रेलवे सुविधा विस्तार:तीन लिफ्ट, सैकंड एंट्री और टिकट कांउटर सहित पांच लेन इंडेक्शन व ट्रेनस एट ए ग्लास डिस्पले बोर्ड कल से यात्रियों के लिए चालू हो

चित्ताैड़गढ़2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
नए फुटओवरब्रिज एवं इस पर बनी लिफ्ट। - Dainik Bhaskar
नए फुटओवरब्रिज एवं इस पर बनी लिफ्ट।

पश्चिम रेलवे जोन, मुंबई के जीएम आलोक कंसल 26 नवंबर को 9 घंटे 50 मिनट चित्तौड़गढ़-रतलाम रेलखंड पर बिताएंगे। कुल 190 किमी ट्रैक के निरीक्षण का मिनट टू मिनट शिड्युल जारी हो गया है। जीएम सबसे अधिक 130 मिनट नीमच स्टेशन पर रहेंगे। क्योंकि इसमें उनका लंच भी शामिल है। इसके बाद सर्वाधिक 85-85 मिनट का प्रवास चित्तौड़गढ़ व रतलाम जंक्शन पर रहेगा। यहां वे निरीक्षण के साथ करीब तीन करोड़ रुपए के विभिन्न विकास व सुविधा कार्यों का लोकार्पण भी करेंगे। रेलवे सूत्रों के अनुसार जीएम कंसल अपनी निरीक्षण स्पेशल ट्रेन से मुंबई से तड़के सीधे चित्तौड़गढ़ ही पहुंचेंगे। जहां सुबह 8:45 बजे प्लेटफार्म नंबर एक पर गार्ड आॅफ ऑनर के साथ उनका निरीक्षण शुरू होगा। वे सबसे पहले मुख्य प्रवेशद्वार के बाहर दोनों ओर की सड़क पर बने सिंहद्वार व एंट्री गेट के दोनों ओर लगाई गई महाराणा प्रताप की मूर्तियों का अनावरण करेंगे।

इसके बाद पूर्वी दिशा में खुली स्टेशन की सैकंड एंट्री मय टिकट कांउटर, पांच लेन ट्रेन इंडेक्शन व ट्रेनस एट ए ग्लास डिस्पले बोर्ड टीआरडी कांपलेक्स डिपो टावर वेगन शेड एईई आॅफिस का उदघाटन करेंगे। जीएम चित्तौड़ स्टेशन को ग्रीन रेटिंग सर्टिफिकेट प्रदान करेंगे, फिर एफओबी व लिफ्ट का उदघाटन करेंगे।

स्थानीय जनप्रतिनिधियों व मीडिया से रूबरू होने के बाद स्टेशन और क्रू लाबी का निरीक्षण करेंगे। सुबह 10.10 पर वे स्पेशल ट्रेन से ओरडी के लिए रवानगी लेंगे। ओरडी स्टेशन पर भी उतरकर 15 मिनट कार्यों का निरीक्षण करेंगे। इधर, जीएम यात्रा को लेकर रतलाम डीआरएम विनित गुप्ता बुधवार को चित्तौड़ पहुंचे, तैयारियों का जायजा लिया।

एक और एफओबी के साथ 5 प्लेटफार्म पर लिफ्ट, एकबार में 12 यात्री बैठेंगे

हाल के सालों में पांच प्लेटफार्म वाले हमारे रेलवे स्टेशन का लगातार फैलता फलता स्वरूप लुभाता तो है पर यात्री थकते और हांफते भी ख्ूब है। शुक्रवार से इस परेशानी में काफी कम आ जाएगी। जीएम विजिट के साथ ही अतिरिक्त और नए एफओबी के साथ पहली बार लिफ्ट सुविधा भी शुरू हो जाएगी। इससे एक से दूसरे प्लेटफार्म तक आना-जाना पहले की तुलना में आसान होगा। रैम्प या सीढियां नहीं चढ़नी पडे़गी। एक नहीं बल्कि तीन लिफ्ट क्रमश: प्लेटफार्म नंबर 1, 2 व 4 पर लगाई गई है।

प्लेटफार्म नंबर 2-3 व 4-5 जोडे से है। इसलिए एक तरह से पांचों प्लेटफार्म लिफ्ट सुविधा से जुड़ गए। इस सुविधा पर करीब 50 लाख की लागत आई। प्रत्येक लिफ्ट में एक बार में 12 यात्री सवार हो सकेंगे। तीनों को स्टेशन के दक्षिण यानी निम्बाहेड़ा साइड में नवनिर्मित फुटओवर ब्रिज से जोडा गया है। माडयूल ऐसा है कि लिफट से प्लेटफार्म नंबर एक से दो पर और दो से चार व पांच पर भी जा सकेंगे।

अत्याधुनिक आरसीसी से बना नया एफओबी 6 मीटर यानी 20 फीट चौड़ा व 50 फीट से अधिक लंबा है। इस कारण यात्रीभार की परेशानी नहीं होगी। पहले तीन मीटर चौडा ही था। यह रतलाम मंडल का पहला ऐसा एफओबी है, जिसको तीन लिफ्ट कनेक्ट कर रही है।

स्टेशन पर तीन करोड़ रुपए के कार्यों का कल जीएम करेंगे उद‌्घाटन

राहत : यात्रियों के 15 मिनट बचेंगे...कुंभ मेले सहित जगह हादसों के बाद रेलवे ने प्रमुख स्टेशनों पर चौड़े एफओबी बनाने का निर्णय लिया है। यहां इसी गाइडलाइन से 6 मीटर चौडा बना। यात्रियों के कम से कम 10 से 15 का समय भी बचेगा। अभी मेन एंट्रेस के बाहर पार्किंग में गाडी खड़े करने के बाद यदि किसी को प्लेटफार्म नंबर 4 या 5 पर जाना हो तो इसके लिए प्लेटफार्म नंबर 1 पर पैदल चलते हुए मीरा द्वार के पास वाले एफओबी का सहारा लेना होता है। अब यह नया एफओबी मेन एंट्रेस के बाहर से सभी प्लेटफार्म को जोड़ते हुए ठेठ पूर्वी दिशा में गुरुकुल के पास सड़क तक है। जिसको जिस प्लेटफार्म पर उतरना है। वहां उतर सकता है और चढ़ सकता है। कसक: एस्केलेटर अभी नहीं...चित्तौड़गढ़ स्टेशन पर एफओबी, लिफ्ट आदि के साथ पहले एस्केलेटर की भी घोषणा हुई। एक बार मंजूरी भी हो गई थी लेकिन अब पता चला कि इसको एप्रवल नहीं मिली। एस्केलेटर होने पर यात्रियों को रैंप या सीढियां चढने उतरने यानी थकान से पूरी तरह निजात मिल जाती है।

खबरें और भी हैं...