पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

भास्कर खास:कोरोना में बिखरे परिवारों को आश्रय देगा अपना घर आश्रम, भोजन और रोजगार भी मिलेगा

भरतपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

अपना घर आश्रम द्वारा कोरोना से प्रभावित परिवारों के लिए संम्बल योजना का संचालन किया जाएगा। इसके अन्तर्गत जो परिवार कोरोना के कारण छिन्न-भिन्न हो गए हैं, जिनका अपना सब कुछ समाप्त हो गया है। उनके जीवन में रंग भरने के लिए संसाधन एवं अपनों की महती आवश्यकता है। जिसे पूरा करने के लिए अपना घर आश्रम द्वारा ऐसे परिवारों को संभालने का जिम्मा काेराेना प्रभावित परिवार संबल योजना प्रकल्प के माध्यम से किया जाएगा।

प्रवेश की प्रक्रिया 10 जून से प्रारंभ की जाएगी। इस योजना में 300 लाेगाें काे प्रवेश दिया जाएगा। पहले चरण में 150 लाेगाें काे एडमिशन देने की योजना है। सचिव भूदेव शर्मा ने बताया कि ऐसे परिवार जिनमें कोरोना संक्रमण के उपरान्त माता-पिता/ विमंदित/मानसिक रोगी/असाध्य रोग से पीड़ित जन बचे हैं जिन्हें संभालने के लिए अब कोई नहीं रहा है तथा उनके पास संसाधन भी नहीं है जो किराये पर रहते थे परिवार में कमाने वाला मुखिया नहीं रहा है तथा जो भी जमापूंजी थी, वह इलाज पर खर्च हो गई है, उनके पास शेष कुछ भी नहीं बचा है।

ऐसे महिला /पुरूष/बच्चे/परिवार जो किसी भी राजकीय योजना की पात्रता रखते हैं तथा जिन्हें सरकार से कोई मदद नहीं मिल सकती है। इस योजना के अन्तर्गत आवास, भोजन, वस्त्र, उपचार, शिक्षा एवं अन्य दैनिक सभी जरूरतें निःशुल्क उपलब्ध करायी जाएंगी।

उन्हें रोजगार एवं रोजगार सम्बन्धी प्रशिक्षण दिया जाएगा। प्रथम चरण में आवासीय व्यवस्थाअधिकतर डोरमेट्री पर आधारित होगी एवं जरूरत के अनुरूप अलग-अलग रहने का भी प्रावधान इस प्रकल्प के अन्तर्गत लिया गया है। इस प्रकल्प में प्रवेश लेने वाले साथी से पहचान पत्र एवं पात्रता के दस्तावेज प्रवेश के समय लिए जाएंगे। इस योजना के लिए 300 की क्षमता वाले आवासीय भवन काे उपयाेग में लिया जाएगा।

खबरें और भी हैं...