पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

राहत:चिकित्सा सुविधा व ऑक्सीजन मिलने से निंबाहेड़ा क्षेत्र में अब सुधरने लगे हालात

चित्तौड़गढ़एक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
निंबाहेड़ा. मांगरोल में मरीजों को दवा देती चिकित्सा टीम। - Dainik Bhaskar
निंबाहेड़ा. मांगरोल में मरीजों को दवा देती चिकित्सा टीम।
  • जेके मैरिज हाॅल में बनाए काेविड केयर सेंटर काे 40 बेड वाले मिनी अस्पताल का रूप दिया

शहर एवं ग्रामीण क्षेत्र में काेराेना संक्रमण तेजी से फैला। इससे लोग दहशत में आ गए। प्रशासन व चिकित्सा विभाग की टीमों ने लोगों को संकट से बचाने के लिए संघर्ष किया। इसका परिणाम यह रहा कि अब लोगों को समय पर चिकित्सा सुविधाएं व आॅक्सीजन मिलने से राहत मिलने लगी है।

निंबाहेड़ा के जेके मैरीज हॉल में बनाए कोविड केयर सेंटर को सहकारिता मंत्री उदयलाल आंजना के निर्देश पर 40 बेड वाले अस्थाई मिनी अस्पताल का रूप दिया। यहां पॉजिटिव मरीजों को ऑक्सीजन चढ़ाने से लेकर 24 घंटे चिकित्सा सुविधा उपलब्ध कराई जा रही है। राहत की खबर यह है कि काेराेनाकाल से 4 मई तक 3523 पॉजिटिव हुए। इनमें से 2008 स्वस्थ होकर घर लौट गए। पीएमओ डॉ. मंसूर खान ने बताया कि अभी 1486 एक्टिव केस हैं। जिनमें 855 शहरी, 621 ग्रामीण क्षेत्र व 10 अन्य राज्यों के शामिल हैं।

अधिकांश होम क्वारेंटाइन होकर शीघ्र रिकवर होने की स्थिति में हैं। कोविड केयर सेंटर पर पिछले 15 दिनों में 288 पॉजिटिव मरीजों को ऑक्सीजन की कमी को लेकर भर्ती किया गया। जिनमें से 225 को रिकवर हाेने पर घर भेज दिया। 55 मरीज सेंटर पर उपचाररत हैं। असिम्प्टोमैटिक पॉजिटिव के लिए जेके आईटीआई में 100 बेड का कोविड केयर सेंटर शुरू कर दिया है। जहां 11 पॉजिटिव उपचाररत हैं।

गादोला भी 88 पॉजिटिव आने के साथ आहत हुआ था। यहां 58 रिकवर हो गए। 27 होम क्वारेंटाइन होकर शीघ्र ही रिकवर होने की स्थिति में हैं। बिनोता में भी हालात काबू में हैं। लसड़ावन, ऊंखलिया व सतखंडा के पॉजिटिव में से कुछ होम क्वारेंटाइन व कुछ निंबाहेड़ा कोविड सेंटर में उपचाररत हैं।

खबरें और भी हैं...