बच्चे से कुकर्म के आरोपी निलंबित जज को जेल:पहले खुद को OBC में बताया, पिता ने कहा -SC में आता है

भरतपुरएक महीने पहले

भरतपुर में 14 साल के किशोर से कुकर्म के मामले में निलंबित जज जितेंद्र गुलिया को जेल भेज दिया गया है। उसका मेडिकल करवाने के बाद उसे सिविल न्यायाधीश और अतिरिक्त न्यायिक मजिस्ट्रेट रेखा चौधरी के आवास पर पेश किया गया। शनिवार को अदालत में अवकाश था, इसलिए उसे जज के आवास पर पेश किया गया।

कोरोना जांच और मेडिकल
शनिवार सुबह गुलिया को मथुरा गेट थाने से सीधा जांच अधिकारी सीओ सतीश वर्मा के ऑफिस ले जाया गया। वहां पूछताछ और कागजी कार्रवाई पूरी कर आरबीएम अस्पताल ले जाया गया। उसका मेडिकल हुआ, फिर कोरोना जांच के लिए सैंपल लिया गया। जांच रिपोर्ट आने तक उसे जेल में क्वारेंटाइन रखा जाएगा।

जाति छुपाई
गुलिया ने जांच अधिकारी द्वारा पूछताछ में अपनी जाति छुपाई। पहले उसने अपने आप को OBC वर्ग का बताया। जांच अधिकारी की बात गुलिया के पिता से हुई तब खुलासा हुआ कि वह OBC नहीं, SC वर्ग से आता है। गुलिया ने बताया की उसके पिता SC हैं और मां OBC। उसके सर्विस रिकॉर्ड में SC दर्ज है।

खाना नहीं खा पाया
पेशी पर ले जाने से पहले पुलिसकर्मियों ने गुलिया को कहा कि वह खाना खाकर चले। उसने कहा की वह पेशी से आकर खाना खा लेगा। गुलिया को यह नहीं पता था कि वह अब दोबारा थाने नहीं आएगा। पेशी के बाद सीधे उसे सेवर जेल भेज दिया गया।

तकिया और दवाओं की सुविधा
गुलिया ने जज रेखा चौधरी को बताया कि उसकी गर्दन में दर्द है। उसे सोने के लिए तकिया चाहिए होता है। इसके अलावा, उसे कई अन्य छोटी-मोटी बीमारियां हैं। इसकी वजह से उसे रोज दवाएं लेनी पड़ती हैं।इसके लिए गुलिया ने प्रार्थना पत्र भी लगाया है। गुलिया को तीन दिन पहले जयपुर से गिरफ्तार किया गया था।

क्या था पूरा मामला?
बच्चे की मां ने 31 अक्टूबर को मथुरा गेट थाने में मामला दर्ज कराया था। मां ने आरोप लगाया था कि उनका 14 साल का बच्चा एक क्लब में टेनिस खेलने के लिए जाता है। यहां जितेंद्र गुलिया नाम का जज भी आता है। गुलिया ने पहले बच्चे के साथ अपनी जान पहचान बढ़ाई। फिर उसे अपने घर ले जाने लगा। वहां बच्चे को खाने-पीने की चीजों में नशीली चीजें मिलाकर देता और उसके साथ कुकर्म करता। गुलिया के दो साथी क्लर्क अंशुल और राहुल भी बच्चे के साथ कुकर्म करते। जब यह बात बच्चे की मां को पता लगी तो उन्होंने इस बारे में गुलिया से बात की। गुलिया ने ACB के सीओ परमेश्वर लाल को बच्चे के घर भेजा और उसके परिवार को धमकियां दिलवाईं।

जज कर रहा था किशोर से कुकर्म:मां ने दर्ज कराया मुकदमा, कहा- डेढ़ महीने से कर रहे थे शारीरिक शोषण, जोधपुर हाईकोर्ट ने किया निलंबित

जज अंकल नशे के बाद करते थे गंदी हरकतें:बच्चा बोला- मना करता तो गालियां देते, जज का दावा- ब्लैकमेल कर 5 लाख रुपए मांगे

14 साल के बच्चे से कुकर्म का मामला:हनुमान बेनीवाल ने हाई कोर्ट और सीएम को लिखा लेटर, आरोपियों को बर्खास्त करने की रखी मांग

बच्चे से कुकर्म का आरोपी जज गिरफ्तार:भरतपुर कोर्ट में पेश करेगी पुलिस, डिप्रेशन से तबीयत बिगड़ने पर बयान नहीं दे पाया पीड़ित

निलंबित जज को 2 दिन की पुलिस रिमांड:कुकर्म के आरोपी जितेंद्र गुलिया को किया कोर्ट में पेश, पीड़ित का भी बयान दर्ज

कल फिर होगी निलंबित जज की पेशी:दो दिन पुलिस रिमांड पर था जितेंद्र गुलिया, भेजा जा सकता है जेल