बारिश:ऐ बारिश, तू बेमौसम ही आती है तो क्या,हमें तो रोटी का जुगाड़ भी करना है, ऐसे कैसे भागे

चित्तौड़गढ़एक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

बेमौसम बारिश आ गई तो क्या.. हमें शाम की दो रोटी का जुगाड़ करना है। अगर हमारे ये गुडडे रोड पर दिखेंगे नहीं तो बिकेंगे कैसे। इसलिए जिन कटटों पर बैठे थे। बरसात से बचाव के लिए उनको ही ओढकर बैठ गए। रविवार शाम अचानक पलटे मौसम की यह मार्मिक तस्वीर निम्बाहेड़ा में बस स्टैंड के बाहर की है। तीन बच्चे मेन रोड पर प्लास्टिक के गुडडे सजाकर बैठे थे। इसी बीच बारिश शुरू हो गई। काफी देर तक रिमझिम के बीच भी ये बच्चे इस तरह अपनी दुकान लगाए बैठे रहे। जब बारिश और तेज हो गई तो उदास चेहरों के साथ सामान समेटकर चले गए।

खबरें और भी हैं...