• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Chittorgarh
  • If He Could Not Do Bhandara In Kovid, Then The Devotee Also Offered Gold And Silver Utensils, Dedicated 287 Grams Of Gold Paduka At The Feet Of Thakurji.

सांवरा सेठ को मिली सोने की पादुका:कोविड में भंडारा नहीं कर पाया तो भक्त ने सोने-चांदी के बर्तन भी चढ़ाए, 287 ग्राम सोने की पादुका ठाकुरजी के चरणों में की समर्पित

चित्तौड़गढ़10 महीने पहले
अहमदाबाद के व्यापारी ने सोने के पादुका और चांदी के बर्तन भेंट किए।

मेवाड़ के सुप्रसिद्ध कृष्णधाम श्रीसांवलिया जी में अहमदाबाद से आए श्रद्धालु ने शुक्रवार को सांवरा सेठ को सोने के पादुका, ग्लास, चांदी की कटोरी और प्लेट भेंट किए। श्रद्धालु हर साल यहां भंडारा करवाते हैं, लेकिन कोरोना के कारण दो सालों से यह संभव नहीं हो पा रहा था, इस कारण इस बार श्रीसांवलिया जी को यह भेंट किया।

मेवाड़ और आसपास के जिलों, राज्यों के लोगों में श्रीसांवलियाजी को लेकर बहुत आस्था है, इसलिए कई भक्तजनों द्वारा यहां नकद राशि, सोने चांदी के आभूषण आदि भेंट किए जाते हैं। इंटाली, उदयपुर निवासी गणेशलाल काबरा कई साल पहले अहमदाबाद शिफ्ट हो गए थे। वे कई सालों से हर साल भंडारा करते हैं, लेकिन कोविड के कारण लगातार दो सालों से वे कोई आयोजन नहीं करा पाए। गणेशलाल अहमदाबाद में बर्तन के व्यापारी हैं।

सोने की चरण पादुका और सोने-चंदी के बर्तन
सोने की चरण पादुका और सोने-चंदी के बर्तन

इस साल लॉकडाउन हटने के बाद उन्होंने श्री सांवरा सेठ के लिए 287.500 ग्राम सोने के पादुका और ग्लास बनवाया। इसके साथ उन्होंने चांदी के 262 ग्राम के बर्तन भी भेंट की। साथ ही उन्होंने शुक्रवार को 50 लोगों का खाना भी करवाया। श्रद्धालु काबरा ने श्री सांवलियाजी मंदिर मंडल के कार्यालय परिसर में स्थित भेंट कक्ष में पहुंचकर यह भेंट कर रसीद प्राप्त की। मंदिर मंडल कर्मचारी संजय कुमार मण्डोवरा ने मंदिर मंडल के द्वारा श्रद्धालु का स्वागत किया गया।

खबरें और भी हैं...