हॉस्पिटल में बिना परमिशन खोद दिया ट्यूबवेल:अस्पताल प्रशासन ने जलदाय विभाग पर मनमानी का लगाया आरोप, कहा- नियम विरुद्ध की कार्रवाई

प्रतापगढ़2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
हॉस्पिटल परिसर में ट्यूबेल खोदने पर विवाद। - Dainik Bhaskar
हॉस्पिटल परिसर में ट्यूबेल खोदने पर विवाद।

जिले के धरियावद विधानसभा के मूंगाणा ग्राम पंचायत में नवनिर्मित सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र परिसर में जलदाय विभाग ने अपनी मनमानी करते हुए तीन ट्यूबवेल खोद डालें। हॉस्पिटल के अधिकारियों ने मंगलवार को इसका विरोध किया। चिकित्सा अधिकारी ने मौके पर सरपंच चौकी प्रभारी को भी बुलाया।

घर-घर नल योजना में जलदाय विभाग की ओर से ट्यूबेल खोदने का काम किया जा रहा है। मूंगाणा ग्राम पंचायत में नव-निर्मित सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र बनाया गया। हॉस्पिटल को 6 बीघा जमीन आवंटित है। इस परिसर में किसी भी तरह का ट्यूबेल खोदने के लिए मनाही है। इसके बाद भी जलदाय विभाग ने चिकित्सा अधिकारी, ब्लॉक सीएमएचओ और सीएमएचओ के परमिशन के बिना सोमवार रात हॉस्पिटल परिसर में एक साथ तीन ट्यूबेल खोद दिए। उस हॉस्पिटल में अभी तक काम शुरू नहीं हुआ। चिकित्सा प्रभारी जीवराज मीणा ने विरोध करते हुए जलदाय विभाग के अधिकारियों, सरपंच और चौकी प्रभारी को मौके पर बुलाया। इस दौरान उन्होंने जमकर विरोध जताया।

हॉस्पिटल परिसर में जलदाय विभाग ने खोद दिए ट्यूबेल।
हॉस्पिटल परिसर में जलदाय विभाग ने खोद दिए ट्यूबेल।

एक दूसरे पर आरोप लगाते रहे
जेएएन रोहित ने बताया कि सरपंच की परमिशन के बाद ही ट्यूबेल खोदा गया। AEN दीपक मीणा इस मामले को टालते हुए नजर आए। सरपंच पति हरीश मीणा ने बताया कि उन्होंने सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के परिसर में नहीं बल्कि उससे कुछ दूरी में ट्यूबवेल खोदने की बात कही थी। चिकित्सा प्रभारी जीवराज मीणा ने कहा कि महिला वार्ड के पास में ही ट्यूबवेल को दिए गए। वह भी एक नहीं बल्कि तीन-तीन ट्यूबवेल खोदे गए।

अब लेंगे एसडीएम की परमिशन
बता दे कि हॉस्पिटल की जमीन के पास तालाब है। जिसके कारण ट्यूबवेल खोदने पर कम फीट में ही पानी आ जाता है। जलदाय विभाग का खर्चा भी कम होता है। अनुमान लगाया जा रहा है कि खर्चे से बचने के लिए ठेकेदार ने जलदाय विभाग के कहने पर यह किया। वहीं जलदाय विभाग का कहना है कि हम एसडीएम के परमिशन ले लेंगे। बोरिंग खोदने के बाद जलदाय विभाग परमिशन लेने की बात कह रहा है।

कंटेंट और फोटो हितेश पालीवाल, धरियावद, प्रतापगढ़