जिला समान परीक्षा याेजना:बदले पैटर्न पर हाेगी अर्द्धवार्षिक परीक्षा, 9वीं से 12वीं तक 78 हजार विद्यार्थी देंगे, इस बार पाैने 3 घंटे में पेपर हल करना हाेगा

चित्ताैड़गढ़2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • जिले के सरकारी एवं निजी कुल 600 स्कूलों के बच्चे देंगे परीक्षा, 13 से 24 तक हाेगी

जिले का शिक्षा महकमा जिला समान परीक्षा की तैयारियों में जुट गया हैं। इस बार बदले पैटर्न पर परीक्षा हाेगी। इस बार पाैने तीन घंटे में ही पेपर हल करना हाेगा। जबकि पहले सवा तीन घंटे का समय मिलता था। इसी प्रकार पेपर में 40 प्रतिशत ऑब्जेक्टिव प्रश्न पूछे जाएंगे। शिक्षा विभाग ने हाल ही में 9वीं से 12वीं कक्षा की अर्द्धवार्षिक परीक्षा का नया टाइम टेबल घोषित किया है। अर्द्धवार्षिक परीक्षाएं 13 से 24 दिसंबर तक चलेंगी।

परीक्षा दो पारियों में करवाई जाएगी। पहली पारी में सुबह 10 से 12.45 बजे और दूसरी पारी में 1.15 से 4 बजे तक एग्जाम होगा। इस बार पेपर करने के लिए स्टूडेंट्स को मिलेगा 2.45 घंटे का टाईम मिलेगा। 10वीं कक्षा के सभी पेपर पहली पारी और 9वीं कक्षा परीक्षाएं दूसरी पारी में होंगे। परीक्षा के पैटर्न में भी इस बार बदलाव किया गया है। अति लघुत्तरात्मक, लघुत्तरात्मक, निबंधात्मक के साथ ही इस बार ऑब्जेक्टिव टाइप प्रश्न आएंगे। जिला समान परीक्षा याेजना के संयोजक शंभुलाल भट्ट के अनुसार जिले में सरकारी एवं निजी कुल 600 स्कूलों के 78 हजार विद्यार्थी परीक्षा में शामिल हाेंगे।

5वीं और 8वीं के स्टूडेंट्स को इस बार बोर्ड पैटर्न पर परीक्षा

प्रदेशभर में 5वीं और 8वीं के स्टूडेंट्स को इस बार बोर्ड पैटर्न पर परीक्षा देनी होगी। पिछले दो साल से शिक्षा विभाग 5वीं और 8वीं क्लास के स्टूडेंट्स को प्रमोट कर रहा था, लेकिन इस बार एग्जाम के लिए तैयारी शुरू कर दी है।स्टूडेंट्स के आवेदन इस बार भी ऑनलाइन ही भरवाए जाएंगे, जिसका शेड्यूल बाद में जारी होगा। शिक्षा विभाग के रजिस्ट्रार ऑफिस ने सभी स्कूलों को प्रारंभिक शिक्षा पूर्णता प्रमाण पत्र यानी, कक्षा 8वीं की बोर्ड पैटर्न परीक्षा और प्राथमिक शिक्षा अधिगम स्तर मूल्यांकन यानी 5वीं बोर्ड परीक्षा के लिए अपना डाटा दुरुस्त करने के निर्देश दिए हैं।

किस कक्षा में कितने विद्यार्थी बैठेंगे

9वीं 25 हजार विद्यार्थी 10वीं 21 हजार विद्यार्थी 11वीं 19 हजार विद्यार्थी 12वीं 13 हजार विद्यार्थी

इन नियमों की पालना जरूरी

परीक्षा के दाैरान केंद्रों काे काेविड-19 के नियमों की पालना करना जरूरी हाेगी। परीक्षा कक्ष में केलकुलेटर या मोबाइल की अनुमति विद्यार्थी काे नहीं हाेगी। काेई भी स्कूल अपनी मर्जी से परीक्षा कार्यक्रम में बदलाव नहीं कर सकेगा। इसके लिए पहले अनुमति लेना जरूरी।

खबरें और भी हैं...