उफान पर गांगली नदी, MP से संपर्क कटा:मध्य प्रदेश से वाया निंबाहेड़ा होते हुए उदयपुर जाने का एकमात्र हाईवे बंद, पुलिया पर 4 फीट बह रहा पानी, सांवलिया जी जाने का भी यही है रास्ता

चित्तौड़गढ़9 महीने पहले
चित्तौड़गढ़ के कई इलाकों में भारी बारिश के बाद गांगली नदी उफान पर।

राजस्थान में भारी बारिश के बाद चित्तौड़गढ़ में गांगली नदी उफान पर है। पुलिया पर 4 फीट तक पानी बह रहा है। निंबाहेड़ा-मंगलवाड़ मेगा हाईवे पर आवागमन पूरी तरह ठप हो चुका है। मध्य प्रदेश (MP) से वाया निंबाहेड़ा होते हुए उदयपुर जाने का यह एकमात्र हाईवे है। सड़क पर बह रहे पानी की धार तेज होने के कारण कोई भी वाहन चालक गाड़ी आगे बढ़ाने की हिम्मत नहीं जुटा पा रहा। दोनों छोर पर वाहनों की कतारें लग गई हैं। क्षेत्रवासियों ने बताया कि 2 साल बाद इस नदी में उफान आया है। दूसरी ओर, यहां वीडियो बनाने और फोटोग्राफी करने वालों की भी भीड़ लग गई है। निम्बाहेड़ा उपखंड के गम्भीरी बांध के चार गेट सोमवार शाम 5.45 पर खोल दिए गए हैं।

मध्य प्रदेश से सांवलिया जी के लिए जाने का मार्ग
मध्य प्रदेश से वाया निंबाहेड़ा होते हुए उदयपुर जाने के लिए यह एकमात्र हाईवे मार्ग है। MP से जो श्रद्धालु सांवलिया जी के दर्शन के लिए आते हैं, उन्हें भी इसी मार्ग से होकर जाना पड़ता है। मार्ग के बंद होने से अब लोगों को चित्तौड़गढ़ के अंदर से घूमकर जाना पड़ता है। इसके कारण काफी समय लग जाता है। निम्बाहेड़ा-मंगलवाड़ मेगा हाईवे के पास में खोडीप, निन्नाणा, बामन खेड़ी, टाटरमाला, भगवानपुरा, मंडलाचारण, ढोरिया, देवलखेड़ी, उपरेडा, बंबोरी में लगातार 3 घंटे तक मूसलाधार बारिश हुई है। इस वजह से नदी का जलस्तर बढ़ गया है।

अच्छी बारिश होने से आसपास के ग्रामीण दिखे उत्साहित।
अच्छी बारिश होने से आसपास के ग्रामीण दिखे उत्साहित।

पुलिया को ऊंचा करने की थी मांग
लगभग 6 साल पहले जब पुलिया का निर्माण किया गया, तब आस-पास के ग्रामीणों ने पुलिया को ऊंचा करने की मांग की थी। उस समय संबंधित विभाग ने इस ओर ध्यान नहीं दिया। तेज बारिश के कारण यह नदी उफान पर होती है। इसके बाद पानी पुलिया पर आ जाता है। पुलिया के नीचे निकासी के लिए लगे पाइप नदी के क्षमता के अनुसार नहीं है। इस कारण पानी का ठहराव भी नहीं हो पाता। कुछ पाइप भी चोक हो रहे हैं।

हाईवे बंद होने के कारण बस भी नहीं निकल पाई।
हाईवे बंद होने के कारण बस भी नहीं निकल पाई।

गम्भीरी बांध के चार गेट खोले
बरसात से चित्तौड़गढ़ जिले के बांध लबालब हैं। निम्बाहेड़ा उपखण्ड के गम्भीरी बांध पर एक फीट 3 इंच की चादर चलने के कारण सोमवार शाम 1.5-1.5 मीटर के चार गेट खोल दिए गए। गम्भीरी बांध के गेट खोलने से शहर के बीचों-बीच मौजूद गम्भीरी नदी में पानी आया। इसके अलावा चित्तौड़गढ़ शहर में बस्सी और बेगूं के ओराई बांध में भी चादर चलने लगी है। बांध के गेट खोलने के दौरान एसपी राजेंद्र गोयल, पुलिस उप अधीक्षक सुभाष कुमार, सदर थाना अधिकारी फूलचंद टेलर, तहसीलदार गोपाल बंजारा मौके पर मौजूद रहे। निम्बाहेड़ा क्षेत्र में पिछले 24 घंटे में 101 एमएम व बड़ीसादड़ी में सबसे कम 2 एमएम बारिश दर्ज की गई।

तहसीलों में 24 घंटे में बारिश (MM में)

  • चित्तौड़गढ़ शहर 18
  • गंगरार 41
  • कपासन 36
  • भूपाल सागर 48
  • राशमी 8
  • बेगूं 9
  • रावतभाटा 3
  • निम्बाहेड़ा 101
  • भदेसर 34
  • बड़ीसादड़ी 2
  • डूंगला 20

बांधों में रेन फॉल

  • निम्बाहेड़ा उपखंड के गम्भीरी बांध में 13MM
  • चित्तौड़ शहर के बस्सी में 2MM
  • उदयपुर जिले के वल्लभनगर में बड़गांव बांध में 25MM
  • चित्तौड़गढ़ के कपासन में 20MM
  • राजसमंद जिले के संदेसर में 5MM

फोटोग्राफर-दिलीप सेन

खबरें और भी हैं...