रुदावल में रामलीला:सरभंग ऋषि संवाद का मंचन देख भावविभोर हो उठे श्रद्धालु

रुदावलएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

कस्बे में चल रही रात्रि रामलीला में सुतीक्षण, सरभंग ऋषि संवाद का मंचन हुआ। रामलीला में सुतीक्षण व सरभंग ऋषि के मंचन को देखकर उपस्थित दर्शक भावविभोर हो गए। इस मंचन में बताया कि नारद पुत्र जयंत भगवान श्रीराम के बल की परीक्षा लेना चाहता है। उस समय भगवान श्रीराम सीता का श्रंगार कर रहे थे। तभी जयंत सीता के चरणों में चोंच देकर भाग गया। भगवान श्रीराम ने तीर मारकर जयंत को घायल कर दिया। तीर लगते ही जयंत विचलित हो गया। उसे किसी ने शरण नहीं दी। तब श्रीराम जयंत की एक आंख को फोड़कर पीड़ा से मुक्त करते है।

इसके बाद श्रीराम सरभंग ऋषि के आश्रम पहुंचे। वहां पर अवरल भक्ति देकर सरभंग को स्वर्ग लोक भेजते है। इसके बाद श्रीराम सुतीक्षण के आश्रम पहुंचते है, वे श्रीराम के परम भक्त थे। सुतीक्षण श्रीराम को अपने गुरू की कथा सुनाते हुए उनके आश्रम ले जाते है। श्रीराम ने दोनों को अवरल भक्ति प्रदान की। रामलीला के मंचन को देखने के लिये काफी संख्या में लोग पहुंच रहे है। इस मौके पर नंदराम व्यास, जगदीश बंसल, सोनू शर्मा, राजू शर्मा, विष्णु गर्ग, राजू जांगिड, रमणो भारद्वाज, कृष्णा शर्मा आदि मौजूद थे।

खबरें और भी हैं...