कोराेना संक्रमण:दो जवानों के भरोसे बार्डर चेकपोस्ट, सिर्फ कारें ही रोक पाते हैं, कई यात्री कोविड रिपोर्ट नहीं ला रहे

चित्ताैड़गढ़9 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • मध्यप्रदेश से लगती राज्य सीमा पर 2 दिन में 1500 की जांच, दोपहिया वाले बेरोक निकल जाते

महाराष्ट्र सहित अन्य प्रदेशों में फिर से बढ़ते कोराेना संक्रमण के बाद राजस्थान में आने वाले लोगों की कड़ी निगरानी की व्यवस्था अभी भी पूरी तरह लागू नहीं हो पाई। नयागांव के पास मध्यप्रदेश सीमा पर आदेश के करीब दस दिन बाद जैसे तैसे चेकपोस्ट कायम हुई पर वो भी खानापूर्ति ही ज्यादा साबित हो रही। सीमा में प्रवेश करने वाले वाहनों को रोकने के लिए मात्र दो पुलिस जवान है। ऐसे में बसों व कई दुपहिया वाहन तो बिना जांच के ही आगे निकल जाते हैं। ज्यादातर कारों सहित चौपहिया वाहनों में सवार यात्रियों की जांच हो पा रही है। इनमें भी अधिकांश लोग अपने साथ कोविड रिपोर्ट भी नहीं ला रहे। चेकपोस्ट कर्मचारी उनका टैंपरेचर लेकर भी प्रवेश दे रहे हैं। गुरुवार से चेकपोस्ट पर चिकित्सा एवं स्वास्थ्य, पंचायतीराज व राजस्व, पुलिस विभाग आदि की संयुक्त टीम तैनात हो गई। जो अन्य राज्यों से आ रहे यात्रियों की कोविड नेगेटिव रिपोर्ट चेक की जानी है। चेकपोस्ट प्रभारी एवं लेखा अधिकारी बद्रीलाल रावत के अनुसार शुक्रवार दोपहर बाद तक 1335 लोगों की जांच की गई। इसमें मध्यप्रदेश, महाराष्ट्र समेत अन्य राज्यों से आ रहे यात्री शामिल है। उनका नाम पता व मोबाइल नम्बर संधारित किए जा रहे हैं। अधिकांश आगंतुकों के पास कोविड रिपोर्ट नहीं है। सबसे अधिक महाराष्ट्र के करीब 60 प्रतिशत यात्री अपने साथ कोविड नेगेटिव रिपोर्ट भी ला रहे हैं। बाकी राज्यों के बहुत कम यात्री नेगेटिव रिपोर्ट लेकर आ रहे है। ऐसी स्थिति में टीम उनका रिकॉर्ड संधारित कर व तापमान जांच कर उन्हें प्रवेश की अनुमति दे रही है।

प्रशासन के पत्र पर रेलवे ने यात्रियों को कोविड रिपोर्ट साथ लेकर ही ट्रेन में बैठने की हिदायत जारी की
पश्चिम रेलवे रतलाम मंडल ने कुछ राज्‍यों से राजस्‍थान आने वाले यात्रियों को कोविड-19 आरटी पीसीआर निगेटिव रिपोर्ट साथ लेकर सफर करने की हिदायत जारी की। मंडल रेल प्रवक्ता के अनुसार चित्तौड़ प्रशासन ने कहा कि महाराष्‍ट्र, केरल, गुजरात, पंजाब, हरियाणा एवं मध्‍यप्रदेश में कोविड-19 संक्रमण बढ़ने से राजस्‍थान सरकार ने इन राज्‍यों से राजस्‍थान के लिए प्रस्थान से 72 घंटे पूर्व का आरटी-पीसीआर निगेटिव जॉंच रिपोर्ट प्रस्‍तुत करना अनिवार्य किया है। इसलिए मध्‍यप्रदेश एवं गुजरात से राजस्थान की ओर यात्रा करने वाले यात्री इसका ध्यान रखते हुए ही सफर करें।

तेज धूप में पुिलस के लिए टैंट तक नहीं
चेकपोस्ट पर पुलिस के दो सिपाही ही तैनात हैं। इस कारण टीम के लिए सभी वाहनों को रुकाकर जांच करना संभव नहीं हो रहा। अधिकांश बाइकर्स सीधे निकल जाते हैं। रोड़वेज और निजी यात्री बसों को भी रोका जाना संभव नहीं हो पा रहा है। पुलिस के जवान केवल कारों को ही रोक कर उनमें सवार यात्रियों को उतारकर टीम के पास जांच के लिए भेज रहे हैं। जाब्ते की कमी से कई कारें व चौपहिया वाहन तक सर्राटै से बिना जांच कराए निकलते दिखे। इससे प्रतीत होता है कि अभी भी यह कार्य औपचारिकता मात्र के लिए तो नहीं किया जा रहा है। पुलिसकर्मियों के लिए भी टेंट की व्यवस्था भी नहीं है। उल्लेखनीय है कि पिछले महीने राज्य सरकार ने सीमावर्ती जिलों के लिए यह आदेश निकाला था कि महाराष्ट्र सहित अन्य राज्यों से राजस्थान की सीमा में आने वाले व्यक्तियों को उनकी 72 घंटे पहले की कोविड रिपोर्ट देखकर ही प्रवेश दिया जाएं। यह आदेश रेलवे स्टेशनों पर भी लागू किया गया।

खबरें और भी हैं...