पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Bharatpur
  • Where Did Our 24000 Vaccines Go? 67000 Doses Of Vaccine Were Found For 18+, Out Of Which Only 65000 Were Used, 89000 Beneficiaries Showing On The Kovin Website

बड़ा सवाल:हमारे 24000 टीके कहां गए? 18+ के लिए वैक्सीन की 67000 डोज मिलीं, इनमें से 65000 ही लगे, कोविन वेबसाइट पर दिखा रहे 89000 लाभार्थी

भरतपुर24 दिन पहलेलेखक: योगेश शर्मा
  • कॉपी लिंक
  • वैक्सीन में भी हेराफेरी, दूसरी लहर से निपटने में विफल रही केन्द्र सरकार टीकाकरण के आंकड़े बढ़ा-चढ़ा कर बता रही

पर्याप्त वैक्सीन उपलब्ध कराने में विफल रही केन्द्र सरकार अब वैक्सीनेशन के आकड़ों में भी बाजीगरी करने लगी है। वैक्सीनेशन का रियल टाइम डाटा दिखाने वाली कोविन वेबसाइट पर वे टीके भी लगने दिखाए जा रहे हैं जिनकी आपूर्ति ही नहीं हुई।

चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग के अनुसार भरतपुर जिले में 25 मई तक जिले में 18+आयु वर्ग के लिए 67 हजार डोज आई। 26 मई शाम 7 बजे तक 65,082 लोगों को टीका लगाया गया। जबकि कोविन वेबसाइट के अनुसार तब तक इस वर्ग के 89 हजार लोगों को टीका लगाया जा चुका था। वास्तविकता में सप्लाई किए गए टीकों की संख्या से ज्यादा लोगों को टीका लगाया नहीं जा सकता। इससे साफ है कि वेबसाइट पर टीका लगाने वालों का आंकड़ा 24 हजार बढ़ा कर दिखाया गया।

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री ने माना था, सॉफ्टवेयर में दिक्क्त

सीएम अशोक गहलोत ने कहा कि वैक्सीन की ट्रेकिंग के लिए बने सॉफ्टवेयर CoWIN पर वैक्सीनेशन ड्राइव की शुरुआत में तकनीकी दिक्कतों के कारण कई वैक्सीनेशन केन्द्रों पर 2.95 लाख डोज़ की एंट्री दो बार हो गई थी। 21 मई को हुई वीसी में केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने भी माना था कि केंद्र सरकार के पोर्टल में गड़बड़ी है। यह वैक्सीन बर्बादी के प्रतिशत को बढ़ा देती है। उन्होंने आश्वासन दिया था कि केन्द्र सही आंकड़े पेश करने के लिए राज्यों से बात करेगा। CoWIN सॉफ्टवेयर पर दर्ज आंकड़ों के मुताबिक 26 मई तक प्रदेश में 1,63,67,230 लोगों को टीका लगा है। इनमें से 3.38 लाख डोज़ खराब हुई हैं। यह सिर्फ 2% है। जो वैक्सीन खराबी में राष्ट्रीय औसत 6% है।

45+ के 18000 टीके ज्यादा लगना दिखाए

चिकित्सा विभाग के अनुसार 45+ आयु वालों के लिए 4,79,300 टीके आए। बतौर पहली डोज 3,41,536 लोगों को ही टीका लगा। कोविन वेबसाइट के अनुसार 3,59,507 लोगों को पहली डोज लगी। यह विभागीय आंकड़े से 17,971 ज्यादा है। इसी प्रकार सभी आयु वर्ग के 4,37,238 लोगों को पहली डोज लगाई जा चुकी है। जबकि कोविन वेबसाइट पर 11,462 ज्यादा यानि 4,48,700 लोगों को पहला टीका लगना बताया जा रहा है।

स्वास्थ्य मंत्रालय की वेबसाइट में गलत आंकड़े

चिकित्सा मंत्री रघु शर्मा ने कहा कि 26 मई 2021 तक राजस्थान में कोविन वेबसाइट के अनुसार 1 करोड़ 63 लाख 67 हजार 230 लाभार्थियों को टीका लगाया जा चुका है। जबकि इसी वेबसाइट पर 1 करोड़ 70 लाख 1 हजार 220 डोजेज की खपत दर्ज की गई है। 6 लाख 33 हजार 990 डोजेज का वास्तव में वेस्टेज नहीं है। 2.95 लाख डोज दो बार गलती से इंद्राज हुई हैं। वास्तव में मात्र 3.38 लाख डोजेज की वेस्टेज हुई है जो कि उपयोग में ली गई कुल डोजेज का मात्र 2 प्रतिशत हैं। दोनों वेबसाइट केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा ही संचालित है।

खबरें और भी हैं...