परेशानी:ऑक्सीजन प्लांट 2 घंटे बंद रहा, गाड़ियां भरने में हुई देर; रखरखाव के लिए कुछ देर प्लांट बंद करना बताया

चित्तौड़गढ़6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
ऑक्सीजन प्लांट में गतिरोध के दौरान पहुंचे एडीएम। - Dainik Bhaskar
ऑक्सीजन प्लांट में गतिरोध के दौरान पहुंचे एडीएम।

ऑक्सीजन को लेकर इन दिनाें सब तरफ हाहाकार है, वहीं आजाेलिया का खेड़ा रीकाे में ऑक्सीजन गैस प्लांट पर बुधवार को विवाद की स्थिति सामने आई। सूचना पर कलेक्टर ने एडीएम को भेजा। बताया गया कि प्लांट करीब दो घंटे बंद रहा। आजोलिया का खेड़ा में स्थित निजी ऑक्सीजन संयत्र को प्रशासन ने अधिग्रहित कर रखा है।

जहां से आक्सीजन चित्ताैड़गढ़ समेत 8 जिलों में चिकित्सकीय उपयाेग के लिए भेजी जा रही है। बुधवार दोपहर प्रशासन की ओर से लगाए नियंत्रण अधिकारी गंगरार एसडीएम मुकेश मीणा पर अाराेप लगे। उनके कारण संयत्र बंद होने की सूचना पर कलेक्टर ताराचंद मीणा ने एडीएम अंबालाल मीणा को भिजवाया। एडीएम मीणा के अनुसार प्लांट में दो यूनिट हैं।

एक का संचालन बंद था। इसके पीछे वजह बताई कि दूसरे जिलों से जो गाडियां आनी थीं, वे नहीं आई। राेस्टर सिस्टम से गाडियां लाेड की जाती हैं। एक यूनिट को कभी-कभी मैंटेनेंस के लिए भी बंद करना हाेता है। दूसरी ओर वहां मौजूद गाडियों के चालकों का आरोप था कि गंगरार एसडीएम के कारण ही उनके वाहन रुके हुए हैं।

प्लांट कार्मिकों ने एसडीएम का हवाला देते हुए गाडियां लोड करने से मना कर दिया। इसी कारण से प्लांट बंद हुआ। बाद में एडीएम के आने पर गाडियां लोड हुई और सयंत्र भी चालू हुआ। मैंने किसी गाडी काे लाेड हाेने से मना नहीं किया। आराेप गलत है। संभागीय आयुक्त के निर्देश पर आज ही 8 जिलाें को यहां से सप्लाई भेजी गई। रखरखाव के कारण कुछ देर के लिए एक यूनिट बंद रही।
मुकेशकुमार मीणा, एसडीएम, गंगरार

खबरें और भी हैं...