पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

ये गलत है:सैंपऊ में गुटखा और तंबाकू के लिए लगी कतार, कहां है जिला प्रशासन?

सैंपऊ/धौलपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

दूसरी लहर में तेजी से फैल रहे संक्रमण के बावजूद लोगों की भीड़ जुटने देने को लेकर पिछले दिनों सीएम अशोक गहलोत द्वारा जिला कलेक्टर राकेश कुमार जायसवाल और एसपी केसर सिंह शेखावत को लगाई डांट भी बेअसर साबित हो रही है। पहले पूर्व भाजपा विधायक सुखराम कोली ने अखंड रामायण पाठ के नाम पर 7 दिन तक भीड़ जुटाई और जिला प्रशासन को भनक तक नहीं लगी थी।

अब 10 मई से होने वाले संपूर्ण लॉकडाउन की वजह से सैंपऊ में दुकानों पर गुटखा-तंबाकू खरीदने वालों की भीड़ लग रही है। लोगों में खाद्य पदार्थों की खरीदारी के लिए आपाधापी मची है। गुटखे-तंबाकू के लिए नशा करने वाले लोग मुंह मांगी कीमत दे रहे हैं। आलम यह है कि तंबाकू उत्पाद वाली दुकानों पर खूब भीड़ हो रही है।

कोरोना संक्रमण के खतरे की गंभीरता को नजरअंदाज करके लोग खुद की और दूसरों की जान पर खेल कर सुबह से ही लाइन में लग रहे हैं। इन्हें ना तो सोशल डिस्टेंसिंग की चिंता हैं और ना ही संभावित खतरे का डर। बाजारों में कोरोना गाइड लाइन का पालन कराने के लिए यूं तो बतौर खानापूर्ति जिला प्रशासन की ओर से निगरानी दल बनाए हुए हैं। नगर परिषद और नगर पालिकाओं को इसकी जिम्मेदारी दी हुई है।

वहीं पुलिस भी बिना वजह बाहर घूमने वालों को पकड़कर उनके चालान कर बाइकें जब्त करने का दावा कर रही है। लेकिन, गुटखा-तंबाकू वालों की दुकानों के आगे लगी लंबी कतारों पर न तो जिला प्रशासन की नजर है और न ही पुलिस की। उल्लेखनीय है कि जिला प्रशासन कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए एडी से चोटी तक का जोर लगाए हुए हैं। लोगों से बेवजह घर से न निकलने की अपील की जा रही है। वैक्सीनेशन अभियान चलाया जा रहा है।

दुकानदार बेच रहा था कोरोना, अब क्वारेंटाइन
पॉजिटिव होने के बावजूद पुराना शहर में दुकानदार किराने की दुकान खोलकर ग्राहकों को सामान बेच रहा था। सूचना मिलने पर कोतवाली के एएसआई छिदा सिंह ने दुकानदार कपिल मंगल की दुकान को सीज करवा दिया। साथ ही उसे क्वारेंटाइन कराया है। दुकानदार की मां भी पॉजिटिव है। आशंका है कि जितने भी लोग इनके सम्पर्क में आए हैं उन्हें भी कोरोना संक्रमण हो सकता है।

उल्लेखनीय है कोरोना का संक्रमण तेजी से फैलता है। एक अनुमान के अनुसार एक संक्रमित व्यक्ति दस से चौदह लोगों को संक्रमित कर सकता है। ऐसे में सावधानी ही बचाव है। फिर भी लोग मास्क पहनने से परहेज करते हैं।

पहले भी संभागीय आयुक्त को मैदान में उतरना पड़ा था
सीएम अशोक गहलोत द्वारा कलेक्टर और एसपी को डांट लगाए जाने के बाद संभागीय आयुक्त पी. सी. बेरवाल को खुद मैदान में उतरना पड़ा था। अगले ही दिन उन्होंने धौलपुर के सैंपऊ और बाड़ी के बाजारों का पैदल भ्रमण किया। बेवजह खुली गैर जरूरी कुछ दुकानों को सीज भी कराया था। इसके बाद जिला प्रशासन फिर ढीला पड़ गया।

खबरें और भी हैं...