पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

रेलवे स्टेशन पर पैदल पुल तैयार:पटरी पार शहर के आधे हिस्से में जाने वालों को फायदा

चित्तौड़गढ़7 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
रेलवे स्टेशन पर बना फुट ओवरब्रिज व टिकट विंडो भवन। - Dainik Bhaskar
रेलवे स्टेशन पर बना फुट ओवरब्रिज व टिकट विंडो भवन।
  • सौंदर्यीकरण के लिए अब दोनों ओर धाेलपुरी पत्थर से बनेंगे सिंहद्वार
  • चार मीटर ऊंचा हाेगा मुख्य सिंहद्वार, फुट आेवरब्रिज को लिफ्ट से जाेड़ेंगे

पश्चिम रेलवे के प्रमुख जंक्शन चित्तौड़गढ़ स्टेशन पर पूर्वी दिशा से भी प्रवेश की सुविधा शुरू हाेगी। टिकट विंडो भवन, फ्रुट ओवरब्रिज और लिफ्ट तैयार हो गए। रेलवे स्टेशन के सौंदर्यीकरण के लिए दोनों दिशाओं में सिंहद्वार बनाए जा रहे हैं। प्लेटफार्म नंबर एक पर जाने वाले मुख्य प्रवेशद्वार का नाम वीर शिरोमणि महाराणा प्रताप पर रखने के बाद अब उनका स्टेच्यू भी बनाया जाएगा।

दूसरा सिंहद्वार पूर्वी दिशा में नवनिर्मित टिकट विंडो के पास सड़क पर बन रहा। स्टेशन पर ट्रेनें, प्लेटफार्म और यात्रीभार बढ़ने के साथ अब पूर्वी दिशा से भी यात्रियों की आवाजाही शुरू होगी। पुराने लोको क्षेत्र में कार्य अंतिम चरण में है। संभावना है कि दिवाली से पहले फुट ओवरब्रिज, टिकट विंडो, लिफ्ट सुविधा शुरू हाे जाएगी। पुराने लोको क्षेत्र में डीजल शेड से पहले ओवरब्रिज के पास नया टिकट विंडो भवन तैयार हाे गया। मशीनें लगना बाकी है। पास ही पार्किंग पाॅइंट भी बनाया है।

6 फरवरी 2018 को निरीक्षण पर आए जीएम एके गुप्ता ने चित्तौड़गढ़ स्टेशन को हैरिटेज लुक देने के साथ पूर्वी दिशा में भी एंट्री गेट व टिकट विंडो स्थापना के निर्देश दिए थे। इस कार्य के लिए दो करोड़ रुपए मंजूर हुए। टेंडर होने के बाद कार्य शुरू हुआ। कोरोनाकाल में गति धीमी हुई। अब काम अंतिम चरण में है। जीएम मुंबई का वार्षिक निरीक्षण प्रस्तावित है। ऐसे में कार्य जल्द करने का प्रयास किया जा रहा है। गत दिनों रतलाम डीआरएम विनीत गुप्ता ने भी कार्यों का जायजा लिया। स्टेशन के दोनों ओर दो सिंहद्वार बन रहे हैं। पूर्वी दिशा में खमेसरा नगर मार्ग से आगे सिंहद्वार बन रहा। एक सिंहद्वार पश्चिम दिशा में मुख्य प्रवेशद्वार के पास आरक्षण केंद्र मार्ग पर बनेगा। दोनों सिंहद्वार पर धौलपुरी पत्थर लगेंगे। मुख्य सिंहद्वार की उंचाई 4 मीटर होगी। मुख्यद्वार का नाम महाराणा प्रताप पर है। इसलिए सिंहद्वार बनने के बाद महाराणा प्रताप का स्टेच्यू भी बनेगा। डेमो के रूप में रखे भाप इंजन के पास एक द्वार पूर्व में नगरपरिषद द्वारा बनाया जा चुका है। पार्किंग के पास से नया फुट ओवरब्रिज तैयार है, जो प्लेटफार्म नंबर एक, दो-तीन व चार-पांच को कनेक्ट कर पूर्वी दिशा के नए टिकट विंडो वाले फुटओवर ब्रिज को कनेक्ट करेगा। ये फुट आेवरब्रिज को लिफ्ट से जोड़ा जा रहा है।

नई सुविधा से जानिये 2 सबसे बड़े फायदे
1.अब तक यात्रियों के लिए पश्चिम दिशा वाले दोनों द्वार ही काम आते हैं। यहीं पर टिकट विंडो है। शहर से स्टेशन आने-जाने के लिए आरओबी व अंडरब्रिज होकर निम्बाहेड़ा मार्ग पर आना ही विकल्प है। जबकि शहर की लगभग आधी से अधिक आबादी रेलवे लाइन के पूर्वी दिशा में रहती है। सभी बस स्टैंड भी उसी दिशा में हैं। स्टेशन तक जाने का वैकल्पिक मार्ग होने से सड़क के यातायात सहित जनरल टिकट विंडो पर दबाव कम होगा।

2.अभी 5 प्लेटफार्म हैं। 1 से 4-5 तक आने जाने के लिए एक ही फुट ओवरब्रिज है। यात्रियों के लिए यह थकाऊ है। अब दो एफओबी हो गए। दूसरा नया एफओबी पश्चिम दिशा वाले मुख्य प्रवेश द्वार के बाहर सड़क से शुरू होकर सीधे पूर्वी दिशा में सड़क को कनेक्ट करेगा। इससे स्टेशन के भीतर भीड़ कम होगी। स्टेशन क्षेत्र के लोग, कर्मचारी परिवार भी एफओबी से आ जा सकेंगे। रेलवे काॅलोनियां भी दोनों ओर है। प्लेटफार्म नंबर 4 व 5 के लिए पूर्वी दिशा से प्रवेश नजदीक होगा।

खबरें और भी हैं...