पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

मंगल प्रवेश की तैयारी:आचार्य महाश्रमण 9 को मेवाड़ आएंगे, बाॅर्डर पर सांसद और मंत्री अगवानी करेंगे

चित्तौड़गढ़24 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • 10 जुलाई को निंबाहेड़ा से विहार कर सतखंडा आएंगे, 11 को चित्तौड़गढ़ की ओर प्रस्थान करेंगे, अभिनंदन की तैयारी
  • एमपी के मंत्री सकलेचा, पूर्व मंत्री कृपलानी ने आचार्य से आशीर्वाद लिया

आचार्य महाश्रमण का निंबाहेड़ा में मंगल प्रवेश 9 जुलाई को होगा। कार्यक्रम की तैयारियों को अंतिम रूप दिया जा रहा है। आचार्य धवल सेना के साथ मध्यप्रदेश के नयागांव से विहार कर सुबह 7 बजे राजस्थान सीमा पर पहुंचेंगे।यहां सांसद सीपी जोशी, सहकारिता मंत्री उदयलाल आंजना, पूर्व मंत्री श्रीचंद कृपलानी, जनप्रतिनिधि एवं सकल जैन समाज व विभिन्न समाजों के प्रतिनिधि अगवानी करेंगे।

आचार्य बनने के बाद महाश्रमण पहली बार आ रहे हैं। नगर के विभिन्न स्थानों पर स्वागतद्वार और होर्डिंग लगाए हैं। निंबाहेड़ा प्रवास कार्यक्रम के प्रभारी सुनील ढ़ीलिवाल ने बताया कि आचार्य महाश्रमण नगर के विभिन्न मार्गों से होकर प्रवास स्थल जेके कैलाश विद्या विहार पहुंचेंगे। व्यवस्थाओं का कार्यक्रम संयोजक बाबूलाल सिंघवी, सुरेश हिरण, मनीष बाबेल, आनंद सालेचा, मुकेश ढेलावत, मनोज चपलोत, कपिल चौधरी, राहुल सिंघवी, राज सिंघवी, राजेश बोडाना आदि ने जायजा लिया।

मध्यप्रदेश के जावद स्थित महाविद्यालय में विराजित आचार्य महाश्रमण के दर्शन करने बुधवार को मध्यप्रदेश के केबिनेट मंत्री ओमप्रकाश सकलेचा, पूर्व मंत्री श्रीचंद कृपलानी, पूर्व विधायक अशोक नवलखा पहुंचे।

आचार्य महाश्रमण ने मांगलिक सुनाई। पूर्व मंत्री कृपलानी ने आचार्य महाश्रमण का बहुमान कर एक दिन का प्रवास निंबाहेड़ा देने पर कृतज्ञता व्यक्त की। मंत्री सकलेचा की उपस्थिति में पूर्व मंत्री कृपलानी, पूर्व विधायक नवलखा, निंबाहेड़ा भाजपा अध्यक्ष नितिन चतुर्वेदी, उपाध्यक्ष देवकरण समदानी का तेरापंथ संघ जावद की ओर से कृषि उपज मंडी में बहुमान किया गया। नीमच भाजपा उपाध्यक्ष व जावद के पूर्व नपा अध्यक्ष श्यामसुंदर काबरा, मंडल अध्यक्ष सचिन गौखरू मौजूद थे।

आचार्य महाश्रमण को निमंत्रण देने जावद पहुंचे एसडीएम

आचार्य महाश्रमण धवल सेना के साथ 9 जुलाई को सुबह 7 बजे एमपी से राजस्थान की सीमा में प्रवेश करेंगे। निंबाहेड़ा आकर जेके कैलाश विद्या विहार परिसर में रात्रि विश्राम करेंगे। 10 जुलाई को राउमावि सतखंडा में विश्राम करेंगे। 11 जुलाई को सुबह 6 बजे सतखंडा से चित्तौडगढ़ की ओर प्रस्थान करेंगे। आचार्य महाश्रमण राजकीय अतिथि होने से एसडीएम चंद्रशेखर भंडारी बुधवार को जावद पहुंचे।

विधिवत रूप से प्रशासनिक स्तर पर राजस्थान में आने का निमंत्रण दिया। आचार्य से आशीर्वाद लिया। राजकीय अतिथि के रूप में आचार्य महाश्रमण के लिए विशेष व्यवस्थाएं की हैं। फायर बिग्रेड एवं चयनित मार्ग पर पथ प्रदर्शक चिन्ह नगरपालिका द्वारा लगाए जाएंगे। चिकित्सा विभाग द्वारा एंबुलेंस मय चिकित्सा दल के उपलब्ध रहेगी। जेके सीमेंट वर्क्स की ओर से निंबाहेड़ा प्रवास की व्यवस्था की जा रही है। एसडीएम भंडारी ने बताया कि व्यवस्थाओं के लिए संबंधित अधिकारियों को निर्देशित किया है।

आचार्य महाश्रमण की अगवानी के लिए मुनि रश्मि चित्तौड़गढ़ पहुंचे
तेरापंथ धर्मसंघ आचार्य महाश्रमण के जिले में आगमन की तैयारियां जारी हैं। उनकी अगवानी के लिए मुनि रश्मि ठाणा 2 भी कोटा की ओर से विहार कर चित्तौड़गढ़ पहुंच गए। मुनि मोहतीज ठाणा 3 पहले से तेरापंथ भवन में विराजित हैं। दोनों का मिलन तेरापंथ सभा भवन में हुआ।

मुनि मोहजीत व मुनि रश्मि ने सभी को आचार्य के प्रवास को यादगार बनाने के लिए जुटने को कहा। मीडिया प्रभारी रजनीश खाब्या के अनुसार शांतिदूत आचार्य महाश्रमण के जावद प्रवास के दूसरे दिन दशम अधिशस्ता आचार्य महाप्रज्ञ का 102वां जन्मोत्सव मनाया गया। आचार्य ने कहा कि किसी का जन्मदिन परिवार तक सीमित हो सकता है, तो किसी का पूरी दुनिया के लिए महत्वपूर्ण हो जाता है। आचार्य महाप्रज्ञ विद्वान व्यक्तित्व के साथ दार्शनिक, ज्ञानी योगी थे। उन्होंने प्रेक्षा ज्ञान के क्षेत्र में विशिष्ट विकास किया। जैन वागमय के प्राचीन शास्त्रों को जन के लिए सुलभ बनाया।​​​​​​​

खबरें और भी हैं...