बिंदौली निकाल रहे लोगों ने पुलिस पर पथराव किया:दो शादियों की रस्म में मौजूद थे 150 लोग, पथराव के बाद ज्यादा फाेर्स पहुंची तो खेतों में भागे; 10 धाराओं में 40 पर केस दर्ज

चित्तौड़गढ़6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
बड़ीसादड़ी थाना क्षेत्र में बांसी चौकी का मामला। - Dainik Bhaskar
बड़ीसादड़ी थाना क्षेत्र में बांसी चौकी का मामला।

चित्तौड़गढ़ जिले के बड़ीसादड़ी में बांसी चौकी प्रभारी एएसआई को कोविड गाइडलाइन का पालन करवाना भारी पड़ गया। यहां रात को डीजे साउंड बजाकर कई लोग बिंदौली निकाल रहे थे। एएसआई भी मौके पर पहुंचे तो मौके पर भगदड़ मच गई। इस दौरान अंधेरे का फायदा उठाकर लोगों ने पथराव कर दिया। इससे एएसआई चोटिल हो गए। पथराव की जानकारी मिलते ही थाना अधिकारी राम रूप मीणा फोर्स के साथ मौके पर पहुंचे। फोर्स आने की खबर मिलते ही लोग खेतों के रास्ते भाग खड़े हुए।

इस संबंध में पुलिस ने राजकार्य में बाधा पहुंचाने, भीड़ एकत्रित करने, पत्थर फेंक कर हमला करने, राष्ट्रीय आपदा और लॉकडाउन के उल्लंघन समेत 10 धाराओं में मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। बड़ीसादड़ी थाना अधिकारी मीणा ने बताया कि थाना क्षेत्र में आने वाले बांसी पुलिस चौकी के खेड़ी गांव में बुधवार देर रात को दो युवकों की बिन्दोली निकल रही थी। जहां लगभग 150 से अधिक लोग थे। वे फुल वॉल्यूम में डीजे भी चला रहे थे।

खेत में भागे लोग

जब इसकी सूचना बांसी थाना में पुलिस को हुई तो एएसआई मुकेश कुमार मीणा और थाने के कांस्टेबल मोहन पाल सिंह बाइक पर से मौके पर पहुंचे। बिंदौली में एकत्रित लोगों को देखकर उन्होंने समझाइश की कोशिश की। उन्होंने कर्फ्यू और कोरोना गाइडलाइन का उल्लंघन करने से मना किया। इस पर कुछ लोग तो खेतों में भाग गए। वहीं, कुछ गुस्साए लोगों ने पुलिस पर पथराव शुरू कर दिया।

40 के खिलाफ मामला दर्ज

पथराव में मुकेश मीणा के कान में चोट लग गई। पुलिसकर्मियों पर पथराव की जानकारी मिलने पर और फोर्स मौके पर पहुंची। पुलिस ने पथराव करने वाले लोगों की तलाश की, लेकिन सब भाग चुके थे। इस संबंध में कांस्टेबल ने बड़ीसादड़ी थाने पर रिपोर्ट दी है। पुलिस ने इस मामले में खेड़ी गांव निवासी राजू रावत, रूपा रावत, लक्ष्मण, किशन, कालू, रामेश्वर लाल, लाला रावत, प्रकाश, शुभसिंह रावत सहित 40 अन्य लोगों के खिलाफ भी प्रकरण दर्ज किया। फिलहाल इस मामले में कोई गिरफ्तारी नहीं हुई है।

खबरें और भी हैं...