पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

तीसरी लहर की तैयारी:पुराने बाल चिकित्सालय भवन में बना सकते हैं 100 बेड वाला काेविड सेंटर, डीएमफटी याेजना में डेढ़ कराेड़ का प्रस्ताव तैयार

चित्तौड़गढ़14 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
काेविड केयर सेंटर बनाने का विचार चल रहा है। - Dainik Bhaskar
काेविड केयर सेंटर बनाने का विचार चल रहा है।
  • पुराने अस्पताल भवन का जीर्णाेद्धार 3 माह में होगा, सिटी डिस्पेंसरी भी शुरू हो सकती है

संभावित काेराेना की तीसरी लहर काे देखते हुए जिला प्रशासन ने कलेक्ट्रेट चाैराहा स्थित पुराने महिला एवं बाल चिकित्सालय भवन काे रिनाेवेट करने का निर्णय लिया है। यह काम करीब तीन महीने में पूरा हाेने की संभावना है। इस भवन का आगे सिटी डिस्पेंसरी के रूप में भी उपयाेग लिया जा सकेगा। जिला प्रशासन के निर्देश पर डीएमएफटी याेजना में इस भवन के लिए डेढ़ कराेड़ का प्लान पीडब्ल्यूडी ने बनाया है। 10 दिन में प्रस्तावित प्लान काे मंजूरी मिल जाएगी। काेशिश रहेगी कि यह काम तीन-चार महीने में पूरा हाे जाए।

लैब इसी परिसर में हाेने से संक्रमिताें की जांच जल्द हाेगी
पुराने महिला एवं बाल परिसर में ही काेराेना जांच लैब है। भवन रिनाेवेट हाेने के बाद काेविड केयर सेंटर बनने से काेराेना संक्रमिताें का उपचार यहां आसानी से हाेगा। जांच भी जल्द हाेगी। पहली लहर में निंबाहेड़ा राेड स्थित सीताफल सेंटर काे जिला काेविड अस्पताल बनाया था। शुरुआत में 100 बेड का काेविड केयर सेंटर बनाने का विचार चल रहा है।

पुराने महिला एवं बाल अस्पताल भवन काे रिनाेवेट करने के लिए डीएमएफटी के तहत डेढ़ कराेड़ का प्लान तैयार किया है। आगामी 10 दिनाें में प्लान काे स्वीकृति मिल जाएगी। शीघ्र ही रिनाेवेशन कार्य शुरू हाे जाएगा। यह काम करीब तीन महीने में पूरा हाेने की संभावना है। इसी भवन में सिटी डिस्पेंसरी की अनाैपचारिक चर्चा भी है।
ताराचंद मीणा, कलेक्टर

खबरें और भी हैं...