पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

मुख्यमंत्री चिरंजीवी योजना ::चित्तौड़गढ़ को नही मिला एक भी निजी अस्पताल, पहले लिस्ट में जो मिला था वो हॉस्पिटल पहले ही बन्द हो चुका था

एक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

चित्तौड़गढ़। मुख्यमंत्री की महत्वकांक्षी चिरंजीवी स्वास्थ्य बीमा योजना में जहां चित्तौड़गढ़ ने दूसरा स्थान हासिल किया है। वहीं निजी अस्पताल के मामले में चित्तौड़ के किसी भी अस्पताल को अधिकृत नहीं किया गया है। पूर्व में जारी लिस्ट में चित्तौड़ के पांच निजी हॉस्पिटल्स को स्थान मिला था। लेकिन उनमें से भी एक हॉस्पिटल ऐसा था जो 2018 में ही बन्द हो चुका था। 28 अप्रैल को लिस्ट को अपडेट कर नई लिस्ट जारी तो कर दी लेकिन उसमें से सभी हॉस्पिटल के नाम हटा दिए गए।

कोरोना काल में लोगो को बीमारी से लड़ने के लिए स्वास्थ्य लाभ दिलाने के लिए प्रयासरत हैं। वहीं दूसरी ओर स्वास्थ्य महकमे ने चित्तौड़गढ़ में निजी अस्पताल को अधिकृत ही नहीं किया।

- ऐसे अस्पताल जोड़े जिनको बन्द हुए अरसा बीत गया

इससे पूर्व पहले जारी किए गए लिस्ट के अनुसार योजना में पंजीकृत अस्पतालो की सूची में ऐसे अस्पतालों को जोड़ दिया गया है जिन्हें बंद हुए अरसा बीत गया है। अब अस्पताल भवन में नर्सिंग कॉलेज और विद्यालय का संचालन हो रहा है। इसके बावजूद उन्हें योजना में पंजीकृत किया गया था। लेकिन 28 अप्रैल को लिस्ट को अपडेट कर उसमें परिवर्तन किया गया। जिसमें एक भी अस्पताल को जोड़ा नहीं गया।

- पंजीयन के मामले में चित्तौड़ को मिला है दूसरा स्थान

जिले को मुख्यमंत्री चिरंजीवी स्वास्थ्य बीमा योजना के पंजीयन कराने को लेकर दूसरा स्थान मिला है। इस कोरोना काल में आमजन ने इस योजना के प्रति अपना भरोसा जताया है। और हर दिन कई लोग इस योजना में अपना नाम पंजीकृत कर रहे हैं। पूर्व जारी लिस्ट में पहले चेतक कार्यालय, डॉ विमल नागोरी हॉस्पिटल, मेवाड़ हॉस्पिटल, सागर हॉस्पिटल व एसपीएस हॉस्पिटल को जोड़ा गया था।