अधिकारी और जनप्रतिनिधि रहे गैर हाजिर:बिजौलिया पंचायत की बैठक से 11 सदस्य नदारद, फूट के पत्थरों पर ली जा रही अवैध वसूली का उठा मामला

बिजौलिया6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

बिजौलिया पंचायत समिति सभागार में समिति के 22 वार्डो के जनप्रतिनिधियों और सरकारी विभागों के अधिकारियों की एक आम सभा बैठक प्रधान आशा देवी की अध्यक्षता और एसडीएम सीमा तिवारी की उपस्थिति में पूरी हुई। वहीं बैठक में एक तिहाई जनप्रतिनिधि मौजूद नहीं रहे, जिसकी वजह से बैठक एक घंटे देरी से शुरू हुई।

22 में से 9 सदस्यों ने लिया भाग
इसके बाद में 22 में से मात्र 9 सदस्यों ने ही बैठक में भाग लिया। इस दौरान बैठर में खनन क्षेत्र के वेस्टेज फूट के पत्थरों पर खनिज विभाग द्वारा अवैध रूप से ली जा रही रॉयल्टी के मुद्दे पर संबंधित विभाग के अधिकारी संतोषप्रद जवाब नहीं दे पाए।

पेयजल संबंधी समस्या को उठाया
सदस्यों की ओर से क्षेत्र में खुलेआम लाखों रुपये की अवैध वसूली को जल्द रुकवाने की मांग की गई। भीषण गर्मी के दौर में पेयजल संबंधी समस्याओं का मुद्दा भी जोर शोर से उठाया गया। हितेंद्र सिंह राजौरा ने कस्बे में कम प्रेशर से हो रही जल आपूर्ति के बारे में चंबल परियोजना के इंजीनियर सर्वेश चौधरी से सवाल जवाब किए।

हादसे रोकने के लिए डिवाइडर बनाने की मांग
तहसील के कई गांवों में अभी तक चंबल परियोजना के तहत पाइप लाइन बिछाने का काम पूरा नहीं होने से लोगों को आ रही पेयजल की समस्याओं के बारे में बात रखी गई। मंडोल बांध के पास स्टेट हाइवे पर आए दिन हो रहे हादसों को रोकने के लिए अभिषेक सर्वा ने यहां डिवाइडर बनाने की मांग रखी। पर्यटक स्थल भड़कया माताजी जाने वाले रास्ते को मनरेगा द्वारा मरम्मत किए जाने पर वन विभाग द्वारा रुकवाने के मुद्दे पर चर्चा की गई।

अधिकारी भी रहे गैरमौजूद
बैठक में उपप्रधान कैलाश धाकड़, बीडीओ सहित पंचायत समिति सदस्य सीताराम बलाई, कमलेश धाकड़, धापू देवी धाकड़, बाबू लाल शर्मा के साथ ही विभिन्न विभागों के अधिकारी मौजूद रहे। वहीं इस दौरान बैठक में माइनिंग और चिकित्सा विभाग के अधिकारियों की अनुपस्थिति होने पर एसडीएम तिवारी ने उन्हें मौके पर बुलाकर बात की। बैठक में विद्युत और चिकित्सा विभाग से किसी कार्मिक का उपस्थित ना होना चर्चा का विषय बना।

खबरें और भी हैं...