पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

बदलाव मिल-जुलकर:मोक्षधाम में रहती थी गंदगी, लोगों ने कमेटी बनाकर बीड़ा उठाया तो अब बना गार्डन

रुदावल8 दिन पहलेलेखक: बिशेष गर्ग
  • कॉपी लिंक
  • अब युवा यू-ट्यूब के लिए बना रहे वीडियो...7 साल में जनसहयोग से बदली मोक्षधाम की व्यवस्था, कटीली झाडि़यों की जगह अब सघन पेड़

रूपवास रोड स्थित मोक्षधाम बदलाव की ऐसी कहानी है जिसे अगर सभी गांव-कस्बों के लोग अपना लें तो विकास की नई इबारत लिखी जा सकती है। हमारे गांव-कस्बे भी बड़े शहरों से ज्यादा सुंदर और व्यवस्थित नजर आ सकते हैं। जी हां, कभी गंदगी और बदहाली का शिकार रहे मोक्षधाम की स्थानीय लोगों ने कमेटी बनाकर ऐसी काया पलटी कि अब स्थानीय युवा यहां यू-ट्यूब के लिए वीडियो शूट कर रहे हैं। बीते 7 साल में यहां सुविधाओं और सौंदर्य पर करीब 40 लाख रुपए खर्च किए जा चुके हैं।

मोक्षधाम विकास समिति संयोजक सत्य प्रकाश सिंघल जुड़े लोग बताते हैं कि समिति बनने के बाद यहां शवदाह गृह, शिशु शवदाह गृह, चबूतरा, बैठने की व्यवस्था, ईंधन गृह, पानी की व्यवस्था समेत कई सुविधाएं विकसित की गई हैं। वहीं खाली जमीन में गार्डन तैयार कराया गया है। जबकि 7 साल पहले तक यहां चारों तरफ कटीली झाडिय़ां और घास उगी हुई थी। आसपास मृत मवेशी डाले जाते थे। हालात ऐसे थे कि अंतिम संस्कार के दौरान लोगों का यहां खड़ा होना भी मुश्किल होता था।

फिर अपनाघर की रुदावल शाखा के पदाधिकारियों ने इस सामाजिक कार्य का बीड़ा उठाया। इसके तहत सबसे पहले पदाधिकारियों ने श्रमदान करके कटीली घास, झाड़ियों और गंदगी को साफ किया। इसके बाद कमेटी ने चंदा एकत्रित करके मोक्षधाम का विकास कराना शुरू कर दिया। मोक्षधाम के विकास को देखकर अन्य लोग भी जुडऩे लग गए। वर्तमान कमेटी में 100 लोग ऐसे हैं जो 1100 रुपए सालाना चंदा देते हैं।

भामाशाहों के सहयोग से रुदावल मोक्षधाम में 40 लाख के विकास कार्य करवाए
कमेटी सदस्य नीरज कटारा बताते हैं कि हालांकि मोक्षधाम का विकास कराने में कई कठिनाईयों का सामना करना पड़ा। लेकिन, यहां के कार्यों को देखकर दानदाताओं ने विकास कराने में काफी अच्छा सहयोग किया। इसी का परिणाम है कि करीब ढाई बीघा जमीन में फैला यह मोक्षधाम बड़े शहरों के मोक्षधाम जैसा दिखता है। जबकि पहले यहां अंतिम संस्कार के दौरान लोगाें को परेशानी होती थी। बारिश के दिनों में तो स्थिति और भी गंभीर हो जाती थी।

दिन में भी लोग यहां जाना पसंद नहीं करते थे। लेकिन, अब यहां कई सुविधाएं हैं। लोगों को बैठने की आरामदायक सुविधाएं हैं। बारिश से बचाव के लिए टीन शेड हैं। संस्कार करने से पूर्व शव रखने के लिए अलग से चबूतरा बनाया हुआ है। मोक्षधाम में ही ईधन की व्यवस्था उपलब्ध है।

चारदीवारी, बरामदा, सड़क, शवदाह गृह और पार्क
मोक्षधाम विकास कमेटी की ओर से यहां मोक्षधाम की चारदीवारी, मुख्य गेट, दो शवदाह गृह, एक शिशु दाह गृह, स्ट्रेचर, ईधन रखने के लिए दो कमरे, लोगों के बैठने के लिए 90 बाई 10 फुट का बरामदा, 39 बाई 15 फुट का कमरा, टीन शेड, पानी की व्यवस्था, इंटरलाकिंग, रंगाई-पुताई, अनमोल वचन लेखन आदि कार्य कराए गए है। मोक्षधाम के सौंदर्य को देखकर युवा मोक्षधाम में वीडियो शूट करते है। यू ट्यूब पर कई वीडियो भी अपलोड किए गए है।चारदीवारी, बरामदा, सड़क, शवदाह गृह और पार्क

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- व्यक्तिगत तथा पारिवारिक गतिविधियों में आपकी व्यस्तता बनी रहेगी। किसी प्रिय व्यक्ति की मदद से आपका कोई रुका हुआ काम भी बन सकता है। बच्चों की शिक्षा व कैरियर से संबंधित महत्वपूर्ण कार्य भी संपन...

    और पढ़ें