पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

संत विहार:भीलवाड़ा से रोज 60 से अधिक भक्त महाश्रमणजी की अगवानी में पहुंचते हैं, नीमच से चल रहा क्रम

चित्तौड़गढ़17 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • चातुर्मास करने पधार रहे तेरापंथ धर्मसंघ के आचार्य के दर्शन कर अभिभूत होते हैं श्रद्धालु
  • पग-पग पर स्वागत, सभी को आचार्य का संदेश नशा नहीं करें, समाज व संगठन भी पहुंचते हैं

तेरापंथ के आचार्य श्री महाश्रमण के भीलवाड़ा में पहली बार और मेवाड़ में भी करीब 10 साल बाद चातुर्मास को लेकर अनुयाइयों में कितना उत्साह है, इसका अंदाज चातुर्मासिक मंगल प्रवेश से पहले ही झलक रहा है।

अहिंसा यात्रा के प्रतिदिन विहार मार्ग में सेवा देने वाले अधिकांश अनुयाई भीलवाड़ा के ही रहते हैं। बुधवार को भी इसी क्रम में आजोलिया का खेड़ा में परिवार सहित खड़े सीए नवीन वागरेचा और बागौर निवासी अनिल बाबेल ने कहा कि भीलवाड़ा से रोज औसत 60 से 70 अनुयायी आचार्यश्री की विहार यानी मार्ग सेवा में साथ रहते हैं। कोई प्रतिदिन तो कोई किसी दिन सेवालाभ लेकर वापस चले जाते हैं।

वैसे तो यह क्रम मप्र से ही चल रहा है पर नीमच से अनवरत है। कभी कभी तो यह संख्या 100 से 150 तक भी रही। आजोलिया का खेड़ा में जिला कांग्रेस महामंत्री प्रमोद शिशोदिया, शांतिलाल राठौर, सुरेश सिंघवी, राकेश सेठिया, आशीष शिशोदिया आदि मार्बल उधमियों व्यापारियों ने स्वागत किया।

आचार्य के साथ 50 प्रतिशत से अधिक संत युवा पर वह खुद कभी गाड़ी में नहीं बैठते भीलवाड़ा तक आचार्यश्री के साथ करीब 200 से अधिक संत साध्वियों का समूह हो जाएगा। वैसे आचार्य की अहिंसा यात्रा में 50 से 60 संत साध्वियों का समूह निरंतर रहता है। इनमें से 50 प्रतिशत से अधिक संत 30-35 साल तक के युवा है। कई तो 25 से भी कम उम्र के है। मात्र 20-22 साल के दो मुनि छतीसगढ़ निवासी भाई है। जिन्होंने दो साल पहले एक साथ दीक्षा ले ली।

माता-पिता के दो ही बेटे थे, उन्होंने दोनों को दीक्षा की अनुमति दे दी। चित्तौड़ प्रवास के दौरान भी यह दंपती सेवा में आया। विहार के दौरान युवा संत साध्वी वृद्व या बीमार संतों को पहिया गाडी में बिठाकर धकियाते दिखते हैं। कई बार एक ही गाडी में बारी बारी से या एक साथ दो से अधिक साध्वियां भी बैठती है लेकिन करीब 59 साल की उम्र में भी आचार्य महाश्रमण ने अभी गाड़ी उपयोग में लेना शुरू नहीं किया। वे पैदल ही चलते हैं।

गुर्जर गौड ब्राहमण समाज ने भी किया स्वागत आचार्य के गंगरार पदार्पण पर विश्राम कुटीर के पास अखिल भारतवर्षीय श्री गुर्जर गौड़ ब्राह्मण महासभा द्वारा प्रांतीय मुख्य संरक्षक समाजसेवी ओमप्रकाश उपाध्याय , चंद्रशेखर उपाध्याय, राष्ट्रीय शिक्षा मंत्री अरविंद व्यास, सत्यनारायण व्यास, एवं पुजारी गोपाल व्यास, एडवोकेट योगेश व्यास, मोनीष शर्मा, राष्ट्रीय प्रवक्ता मधुसूदन शर्मा, गोपालकृष्ण चतुर्वेदी, चंद्रप्रकाश चतुर्वेदी आदि समाजजनों ने स्वागत अभिनन्दन किया। राजस्थान शिक्षक संघ (राष्ट्रीय) ने भी अभिनंदन किया। उप शाखा अध्यक्ष भैरूलाल गंधर्व ने बताया कि प्रदेश महामंत्री अरविंद व्यास, जिला उपाध्यक्ष अशोक कोचिटा, संगठन मंत्री राजेंद्र मिश्रा आदि उपस्थित थे।

खबरें और भी हैं...