50 बेड के अस्पताल में कन्वर्ट करने की मांग:बिजौलिया में सिलिकोसिस और टीबी के मरीजों नहीं मिल रहा उपचार, मुख्यमंत्री और चिकित्सा मंत्री को सौंपा ज्ञापन

बिजौलिया6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

बिजौलिया पंचायत समिति क्षेत्र की 22 पंचायतों के सबसे बड़े हॉस्पिटल में इन दिनों मौसमी बीमारियों के मरीजों की संख्या बढ़ने लगी है। 30 बेड के इस सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में मरीजों की संख्या और मलेरिया का हाई रिस्क जोन घोषित होने के बावजूद बजट की कमी के चलते सुविधाओं की कमी है। दोनों राजनीतिक दलों द्वारा समय समय पर हॉस्पिटल को 30 से 50 बेड में कन्वर्ट करने को लेकर कई बार मांग करने के बावजूद समस्या का समाधान नहीं हुआ है।

क्यों जरूरी है अस्पताल का विस्तार
बिजौलिया क्षेत्र में सेंड स्टोन की सैकड़ों खदानें है। यहां हजारों की संख्या में मजदूर खनन कार्य से जुड़े हैं। धूल मिट्टी में काम करने की वजह से यहां सिलिकोसिस बीमारी से पीड़ितों की संख्या बेतहाशा है। सांस लेने में तकलीफ से पीड़ित रोगियों को यहां प्रॉपर उपचार नहीं मिलने से उन्हें भीलवाडा जाकर ईलाज लेना पड़ता है।

बारिश के बाद मच्छरों से पनपने वाले मलेरिया रोगी यहां साल भर मिलते हैं। सरकार ने भी इस जान लेवा बीमारी मलेरिया को लेकर बिजौलिया क्षेत्र को हाई रिस्क जोन घोषित कर रखा है। कस्बे से ही स्टेट हाइवे और नेशनल हाइवे निकलता है। आए दिन यहां दुर्घटनाएं होती हैं। गंभीर रोगियों के ईलाज के लिए उन्हें जिला मुख्यालय रेफर करना पड़ता है। खनन से प्राप्त राजस्व करोडों रुपए सरकार को देने के बावजूद यहां जितनी सुविधाएं मिलनी चाहिए उतनी हैं नहीं।

साथ ही रोड एक्सीडेंट के केस अधिक आने से यहां ऑर्थोपेडिक डॉक्टर की सख्त जरूरत है। डेंटिस्ट भी नहीं होने से लोगों को प्राइवेट अस्पताल में मंहगा उपचार लेना पड़ रहा है। फिलहाल यहां 4 डॉक्टर लगे हैं।

इनका ये कहना
बिजौलिया ब्लॉक कांग्रेस के संगठन मंत्री शक्ति नारायण शर्मा के अनुसार बिजौलिया हॉस्पिटल में बूंदी बरड़ क्षेत्र बुधपुरा और परणा गांवों के रोगी भी यहां उपचार के लिए आते हैं। हॉस्पिटल को 50 बेड में क्रमोन्नत करने से यहां हर रोग के स्पेशलिस्ट डॉक्टर और नर्सिंग स्टाफ की नियुक्ति हो सकेगी। दुर्घटनाएं अधिक होने से मिनी ब्लड बैंक सहित सर्जन की पोस्टिंग होने से लोगों को काफी हद तक राहत मिलेगी। शर्मा के अनुसार उन्होंने चिकित्सा मंत्री और मुख्यमंत्री को इस हेतु ज्ञापन भी दिया गया है। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत से मिलकर इस बजट सत्र में बिजौलिया अस्पताल को 50 बेड में क्रमोन्नत करने की घोषणा कराने के प्रयास किए जाएंगे।