यूडीएच मंत्री शांति धारीवाल का स्वागत किया। साथ ही सिटी फ्लड कंट्रोल ड्रेन की सफाई कराकर पक्की कराने तथा उसके साइडाें में सड़क बनवाने की मांग की। उन्होंने कहा कि यहां अतिक्रमण हटाए जा चुके है। अगर सड़क निर्माण नहीं हुआ ताे अतिक्रमण फिर से हा़े जाएंगे।

इसलिए इसे जयपुर की द्रव्य वती की तर्ज पर विकास हाे। इसके अलावा सुजान गंगा नहर की जीर्णोद्घार की याेजना बनाई जाए। इधर, सामाजिक कार्यकर्ता और याचिकाकर्ता श्रीनाथ शर्मा एडवोकेट ने मंत्री के दाैरे काे आई वाश बताया है।

खबरें और भी हैं...