ग्रामीणों का प्रदर्शन:आंगनबाड़ी केंद्र से बाजार में बिकने जा रहा था पोषाहार शिक्षक ने पूछा तो ऑटो चालक सड़क पर फेंककर भागा

रूपवास2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
प्रदर्शन करते ग्रामीण। - Dainik Bhaskar
प्रदर्शन करते ग्रामीण।

कांधोंली के आंगनबाड़ी केंद्र से बाजार में बिकने जा रहे पोषाहार को ऑटो चालक प्रधानाध्यापक द्वारा पूछताछ करने पर सड़क पर पटक कर भाग गया। जिस पर ग्रामीणों ने प्रदर्शन कर आंगनबाड़ी कार्यकर्ता को हटाने की मांग की है। कांदोली के आंगनबाड़ी केंद्र पर कार्यकर्ता सुनीता काम करती है। सुनीता ने स्कूल में आंगनबाड़ी केंद्र खोल रखा है। जहां से प्रसूताओं को पोषाहार बांटती है।

स्कूल पर एक ऑटो आया और आंगनबाड़ी केंद्र से ऑटो चालक ने 5 कट्टे दाल, 2 कट्टे चावल और 5 कट्टे गेंहूं भरकर बाजार में बेचने के लिये ले जाने लगा। तभी स्कूल के प्रधानाध्यापक रामबाबू की ऑटो चालक पर नजर पड़ी और उन्होंने ऑटो चालक से पूछा की वह सारा सामान कहां ले जा रहा है, तो चालक ने बताया की वह सारे सामान को भरतपुर ले जा रहा है।

जिस पर प्रधानाध्यापक रामबाबू ने ऑटो चालक से कहा की वह आंगनबाड़ी कार्यकर्ता सुनीता से बात करवाएं। जिसके बाद ऑटो चालक ने सुनीता से बात करवाई तो उसने बताया की वह इस सामान को गहनौली आंगनबाड़ी केंद्र पर भेज रही है। इस पर प्रधानाध्यापक ने सुनीता से सख्ती से सवाल पूछना शुरू किया। तब वह घबरा गई और ऑटो चालक वहां से माल को पटक कर ऑटो को लेकर फरार हो गया।

इस बात का पता ग्रामीणों को लगा तो ग्रामीण स्कूल पर पहुंचे और आंगनबाड़ी कार्यकर्ता पर चोरी का इल्जाम लगाते हुए उसके खिलाफ प्रदर्शन किया और आरोप लगाया कि कार्यकर्ता का नाम संगीता है, जबकि सुनीता इसकी छोटी बहिन का नाम है। इसने फर्जी तरीके से नाम बदलकर नौकरी ली है। सीडीपीओ अर्चना पिप्पल ने बताया कि मुझे अभी मामले की कोई जानकारी नही है, यदि ऐसा है तो जांच कर कार्यवाही की जायेगी।

खबरें और भी हैं...