पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

कोरोना पर जीत की पॉजिटिव खबर:ऑक्सीजन लेवल 65 पर पहुंचा, 25 दिन बेड पर रहे; किताबें पढ़ी और भजन सुने, आखिर ठीक होकर लौटे घर

चित्तौड़गढ़3 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
कोरोना से ठीक होकर घर लौटे अशोक जैन। - Dainik Bhaskar
कोरोना से ठीक होकर घर लौटे अशोक जैन।

जिले के निंबाहेड़ा तहसील के गादोला गांव पिछले कुछ दिनों में सबकी नजरों में आ गया है। यहां के बिगड़ते हालत से सब सकते में आ गए थे। इस गांव में लगातार हो रही मौत के बाद सभी लोग पूरी तरह से सहम गए। इसी बीच गांव के अशोक जैन भी कोरोना की चपेट में आने से नहीं बचे। जिनका ऑक्सीजन लेवल 65 तक पहुंच गया था। 25 दिन तक ऑक्सीजन बेड पर रहे। इसके बाद कोरोना से जंग जीतकर वापस लौटे।

अशोक जैन ने 3 अप्रैल को टीकाकरण करवाया था, जिसके बाद उन्हें हल्का बुखार आया। दो तीन दिन वेट करने के बाद उन्होंने निम्बाहेड़ा के एक निजी अस्पताल में इलाज करवाया। उसके बाद भी उन्हें सांस लेने में प्रॉब्लम हुई। वे अपने मित्र सरपंच पति प्रवीण कलाल के साथ उदयपुर चले गए। दोनों ने वहीं अपना इलाज करवाया। उनके मित्र की तबियत खराब होने के कारण दोनों ने अपना इलाज करवाया। सैंपल भी दिए। सैंपल नेगेटिव आने के बाद सिटी स्कैन कराया और अपने घर आ गए। घर आने के बावजूद अशोक जैन की तबीयत लगातार बिगड़ती चली गई। हालात इतने खराब हुए कि उन्हें निम्बाहेड़ा एडमिट होना पड़ा। यहां भी उनको ऑक्सीजन की जरूरत पड़ने लगी।

गिरता जा रहा था ऑक्सीजन लेवल

अशोक जैन की बिगड़ती हालात को देखकर उनका भांजा धीरज कुमार और छोटा भाई विनोद कुमार जैन उन्हें जिला मुख्यालय के बिरला हॉस्पिटल ले जाया गया। जहां बेड नहीं होने के कारण वे एम्बुलेंस की मदद से भीलवाड़ा के रामस्नेही अस्पताल पहुंचे। भीलवाड़ा में एडमिट होने के बाद उनका ऑक्सीजन लेवल 65 तक आ गया, जिससे उनको आईसीयू में एडमिट करवाया गया। गिरते ऑक्सीजन लेवल के चलते उनकी हालत भी खराब होती गई।

अशोक जैन ने बताया कि आईसीयू में रहने के दौरान उन्होंने डॉक्टर के बताए अनुसार सारे काम किए। साथ ही खुद को हिम्मत देने और पॉजिटिव सोच रखने के लिए किताबें पढ़ना शुरू किया। भजन सुने। परिवार से बात की। जिससे धीरे-धीरे उनकी हालत में सुधार होने लगा। 45 वर्षीय अशोक की हालत में काफी सुधार हुआ तो उन्हें 26 अप्रैल को ऑक्सीजन से हटाकर 3 दिन तक नॉर्मल वार्ड में भर्ती रखा गया। जिसके बाद उन्हें 29 अप्रैल को डिस्चार्ज कर दिया गया।

शरीर ने दिया साथ तो प्लाज्मा डोनेट कर लोगों की करूंगा सहायता

ठीक होने के बाद अनिल जैन ने कहा कि हल्के लक्षण में ही अपनी जांच करवा लेनी चाहिए। जिससे जल्दी बीमारी का पता चले और इलाज संभव हो सके। उन्होंने कहा हिम्मत और पॉजिटिव सोच किसी को भी ठीक कर सकती है। अभी थोड़ी कमजोरी है, लेकिन जल्द ही स्वस्थ हो जाऊंगा। अभी फिलहाल अशोक ने अपने आप को परिवार से अलग क्वारैंटाइन कर रखा है। उनका कहना है कि पूरी तरह स्वस्थ होने के बाद वे दूसरों लोगों की भी जान बचाना चाहते हैं। उनका कहना है कि पूरी तरह स्वस्थ होने के बाद यदि शरीर में एंटीबॉडी बनी तो निश्चित ही वे प्लाज्मा डोनेट कर किसी अन्य कोरोना संक्रमित की मदद करेंगे।

खबरें और भी हैं...

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- दिन सामान्य ही व्यतीत होगा। कोई भी काम करने से पहले उसके बारे में गहराई से जानकारी अवश्य लें। मुश्किल समय में किसी प्रभावशाली व्यक्ति की सलाह तथा सहयोग भी मिलेगा। समाज सेवी संस्थाओं के प्रति ...

और पढ़ें