पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

तैयारी:मिठाई में मिलावट करने पर आजीवन कारावास और ‌10 लाख का लगेगा जुर्माना

सैंपऊएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • राज्य सरकार आज से शुद्ध के लिए युद्ध अभियान की करेगी शुरूअात, दीपावली पर होती है मिलावटी मिठाइयों की अधिक खपत

दीपावली का त्योहार नजदीक आ चुका है। उससे पहले ही मिठाई विक्रेताओं के कारखानों पर बड़े पैमाने पर मिलावटी मिठाई बनाने का कार्य गति पकडऩे लगा है। हालांकि इसे रोकने के लिए राज्य सरकार के द्वारा 26 अक्टूबर सोमवार से शुद्ध के लिए युद्ध अभियान की शुरुआत की जाएगी, अभियान कारगर हो ना हो लेकिन जिस तरह पूरे इलाके में मिलावटी खाद्य पदार्थों की धड़ल्ले से बिक्री की जा रही है उसे रोक पाना सरकार एवं प्रशासन के लिए चुनौती बना हुआ है।

स्वास्थ्य एवं खाद्य विभाग के अधिकारी मानते हैं कि त्यौहार पर खरीदी गई घटिया मिठाई आपके स्वास्थ्य के लिए हानिकारक साबित हो सकती है। लेकिन वे भी इसे रोक पाने में असमर्थ साबित हो रहे है। ऐसा शायद ही आपने सोचा होगा। अब सोचे ही नहीं बल्कि मिठाई एवं मावा खरीदते समय बेहद सावधानी बरतें। विश्वसनीय दुकान से ही मिठाई खरीदें। अन्यथा स्वास्थ्य के लिए गंभीर खतरा हो सकता है।

उपखण्ड के कस्बों में दीपावली के सीजन को दिखते हुए दुकानों पर तैयार हो रही घटिया किस्म की मिठाइयां लोगों की सेहत को नुकसान पहुंचा सकती हैं। क्योंकि मिठाईयोें एवं मावा के निर्माण में अखाद्य पदार्थों के इस्तेमाल से दीपावली पर खपाने के लिए बडी मात्रा में मीठा जहर तैयार करने का काम गति पकड चुका है। खाद्य एवं चिकित्सा विभाग की मानें तो अधिक अखाद्य एवं रंगों से बनी मिठाइयां गंभीर किस्म के रोग का कारण बन सकती है। मिठाई बनाने के लिए शुद्ध दूध की कमी है।

ऐसे जांचें मिलावट
मिठाई के वर्क पर कास्टिक सोडा की कुछ बूँदे डालें वर्क चांदी के बजाय एल्युमिनियम का होगा तो गल जाएगा। एल्युमिनियम का वर्क चांदी के बजाय थोड़ा मोटा भी होता है। दूध में आयोडीन में मिलाने से रंग नीला हो जाए तो स्टाॅर्च की मिलावट हो सकती है। आयोडीन विधि से दूध और मावा की बनी मिठाइयों की जांच की जा सकती है। दूध चखने पर कड़वा या खट्टा लगे। अंगुलियों पर मसलने पर साबुन की तरह चिकना हो जाए या पीलापन दिखे तो यह सिंथेटिक हो सकता है।

मिठाईयों में ऐसे मिलावट करते हैं दुकानदार
दीपावली पर बनने वाली मिठाईंयों में घटिया किस्म के मावे में उबला हुआ आलू मैदा की भारी मात्रा में मिलावट करके मिठाइयां तैयार की जा रही हैं। कुछ मिठाइयों में अवधि पार ग्लूकोज पाउडर, बेसन, सूजी, मैदा एवं रंग बिरंगे कलर डालकर रंग बिरंगी बर्फी आदि कई तरह की मिठाई बनाकर मार्केट में खपाने की तैयारी चल रही है। अधिकांश मिठाईंयां सेहत को नुुकसान पहुंचाने वाली है। हद तो यह है कि मिठाइयों को रंग बिरंगी बनाने में घातक रसायन का उपयोग भी खुले में हो रहा है।

क्या कहते हैं एक्सपर्ट
चिकित्सा प्रभारी डाॅ नरेंद्र अग्रवाल ने बताया कि अखाद्य पदार्थों एवं रंगों की मिलावट से बनी मिठाइयां स्वास्थ्य के लिए बेहद खतरनाक साबित हो सकती हैं। मावे में अखाद्य पदार्थों रासायनिक रंगों की मिलावट से गंभीर किस्म के रोग हो सकते हैं। यहां तक कि किडनी फेल हो सकती है। अवधि पार आलू ग्लूकोज से बनी मिठाई खाने से उल्टी दस्त, पेट संबंधी रोग हो सकते हैं। इसलिए लोग एहतियात बरतें।

यह बरतें सावधानी
दीपावली पर मिठाई खरीदने से पहले अधिक रंगों वाली मिठाइयों को खरीदने से परहेज करें। वरना अखाद्य रंगों की मिलावट से स्वास्थ्य पर खराब असर हो सकता है। मिठाई खरीदते समय शुद्धता और गुणवत्ता का विशेष ध्यान रखें। दूध और मावा से निर्मित मिठाइयां खरीदते समय जांच लें कि मिठाई बने अधिक दिन तो नहीं हो चुके।

मिलावट की सूचना देने पर मिलेगा 51 हजार रुपए का इनाम
खाद्य पदार्थों में मिलावट करने वाले और आसानी से नहीं बच पाएंगे इसके लिए सरकार के निर्देश पर जिले में कोर ग्रुप का गठन कर खाद्य पदार्थों के नमूने लेने में मिलावट पाए जाने पर 10 लाख तक का जुर्माना और आजीवन जेल की हवा खानी पड़ सकती है। सरकार ने मिलावट खोरी को सख्ती से रोकने के लिए सूचना देने वाले को 51000 का इनाम देने की भी घोषणा की है। अभियान के दौरान कोर ग्रुप में गृह, खाद्य नागरिक आपूर्ति, पशुपालन, डेयरी और चिकित्सा व स्वास्थ्य विभाग शामिल होंगे। जिनके द्वारा दूध, दूध से निर्मित खाद्य पदार्थ, तेल, मसाले, आटा, बेसन सूखा मेवा आदि की इस अभियान के तहत जांच की जाएगी।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज व्यक्तिगत तथा पारिवारिक गतिविधियों के प्रति ज्यादा ध्यान केंद्रित रहेगा। इस समय ग्रह स्थितियां आपके लिए बेहतरीन परिस्थितियां बना रही हैं। आपको अपनी प्रतिभा व योग्यता को साबित करने का अवसर ...

और पढ़ें