जागरूकता:कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए विद्यार्थियों को पिलाया काढ़ा, गाइड लाइन की जानकारी भी दी

रुपवास12 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
कोरोना से बचाव के लिए काढ़ा पिलाते चिकित्सक। - Dainik Bhaskar
कोरोना से बचाव के लिए काढ़ा पिलाते चिकित्सक।

क्षेत्र के राजकीय आयुर्वेद औषधालय गहलोनी मोड़ के वरिष्ठ चिकित्सा अधिकारी प्रभारी डॉक्टर प्रेम सिंह चौधरी द्वारा गुरुवार को शहीद सरवन सिंह राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय गहलोनी मोड़ एवं प्राथमिक विद्यालय खजूरी तथा प्राथमिक विद्यालय नगला पूठिया के छात्र छात्राओं को अमृत काढ़ा बनाकर पिलाया गया।

इस अवसर पर आयुर्वेदिक चिकित्सक प्रेम सिंह ने विद्यालय के सभी छात्रों को कोरोना से बचने के लिए कोरोना की गाइड लाइन का पालन करने का एवं मास्क लगाकर विद्यालय आने का तथा सोशल डिस्टेंसिग आने दो गज की दूरी बनाकर विद्यालय बैठने का आव्हान किया।

साथ ही सभी विद्यार्थियों से समय - समय पर अपने हाथ साफ करने के लिए प्रेरित किया गया। इसके अलावा विद्यालय परिवार को भी विद्यालय में छात्रों द्वारा कोरोना का इलाज की पालना कराने के लिए जानकारी दी गई। साथ ही विद्यालय स्टाफ को भी अमृत काढ़ा पिलाया। विद्यालय में लगभग 325 छात्र एवं विद्यालय स्टाफ को काढ़ा पिलाया गया।

इसके साथ ही बस स्टॉप पर कई दुकानदारों एवं यात्रियों को काढ़ा पिलाया गया। साथ ही कोरोना से बचने के लिए जानकारी दी गई। कोरोना से बचने के लिए काढ़ा वितरण कार्यक्रम में नरेंद्र सिंह शर्मा कंपाउंडर एवं हर देवी सहायक कर्मचारी एवं विद्यालय स्टाफ में प्राचार्य राम कुमार शर्मा, आदित्य मिश्रा, रेनू सिंह, राधा रानी व्यास एवं अन्य स्टाफ का भी सहयोग रहा।

बयाना। राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय फरसो में गुरुवार को स्कूल स्टॉफ के सहयोग से कक्षा एक से आठवीं तक के 101 बच्चों को यूनिफॉर्म की गर्म जर्सियां प्रदान की गई तथा कोरोना गाइड लाइन की जानकारी भी दी गई। प्रधानाचार्य बलदेव सिंह ने बताया कि विद्यालय स्टाफ के सहयोग से जरूरतमंद वर्ग के कक्षा एक से आठवीं तक के 101 बच्चों को गर्म वस्त्र वितरण किए गए।

इसी प्रकार टीम टाइगर ओपी गुर्जर भाईचारा और भाजयुमो उपाध्यक्ष अशोक पटेल के द्वारा राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय ब्रह्मबाद में गुरुवार को जरुरतमंद वर्ग के 108 बच्चों को गर्म ऊनी जर्सी वितरण किया गया। इस अवसर पर पहलवान तोताराम गुर्जर, उदल फौजी, अशोक पटेल आदि वक्ताओं ने कहा कि सक्षम लोगों को स्कूली बच्चों की मूलभूत जरुरतों को पूरा करने में मदद करनी चाहिए। कार्यक्रम में विद्यालय का स्टाफ मौजूद रहा।

खबरें और भी हैं...