पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

निंबाहेड़ा में 33 कौओं की और मौत:पांच दिन में 100 कौओं की मौत, रिपोर्ट में एच-5 एन-8 वायरस के लक्षण

चित्तौड़गढ़2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • बर्ड फ्लू में एच-5 और एच-1 वायरस हाेता है, जो ज्यादा घातक, जहां काैओं की माैत हुई वहां लोगों के आने-जाने पर प्रतिबंध लगाया

जिले के निंबाहेड़ा क्षेत्र में काैओं की माैत का सिलसिला थमा नहीं है। पांचवें दिन गुरुवार को 33 कौओं ने और दम तोड़ दिया। जिले में अब तक 100 कौओं की मौत हो चुकी है। मृत कौओं की रिपोर्ट राष्ट्रीय उच्च सुरक्षा पशुराेग संस्थान भाेपाल लैब से आ गई है। जिसमें एच-5 एन-8 वायरस के लक्षण मिले हैं। रविवार को एक दर्जन कौओं की भोपाल भेजी गई रिपोर्ट गुरुवार को आई।

इसमें कौओं की मौत एच 5एन8 वायरस से हाेना सामने आया है। यह मनुष्य के लिए घातक नहीं है। ऐसा वायरस झालावाड़ सहित अन्य जिलों में कौओ में मिला है। बर्ड फ्लू में एच-5 व एच-1 वायरस हाेता है, जो घातक है। यह वायरस काैओं में नहीं मिलने से पशुपालन और वन विभाग ने राहत की सांस ली है। जिन एरिया में काैओं की माैत हुई है वहां लोगों के आने-जाने पर प्रतिबंध लगा दिया है।

पेड़ों को सेनेटाइज किया, पोंड का पानी खाली करवाया

निंबाहेड़ा में एक ही क्षेत्र में गुरुवार को मृत मिले 32 कौओं को पशु चिकित्साधिकारी डाॅ. ओपी मेहरा के निर्देशन में दफनाया गया। संबंधित पक्षी आवास स्थल के पेड़ों को सेनेटाइज करवाया है। डाॅ. मेहरा ने बताया कि संयुक्त निदेशक नेत्रपालसिंह के निर्देशन में सभी जरूरी प्रबंध किए हैं। पीपीई किट पहनकर ही मृत कौओं को उठा रहे हैं। जिस क्षेत्र में इन कौओं का ठहराव है वहां भरे पानी को खाली कराकर दवा का छिड़काव किया है।

डीएफओ ने बांध क्षेत्र का जायजा लिया
डीएफओ सुगनाराम जाट, एसीएफ समिउल्लाखान ने गंभीरी बांध सहित अन्य प्रवासी पक्षियों के ठहराव स्थल का निरीक्षण किया। अब तक प्रवासी पक्षियों सहित अन्य पक्षियों में बर्ड फ्लू का असर नहीं दिखा है। कौओं की मौत के कारणाें का पता लगाने के लिए पशुपालन विभाग की राज्य स्तरीय टीम ने दौरा किया।

पोल्ट्री फार्म का निरीक्षण करेंगे आज
पशुपालन विभाग के संयुक्त निदेशक नेत्रपालसिंह ने बताया कि शुक्रवार को गंगरार आदि क्षेत्रों में पोल्ट्री फार्म का निरीक्षण कर संचालकों को आवश्यक निर्देश देंगे। मुर्गियों में लक्षण की बात सामने नहीं आई है।

प्रवासी पक्षियों में रहता है एवियन इन्फ्लूएंजा
प्रवासी पक्षियों में एवियन इन्फ्लूएंजा के लक्षण रहते ही हैं, लेकिन यह वायरस उन पक्षियों में कोई नुकसान नहीं पहुंचा पाते हैं। जब यह प्रवासी पक्षी हमारे यहां के स्थानीय पक्षियों के संपर्क में आते हैं तो कई बार यह वायरस यहां के पक्षियों में पहुंच जाता है।

निंबाहेड़ा के मृत मिले कौओं की रिपोर्ट सीधे मुख्यालय गई है। वहां से रिपोर्ट परीक्षण के बाद उसे बताया जाएगा। हालांकि प्रारंभिक तौर यह कह सकते हैं कि मृत कौओं के जो लक्षण मिले हैं, उसके अनुसार बर्ड फ्लू नहीं है। अब तक जाे पक्षी मर रहे हैं उनमें हाथ, पैरों को मारना, गर्दन मुड़ना आदि लक्षण है। कहीं पक्षी मृत मिले तो उसे छुए नहीं। हाथ में ग्लब्स, मास्क पहनकर तीन फीट गहरे गड्ढे में डालकर चूना व नमक डालें।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आप अपने व्यक्तिगत रिश्तों को मजबूत करने को ज्यादा महत्व देंगे। साथ ही, अपने व्यक्तित्व और व्यवहार में कुछ परिवर्तन लाने के लिए समाजसेवी संस्थाओं से जुड़ना और सेवा कार्य करना बहुत ही उचित निर्ण...

    और पढ़ें